आज से कोविशील्ड या कोवैक्सिन ले चुके लोग भी लगवा सकेंगे कॉर्बेवैक्स की बूस्टर डोज, जानें गाइडलाइन

राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) ने 18 साल से ज्यादा उम्र के वयस्कों के लिए कॉर्बेवैक्स वैक्सीन को बूस्टर डोज के रूप में लगवाने की मान्यता दी है।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Aug 12, 2022Updated at: Aug 12, 2022
आज से कोविशील्ड या कोवैक्सिन ले चुके लोग भी लगवा सकेंगे कॉर्बेवैक्स की बूस्टर डोज, जानें गाइडलाइन

Corbevax Vaccine: कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने वालों के लिए आज से  जैविक 'ई कॉर्बेवैक्स बूस्टर शॉट' भी उपलब्ध होगा। भारत सरकार ने  ई कॉर्बेवैक्स बूस्टर डोज को मान्यता दे दी है। केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई गाइडलाइन में कहा गया है कि भारत में जिन लोगों ने कोवैक्सिन और कोविशील्ड वैक्सीन लगवाई है वो भी जैविक ई कॉर्बेवैक्स का बूस्टर डोज लगवा सकेंगे। 

पिछले महीने वैक्सीनेशन पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) ने 18 साल से ज्यादा उम्र के वयस्कों के लिए कॉर्बेवैक्स वैक्सीन को बूस्टर डोज के रूप में लगवाने की मान्यता दी है। 4 जून 2022 को हैदराबाद स्थित फार्मास्युटिकल और वैक्सीन कंपनी बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड (BE) की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया था कि कॉर्बेवैक्स कोविड-19 वैक्सीन को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने अप्रूव कर दिया है।

इसे भी पढ़ेंः कोरोना के बीच अब मारबर्ग वायरस ने दी दस्तक, 2 पॉजिटिव मरीजों की मौत, WHO ने जारी की चेतावनी

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कॉर्बेवैक्स को बूस्टर डोज के तौर पर दिए जाने पर कहा कि देश में ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि जब पहली और दूसरी खुराक के तौर पर दिए गए किसी टीके से अलग बूस्टर डोज के लिए नई वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाएगा। राजेश भूषण ने कहा कि देश में 18 साल से अधिक उम्र के जिन लोगों को कोवैक्सीन या कोविशील्ड की दूसरी खुराक लिए 26 सप्ताह या 6 महीने का वक्त बीत चुका है, वो बूस्टर डोज के तौर पर कॉर्बेवैक्स वैक्सीन की खुराक ले सकते हैं। भूषण ने कहा, 'इससे इस उम्र वर्ग में एहतियाती खुराक के तौर पर कॉर्बेवैक्स का कोविड-19 के दूसरे टीके के तौर पर उपयोग हो पाएगा।'

कॉर्बेवैक्स की अब तक 10 करोड़ वैक्सीन की आपूर्ति

दवा निर्माता कंपनी बायोलॉजिकल ई लिमिटेड की ओर से जारी की गई प्रेस रिलीज में कहा गया है कि उन्होंने केंद्र सरकार को बूस्टर डोज के लिए अब तक कार्बेवैक्स वैक्सीन की 10 करोड़ डोज उपलब्ध करवाई है। जानकारी के लिए बता दें कि भारत के पहले स्वदेशी आरबीडी प्रोटीन सबयूनिट 'कॉर्बेवैक्स' वैक्सीन को इस साल 16 मार्च को डीजीसीआई द्वारा 12 से 14 साल के बच्चों के लिए मंजूरी दी गई थी। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में अब तक 7 करोड़ लोगों को कॉर्बेवैक्स वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी हैं और 2.9 करोड़ बच्चे इस वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं।

इसे भी पढ़ेंः मानसून में संक्रमण से बचना है, तो इन चीजों को छूने के बाद जरूर धोएं हाथ

कहां उपलब्ध होगी कॉर्बेवैक्स वैक्सीन?

केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है कि कॉर्बेवैक्स वैक्सीन बूस्टर डोज के तौर पर सभी सरकारी और निजी वैक्सीनेशन सेंटर पर उपलब्ध होगी। सरकारी केंद्रों पर कॉर्बेवैक्स वैक्सीन मुफ्त में लगाई जाएगी, जबकि निजी टीकाकरण केंद्रों के लिए कॉर्बेवैक्स वैक्सीन की 250 रुपये होगी। 250 रुपये में वैक्सीन जीएसटी के साथ उपलब्ध होगी।

Disclaimer