कामयाब शादी के पीछे आपके जीन्स भी होते हैं महत्वपूर्ण, समझें शादी के पीछे जीनोटाइप का गणित

एक कामयाब शादी हमेशा ही उन दो लोगों पर निर्भर करती है, जो इसे चला रहे होते हैं। पर साइंस की मानें, तो इसके पीछे इन दोनों पार्टनर्स के जीनोटाइप का भी एक अहम योगदान है। आइए हम आपको बताते हैं कि ऐसा कैसे हो सकता है?

 
Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Nov 19, 2019
कामयाब शादी के पीछे आपके जीन्स भी होते हैं महत्वपूर्ण, समझें शादी के पीछे जीनोटाइप का गणित

प्यार और शादी दोनों ऐसा चीज है, जहां इंसान की लॉजिकल बुद्धि काम करना बंद कर देती है। इसलिए भी अक्सर कहा जाता है कि प्यार अंधा होता है। पर साइंस की मानें, तो ये सब बस बाते हैं। इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं, जिसमें एक है प्यार या शादी करने वाले दो लोगों की जीन। आपको ये अजीब लग रह होगा पर ऐसा है। एक रिश्ते में रहने वाले दो लोगों के जीन्स, उनके रिश्ते को कामयाब करने और न करने में एक अहम रोल अदा करती है। हो सकता है कि आपको ये बातें ऐसे समझ न आएं। तो आइए हम आपको समझाते कि कैसे एक कामयाब शादी के पीछे कुछ अनुवांशिक कारण भी होते हैं। 

Inside_genotype marriage

एक कामयाब शादी में आपके जीन्स कैसे एक मुख्य भूमिका निभाते हैं?

फैमिली जीनोटाइप से प्रभावित हो सकती है आपकी शादी-

जीन डीएनए के ऐसे सेगमेंट होते हैं, जो किसी विशेष लक्षण को एनकोड करते हैं। एक बच्चा अपने माता-पिता दोनों से विरासत में प्राप्त दो एलील्स का संयोजन यानी कि एक जीनोटाइप लेते हैं और उनका प्रतिनिधित्व करते है। जीनोटाइप में अंतर व्यक्तियों में उस विशेषता के भीतर आपको अक्सर नजर आ जाएगा। जैसे एक ही मां-बाप के दो बच्चे हैं, जिसमें से एक एक खुशहाल शादीशुदा जिंदगी जी रहा है और दूसरा नहीं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अगर आपको माता-पिता या दादा-दादी में से जिसके जीन आपके साथ ज्यादा एक जैसे कैरेक्टर शॉ करते हैं, वे लगभग वैसी ही चीजें करते हैं। आपको लग सकता है कि आपके परिवार में ऐसा तो कोई नहीं था, जिसकी शादी नहीं चल पाई और आपका बच्चा ही पहला है, तो ये पूरी तरह से गलत हो सकता है। यानी कि इस बात के बहुत चासेंच होते हैं कि आपके परिवार में बाकी रिश्ता कैसा चला है, वैसे ही आपकी शादी चले।

इसे भी पढ़ें : हनीमून स्टेज के बाद कपल्‍स के रिश्ते में आते हैं 4 बड़े के बदलाव

ऑक्सीटोसिन रिसेप्टर (ओएक्सटीआर) जीन के कारण-

हालांकि जीन की एक विस्तृत श्रृंखला में अलग-अलग अंतर होते हैं, जो माना जाता है कि शादी के लिए प्रासंगिक है। विशेष रूप से ऑक्सीटोसिन रिसेप्टर (ओएक्सटीआर) जीन। ऑक्सीटोसिन, जिसे कभी-कभी लव हार्मोन के रूप में संदर्भित करते हैं ये एक भावनात्मक जुड़ाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उदाहरण के लिए, ऑक्सीटोसिन बच्चे के जन्म के समय एक नई माँ को बांध देता है और यह सेक्स के दौरान पार्टर से। इसलिए, जीन जो ऑक्सीटोसिन, ओएक्सटीआर को नियंत्रित करता है, वह शादी के खुशहाल होने या न होने पर प्रभाव डाल सकता है। इसके अलावा ऑक्सीटोसिन रिसेप्ट मानव सामाजिक व्यवहार से जुड़ी घटनाओं में आपकी भूमिका तय करने में भी मदद करता है।

अनुवांशिक भिन्नता और वैवाहिक गुणवत्ता-

ओएक्सटीआर जीन पर दो विशिष्ट स्थानों पर अपना ध्यान केंद्रित करता है: पहला rs1042778 और दूसरा rs4686302। ये जीन आपकी समझ को बढ़ावा देने में मदद करता है। साथ ही वैवाहिक गुणवत्ता के साथ उच्च गुणवत्ता वाला सामाजिक समर्थन जुड़ा हुआ है, जिसका कारण कहीं न कहीं आपका जीन भी है। साथ ही, पति और पत्नी दोनों के लिए प्रत्येक ओएक्सटीआर साइट पर आनुवांशिक भिन्नता इस बात पर को तय करती है कि वे दोनों एक दूसरे की भिन्नता को किस तरह से लेंगे। इसी तरह से जीन के कई लक्षण व्यक्तियों के सकारात्मक कौशल को भी बढ़ावा देता है और ओएक्सटीआर में भिन्नता और कमी एक शादी में कई मुश्किलों का कारण हो सकती है। जैसे हमेशा अपने पार्टनर की बात को गतल समझना और नकारात्मक तरीके से हर चीज को लेना इत्यादि।

इसे भी पढ़ें : क्या आपको भी शादी से लगता है डर? कहीं आप गामोफोबिया के शिकार तो नहीं, जानें लक्षण

टीटी जीनोटाइप वैवाहिक संबंधों को सफल बनाने में मदद करता है-

एक जीन एक विवाह को बना या तोड़ सकता है, जिससे मालूम पड़ता है कि कैसे आनुवंशिकी विवाह की परेशानियों को कम भी करता है और बढ़ाता भी है। यह संभव है कि किसी साथी के आनुवंशिक प्रोफ़ाइल के बाकी हिस्सों के आधार पर कुछ जीन कम या अधिक हानिकारक हो सकते हैं। शोधकर्ताओं की मानें को एक कामयाब शादी में दोनों के इंटिमेट रिलेशनशिप का बहुत बड़ा हाथ होता है। ये मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर तनाव के घातक प्रभावों को दूर कर सकता है। इस हद तक कि विशेष टीटी जीनोटाइप किसी व्यक्ति की समर्थित महसूस करने की क्षमता को बिगाड़ सकता है, वह व्यक्ति तनाव के प्रभावों के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकता है। वो सेक्स के समय नकारात्मक भी महसूस कर सकता है। इस प्रकार, ओएक्सटीआर पर टीटी जीनोटाइप के लिए स्क्रीनिंग पुरूष या स्त्री के भीतर तनाव-संबंधी समस्याओं के जोखिम की पहचान करने में मदद कर सकता है। ओएक्सटीआर पर कई अन्य संभावित रूप से प्रासंगिक स्थान भी हैं, साथ ही अन्य जीन भी जो रिश्तों के लिए प्रासंगिक हो सकते हैं। 

Read more articles on Marriage in Hindi

Disclaimer