Expert

डीप फ्राई, कच्चा या उबालकर, किस तरह मशरूम खाना है ज्यादा हेल्दी? जानें एक्सपर्ट से

न्यूट्रिशनिस्ट का मानना है कि मशरूम में विटामिन बी, डी, फोलेट, मैग्नीशियम, फाइबर, कॉपर और कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं।

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jul 20, 2022Updated at: Jul 21, 2022
डीप फ्राई, कच्चा या उबालकर, किस तरह मशरूम खाना है ज्यादा हेल्दी? जानें एक्सपर्ट से

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय घरों में कुछ सब्जियों का प्रयोग तेजी से बढ़ा है। इन्हीं सब्जियों में से एक है मशरूम। मशरूम खाना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। मशरूम में पाए जाने वाले विटामिन डी, कैल्शियम, प्रोटीन और पोटैशियम शरीर को कई बीमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं। पूरी दुनिया में मशरूम की लगभग 14 हजार से ज्यादा प्रजातियां पाई जाती हैं लेकिन खाने में सिर्फ लगभग 3 हजार प्रजातियों का ही इस्तेमाल किया जाता है। जब बात मशरूम को खाने की आती है, तो कुछ लोग इसे उबालकर खाना पसंद करते हैं, कुछ तलकर खाते हैं, तो कुछ इसे सलाद के तौर पर कच्चा ही खाते हैं। लेकिन कभी आपने सोचा है कि मशरूम खाने का सही तरीका क्या है?

मशरूम खाने का सही तरीका क्या है इसके लिए हमने हमने दिल्ली के ऑर्थो सीटी क्लीनिक में प्रैक्टिस कर रहीं डाइटिशियन और न्यूट्रीशनिस्ट मीता कौर मधोक से बातचीत की।

क्या है मशरूम को पकाने का सही तरीका?

न्यूट्रिशनिस्ट का मानना है कि मशरूम में विटामिन बी, डी, फोलेट, मैग्नीशियम, फाइबर, कॉपर और कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं। ये सभी पोषक तत्व एक-दूसरे से काफी अलग हैं। इसलिए, पोषण मूल्य को बनाए रखने के लिए मशरूम को सही तरीके से पकाना जरूरी है। कई लोग मशरूम को उबालते हैं और फिर फ्राई करते हैं या पकाते हैं। इससे मशरूम का स्वाद तो बढ़ जाता है, लेकिन कई बार इस प्रोसेस को अपनाने की वजह से पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। डाइटिशियन और न्यूट्रिशनिस्ट मीता कौर मधोक का कहना है कि मशरूम एक कवक है, इसलिए इसे हमेशा हल्का तलकर या भूनकर ही खाना चाहिए।

क्या मशरूम को तल कर खाना सही है?

बारिश के मौसम में कुछ लोग मशरूम के पकौड़े खाना काफी पसंद करते हैं। तले हुए मशरूम खाने में स्वादिष्ट होते हैं, लेकिन गर्म तेल में तलने की वजह से इसके पोषक तत्वों पर असर पड़ता है। स्पेन में ला रियोजा के मशरूम टेक्नोलॉजिकल रिसर्च सेंटर की एक रिसर्च के मुताबिक, मशरूम को तलने से इसमें पाए जाने वाले प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट्स कम हो जाते हैं। न्यूट्रीशनिस्ट मीता कौर मधोक का भी मानना है कि मशरूम को तलकर खाने से यह सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। उन्होंने कहा कि मशरूम को हमेशा ग्रिल करके या हल्का तलकर ही खाना चाहिए।

इसे भी पढ़ेंः सावन में व्रत के दौरान न करें ये गलतियां, नहीं महसूस होगी कमजोरी

क्या मशरूम को कच्चा खाया जा सकता है?

कुछ लोग मशरूम को सलाद के तौर पर कच्चा ही खाना पसंद करते हैं। मशरूम को कच्चा खाना सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। दरअसल, मशरूम में रेशे होते हैं। अगर इन्हें कच्चा खाया जाए, तो ये गले और स्किन इंफेक्शन का कारण बन सकते हैं।

मशरूम खाने के फायदे

स्तन और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव

एक रिसर्च के मुताबिक, नियमित तौर पर एक निश्चित मात्रा में मशरूम खाने से स्तन और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव किया जा सकता है। मशरूम में एंटी-ट्यूमर, इम्यूनोमॉड्यूलेटरी व एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा मशरूम में फेनोलिक यौगिक भी पाया जाता है, जो महिलाओं को होने वाले स्तन कैंसर से बचाव करने में मददगार साबित हो सकता है।

डायबिटीज में फायदेमंद

एनसीबीआई द्वारा किए गए एक शोध में यह बात सामने आई है कि मशरूम में एंटी-डायबिटिक गुण पाए जाते हैं, जो ब्लड में मौजूद शुगर लेवल को कम करने में मदद कर सकते हैं। मशरूम का सेवन करके डायबिटीज जैसी लाइलाज बीमारी से बचा जा सकता है। मशरूम का उपयोग डायबिटीज को दूर करने वाली दवाओं के साथ किया जाए, तो ये शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बेहतर करने में सहायक साबित हो सकता है।

इम्यूनिटी को करता है स्ट्रांग

हम पहले भी बता चुके हैं कि मशरूम कई पोषक तत्वों का खजाना है। इसको खाने से इम्यूनिटी स्ट्रांग होती है। दरअसल, मशरूम में पॉलीसेकेराइड्स (Polysaccharides) पाए जाते हैं, जो इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने में मददगार साबित होते हैं। इसके अलावा मशरूम विटामिन-डी का भी अच्छा स्त्रोत है, जिस वजह से हड्डियां मजबूत होती हैं।

इसे भी पढ़ेंः सुष्मिता सेन 46 की उम्र में भी दिखती हैं जवां, जानिए क्या है उनकी खूबसूरती का राज

एक दिन में कितना मशरूम खाना चाहिए?

जब बात मशरूम को खाने के पोर्शन की आती है, तो विशेषज्ञ एक दिन में 100 ग्राम के लगभग मशरूख खाने की सलाह देते हैं। 100 ग्राम मशरूम में 22 कैलोरीज पाई जाती हैं। अगर इससे ज्यादा मात्रा में मशरूम का सेवन किया जाए, तो यह मोटापा और वजन बढ़ने का कारण बन सकता है।

Disclaimer