जानें किन खाद्य पदार्थों को लेकर कंपनियां करती हैं झूठे दावे और कैसे ये आपकी सेहत को पहुंचाते हैं नुकसान

क्या आप भी कुछ फूड कंपनियों के उत्पाद से छले गए हैं। तो आइए जानते हैं किस किस उत्पाद के बारे में आप को क्या क्या जानना जरूरी है। 

 
Monika Agarwal
स्वस्थ आहारWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 16, 2020Updated at: Sep 16, 2020
जानें किन खाद्य पदार्थों को लेकर कंपनियां करती हैं झूठे दावे और कैसे ये आपकी सेहत को पहुंचाते हैं नुकसान

अक्सर ऐसा होता है कि कुछ उत्पादों कि कम्पनियां अपने उत्पाद में बहुत गुण होने का दावा करती हैं, जो बिल्कुल भी सच नहीं होते। ऐसे में आप बहुत कंफ्यूज हो जाते हैं कि आप को क्या खरीदना चाहिए और क्या नहीं। असल में कुछ चीजों को खरीदने से पहले विशेष सावधानी की जरूरत है। ताकि आपको मालूम चल सके कि आप एक असली चीज ले भी रहे हैं या नहीं। 

healthy diet

नकली जैतून तेल (Fake Olive Oil)

क्या आप जिस जैतून तेल का प्रयोग कर रहे हैं वह पूरी तरह से असली है? कुछ ऑलिव ऑयल की कम्पनियां ऑलिव ऑयल में किसी अन्य तरह का तेल जैसे मूंगफली का तेल भी मिला देते हैं। इससे पता नहीं चलता है कि यह पूर्ण रूप से ऑलिव है या नहीं। ऐसा सम्भव है कि आप को इस तेल से एलर्जी की समस्या हो। इसलिए खरीदने से पहले तेल के बारे में अच्छे से जांचे।

शहद (Drugs in Your Honey)

शहद के बारे में तो आप जानते ही हैं। शहद को हम एक हेल्दी चीज मानते हैं और एक प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में इसका प्रयोग भी करते हैं। परंतु इसमें भी बहुत सारे एंटी बायोटिक का प्रयोग किया जाता है। इनसे न केवल शहद हानिकारक बनता है बल्कि आप के बीमार होने की संभावना भी बढ़ जाती है। 

नेचुरल फ्लेवर न होना (Not-So-Natural Flavorings)

कुछ उत्पाद नेचुरल फ्लेवर होने का दावा करते हैं, परन्तु वे आप को भ्रमित करते हैं। प्राकृतिक फ्लेवर जैसी कोई चीज नहीं होती है। वह आप की हेल्थ के लिए बढ़िया नहीं रहते हैं। यदि आप सच में कुछ हेल्दी ऑप्शन ट्राई करना चाहते हैं तो कोई फ्लेवर वाली चीज न खाएं बल्कि उसको ओरिजिनल रूप में ही खाएं।यदि आप स्वस्थ खाना चाहते हैं, तो मूल प्राकृतिक स्वादों के साथ रहें।

मसाले (The Icky Side of Spices)

क्या आप जानते हैं कि जब आप किसी सुपर मार्केट से या कहीं से कोई मसाले का डिब्बा खरीदते हैं तो उसमे कितने फ्लेवर व कितने नुक़सान दायक सुगन्ध का प्रयोग किया जाता है। लेकिन यह भी सच है कि इन पर सरकार द्वारा प्रतिबन्ध लगे होने के कारण, कंपनी ज्यादा मात्रा में नुक़सान दायक चीजों का प्रयोग नहीं कर सकती। फिर भी मसाले आदि खरीदने से पहले एक बार उसके इंग्रेडिएंट्स पर जरूर नजर डालें।

इसे भी पढ़ें: क्‍या अचार से दिल की सेहत पर पड़ता है बुुरा असर? रुजुता दिवेकर से जानें इससे जुड़े मिथक

सफेद चॉकलेट (White Chocolate)

सफेद चॉकलेट आप को खाने में बहुत स्वादिष्ट लगती होंगी। परंतु वह असल में चॉकलेट होती ही नहीं हैं। चॉकलेट को बनाने के लिए कम से कम 10 प्रतिशत चॉकलेट शराब(liquor) जैसे कोकोआ बटर व बीन आदि का प्रयोग करना जरूरी होता है। परंतु इस में ऐसी किसी चीज का प्रयोग नहीं किया जाता।

फ्रूट जूस (Fruit Juice)

जब आप डिब्बे में बन्द फ्रूट जूस लेते हैं तो वह भी पूरी तरह से फ्रूट जूस नहीं होता है। इसमें अन्य चीज़ों का रस या सस्ते जूस जैसे सफेद अंगूर आदि का भी प्रयोग किया जाता है। जिस को शायद आप ने कभी सोचा भी नहीं होगा। परंतु यदि आप सोचते हैं कि 100 प्रतिशत असली जूस का दावा करने वाली कम्पनियां असली जूस देंगी तो, शायद आप गलत हों। ऐसा कभी नहीं होता है। अतः इंग्रेडिएंट्स चैक अवश्य करें।

इसे भी पढ़ें: रोजाना सिर्फ 1 चम्मच हलीम के बीज (चमसुर) खाने से आपको मिलेंगे ये 5 जबरदस्त फायदे, जानें चमसुर की खासियत

ऑरेंज जूस (Orange Juice)

ऑरेंज जूस में भी कई सारे ऐसे फ्लेवर मिले होते हैं जिनसे जूस को ऑरेंज का फ्लेवर मिलता है। इसके अलावा, निर्माता एक वर्ष से अधिक समय तक रस को स्टोर कर सकता है। इसलिए वे स्वाद बढ़ाने के लिए अन्य कंपनियों को जूस में शामिल करते हैं, ताकि इसका स्वाद ताजा हो जाए। ये पैक अक्सर उन्हीं कंपनियों द्वारा बनाए जाते हैं जो इत्र बनाती हैं। अतः हम यह कह सकते हैं कि हम ऑरेंज जूस की जगह केवल केमिकल्स का ही सेवन कर रहे हैं। जो कि बहुत हानिकारक हो सकते हैं।

Read More Article On Healthy Diet In Hindi 

Disclaimer