Doctor Verified

सेलेब्रिटी हों या नौकरीपेशा युवा, क्यों बढ़ रहे हैं सुसाइड के मामले? मनोवैज्ञानिक से समझें कारण

Celebrities Suicide in Young Age: सेलेब्रिटी हों या नौकरीपेशा सफल युवा सभी में आत्महत्या के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, जानें इसके पीछे का कारण और बचाव।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Dec 28, 2022 15:21 IST
सेलेब्रिटी हों या नौकरीपेशा युवा, क्यों बढ़ रहे हैं सुसाइड के मामले? मनोवैज्ञानिक से समझें कारण

Celebrities Suicide in Young Age: आज के समय में अखबार हों या न्यूज रिपोर्ट्स हर जगह आपको हर दूसरे दिन किसी न किसी की आत्महत्या की खबर जरूर मिल जाएगी। हाल के दिनों में 21 साल की टीवी एक्ट्रेस तुनिषा शर्मा ने शूटिंग के दौरान सेट के वॉशरूम में आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद आज एक और मशहूर सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर लीना नागवंशी के खुदकुशी करने की खबर सामने आई है। आपको बता दें कि लीना नागवंशी भी महज 22 साल की थीं। बेहद कम उम्र में आत्महत्या के बढ़ते मामले बेहद चौंकाने वाले हैं। जिंदगी की छोटी-छोटी मुश्किलों से घबराकर उनका सामना करने के बजाय आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति युवा पीढ़ी के लिए बहुत गंभीर हैं। 15 साल से लेकर 35 साल की उम्र के तमाम सेलेब्रिटी और नौकरीपेशा लोगों के आत्महत्या करने की खबरे चिंता की बात है। एक तरफ जहां समाज सामाजिक और वैश्विक रूप से आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ सफल और अच्छा काम कर रहे लोगों के खुदकुशी की खबरें बेहद गंभीर हैं।  

बेहद कम उम्र में इन सेलेब्रिटीज ने की आत्महत्या- Celebrities Suicide in Young Age 

तुनिषा शर्मा से पहले भी कई ऐसे मशहूर और सफल अभिनेता और अभिनेत्रियों ने आत्महत्या की है। टीवी अभिनेत्री वैशाली ठक्कर, विवेका बाबाजी, प्रत्युषा बनर्जी समेत मशहूर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की खबरें पहले आ चुकी हैं। बीते कुछ सालों में फिल्म एक्टर समेत कई ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें युवाओं की आत्महत्या की खबरे ज्यादा हैं। वैसे तो किसी भी उम्र के लोगों में आत्महत्या की प्रवृत्ति देखने को मिलती है, लेकिन पिछले कुछ सालों से 15 साल से लेकर 35 साल की उम्र वाले लोगों में सुसाइड के माले ज्यादा देखने को मिले हैं। आत्महत्या करने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे नौकरी न मिलना, परीक्षा में फेल होना और सामाजिक व आर्थिक तनाव आदि। लेकिन सफल अभिनेता या अभिनेत्रियों के अलावा करियर में अच्छा कर रहे नौकरीपेशा लोग हों या व्यापारी इनका कम उम्र में सुसाइड करना बेहद गंभीर है।

Celebrities Suicide in Young Age

इसे भी पढ़ें: टीनएज बच्चों में तेजी से बढ़ रहे आत्महत्या के मामले, जानें नाकारात्मक विचारों से लड़ने के 5 उपाय

युवाओं में क्यों बढ़ रहे आत्महत्या के मामले?- Factors Leading to Increased Cases of suicides

बीते कुछ सालों में भारत समेत दुनियाभर के कई देशों में आत्महत्या के मामले तेजी से बढ़े हैं। आंकड़ों पर गौर करें तो सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में आत्महत्या करने का आंकड़ा बहुत ज्यादा है। युवा और बच्चे भी अप इसके चपेट में अ रहे हैं। विश्व स्वस्थ्य संगठन द्वारा जारी एक आंकड़े के मुताबिक दुनियाभर में हर साल लगभग 8 लाख लोग मानसिक स्थितियों के कारण आत्महत्या कर लेते हैं और इसमें भारत से लगभग 17 प्रतिशत लोग शामिल हैं। दिल्ली के मशहूर मनोचिकित्सक और मेंटल हेल्थ काउंसलर डॉ. धर्मेंद्र सिंह कहते हैं कि आत्महत्या करने के पीछे कई तरह के फैक्टर्स जिम्मेदार होते हैं। ज्यादातर आत्महत्या के मामले डिप्रेशन और मानसिक तनाव की वजह से होते हैं। युवाओं में तेजी से बढ़ रहे आत्महत्या के मामलों के पीछे ये कारण जिम्मेदार हैं-

  • तेजी से बढ़ता तनाव
  • डिप्रेशन और अन्य मानसिक समस्याएं
  • भागदौड़ भरी जीवनशैली और आर्थिक समस्याएं
  • सोशल मीडिया का प्रभाव
  • मदद लेने में हिचकिचाना
  • अनट्रीटेड मेंटल इलनेस
  • रिलेशनशिप का न चल पाना
  • करियर और व्यापार में फेलियर

आत्महत्या को कैसे रोका जा सकता है?- How to Prevent Suicide in Young Adults?

किसी भी व्यक्ति के द्वारा आत्महत्या करने से पहले उसके मन में तमाम तरह के विचार बनते हैं। ऐसे लोगों के शारीरिक और मानसिक स्तर में भी बदलाव देखने को मिलता है। अगर सही समय पर आत्महत्या के ख्याल को रोका जाए तो व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है। इसके लिए आपको अपने आसपास ऐसे लोगों पर नजर बनाकर रखनी चाहिए। अगर आपका कोई दोस्त, परिवार का व्यक्ति या सहकर्मी ऐसे विचारों से जूझ रहा है तो उसकी मदद जरूर करें। इसके अलावा अगर कोई व्यक्ति परिवार या दोस्तों से बातचीत बंद कर देता है, नकारात्मक विचारों में डूबा हुआ है और उसके व्यवहार में बदलाव आ गया है तो उसे सही समय पर साइकोलॉजिकल फर्स्ट एड जरूर पहुंचाएं।

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन क्यों होता है? डॉक्टर से समझें डिप्रेशन कैसे धकेलता है आत्महत्या की तरफ

आत्महत्या को रोकने के लिए सामाजिक तौर पर उसके खिलाफ होने और एकजुट होने की जरूरत है। किसी भी तरह की मदद के लिए आप सुसाइड प्रिवेंशन इंडिया फाउंडेशन के इस फोन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं- +(91)-80470-96367

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer