Coronavirus Mask: हर किसी को मास्‍क पहनने की नहीं है जरूरत, मुंह पर मास्‍क लगाने से पहले जरूर जानें ये 8 बातें

Coronavirus And Mask: केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय, भारत सरकार ने मास्‍क पहनने के दिशा-निर्देश दिए हैं, जिसके बारे में आप यहां विस्‍तार से पढ़ें।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Mar 18, 2020
Coronavirus Mask: हर किसी को मास्‍क पहनने की नहीं है जरूरत, मुंह पर मास्‍क लगाने से पहले जरूर जानें ये 8 बातें

इसे कोरोनावायरस का खौफ कहें या सावधानी बरतने के लिए उठाया गया कदम, जिसने हर किसी को मुंह पर मास्‍क लगाने के लिए मजबूर कर दिया है। सड़क पर चलने वाले व्‍यक्ति से लेकर बस, ट्रेन, मेट्रो और हवाई जहाज में सफर करने वाले मुंह पर मास्‍क लगाकर घूम रहे हैं। जबकि, मास्‍क किसे लगाना है और किसे नहीं, इस मुद्दे पर विशेषज्ञों की अलग थ्‍योरी है, जिसे हम सभी को समझना चाहिए। एक्‍सपर्ट मानते हैं कि, किसी बात को पैनिक बनाने से बेहतर है कि उसकी सच्‍चाई को जानने का प्रयास किया जाए। 

अगर आपके भी दिमाग में ये सवाल उठ रहे हैं कि इस कोरोनावायरस के प्रकोप में मास्‍क पहनें या न पहनें, मास्‍क को पहनने के दौरान सावधानी क्‍या बरतें और मास्‍क कब पहनें जैसे सवालों के सबसे सटीक जवाब हम आपको यहां दे रहे हैं।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बताए, मास्‍क किसे पहनने चाहिए?

Corona-Virus-in-india

जैसा कि, केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय द्वारा बताया गया है कि, मास्‍क हर किसी को पहनने की आवश्‍यकता नहीं है। कोरोनावायरस की मौजूदा स्थिति में मास्‍क कुछ विशेष लोगों को ही लगाने की आवश्‍कता है, जो निम्‍नलिखित है:

  • मास्‍क केवल तभी पहनें जब आपमें कोरानावायरस के लक्षण जैसे: सांखी, बुखार या सांस लेने में कठिनाई महसूस करते हैं।
  • जब आप कोरोनावायरस से संक्रमित व्‍यक्ति की देखभाल कर रहे हों तब भी आप मुंह पर मास्‍क लगा सकते हैं।
  • यदि आप स्‍वास्‍थ्‍य कार्यकर्ता हैं और आप कोरोना से प्रभावित मरीज की देखभाल कर रहे हों तब आपको मास्‍क लगाने की आवश्‍यकता है।  

मास्‍क पहनने के दौरान ध्‍यान रखने योग्‍य 8 बातें:

  • मास्‍क लगाते और खोलते समय उसके प्‍लीट (मुखौटे) को हमेशा नीचे की तरफ से खोलें या लगाएं। 
  • मास्‍क गीला होने पर बदलें और हर 6 घंटे पर बदलें।
  • मास्‍क को सही तरीके से अपने मुंह पर फिट करें, ध्‍यान रखें कि मास्‍क के किसी भी तरफ गैप न हो। हमेशा नाक, मुंह और ठोड़ी के ऊपर ही लगाएं।
  • डिस्‍पोजेबल मास्‍क का दोबारा प्रयोग करने से बचें और प्रयोग कर चुके मास्‍क को कीटाणुरहित कर उसे डस्‍टबिन में ही डालें।
  • जब आप मुंह पर मास्‍क लगाएं तो उसे बार-बार छूने से बचें।
  • जब आप मास्‍क को निकालें तो उसकी गंदी सहत को न छूएं।

मास्‍क पहनने का तरीका जानने के लिए देखें ओनली माई हेल्‍थ वीडियो:

कौन सा मास्‍क बेहतर होता है?

अक्‍सर, जानकारी न होने पर लोग मास्‍क को लेकर परेशान हो जाते हैं। आमतौर पर एन-96 मास्‍क ज्‍यादा चलन में है, मगर इसकी जरूरत नहीं है। जो डॉक्‍टर सीधे मरीज को छू रहा है या जांच कर रहा है सिर्फ उसे ही एन-96 मास्‍क की जरूरत है। जब एन-95 मास्‍क सिर्फ सैंपल लेने वाले डॉक्‍टर्स को जरूरत पड़ती है। डॉ प्रीता राजारमन कहती हैं, "आजकल मार्केट में कई तरह के मास्‍क बिक रहे हैं, लेकिन सबसे अच्‍छा कौन सा है, वही जो आपको सही से फिट हो, मास्‍क को अपने चेहरे पर रखें और देखें कि वह आपके मुंह और नाक को अच्‍छी तरह से ढकें। योग की तरह गहरी सांस लें, अगर कोई समस्‍या नहीं हो रही है तो यह ठीक है।"

Read More Articles On Miscellaneous In Hindi

Disclaimer