पैकेटबंद और प्रॉसेस्ड फूड्स ज्यादा खाने की है आदत, तो आपकी सेहत को हो सकते हैं ये 6 नुकसान

बाजार में मिलने वाले ज्यादातर पैकेटबंद और प्रॉसेस्ड फूड्स में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जो लंबे समय में आपकी सेहत को बुरी तरह नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Mar 24, 2021Updated at: Mar 24, 2021
पैकेटबंद और प्रॉसेस्ड फूड्स ज्यादा खाने की है आदत, तो आपकी सेहत को हो सकते हैं ये 6 नुकसान

शरीर को पोषक तत्व (Nutrients) नहीं मिलने से शरीर में कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं उत्तपन्न होने लगती हैं। इसका बहुत बड़ा कारण खराब लाइफस्टाइल और असंतुलित खान पान है। आजकल स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने के लिए डिब्बा बंद खाने (Packed Food) का चलन पैर पसार रहा है। लोग प्राकृतिक खाने को नजरअंदाज कर नुकसानों से भरपूर खाने की ओर आकर्षित हो रहे हैं। लंबे समय तक संभालने या स्टोर करने के लिए डिब्बा बंद खाने में कई कैमिकल्स (Chemicals) और प्रिजर्वेटिव्स (Preservatives) मिलाए जाते हैं, जिनका उपयोग स्वास्थ्य के लिए खतरों से भरपूर है। वयस्तता और आलस के कारण आप यह खाना खाने के लिए मजबूर हैं। हालांकि खाने में तो यह आपका दिल जीत लेता होगा, लेकिन इसके दुषपरिणामों से शायद आप वाकिफ नहीं होंगे। आजकल डिब्बा बंद खाने का रिवाज इस तरह प्रचलित हो रहा है कि किसी पार्टी से लेकर आपके टिफिन में भी इसी का उपयोग होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा अधिक पाई जाती है, जो सेहत के लिए नुकसानदायक है। इसका दायरा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ग्लोबल हेल्थ जार्ज द्वारा 12 देशों में कई खाद्य पदार्थों को जांचने के बाद यह पाया गया कि भारत में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ काफी हद तक सेफ नहीं है। युवाओं से लेकर बच्चे, बूढ़े सभी इस नुकसानदायक खाने को पसंद करते हैं। केंद्रीय खाघ प्रसंसकण की रिपोर्ट की मानें तो प्लास्टिक का उपयोग एक वर्ष में लगभग 70 प्रतिशत तक किया गया है। इससे आप आसानी से अनुमान लगा सकते हैं कि डिब्बा बंद खाना हमारे समाज का स्वास्थ्य किस तरह छीन रहा है। इसमें मौजूद प्रिसर्वेटिव्स कैसे आपके स्वास्थ्य के दुश्मन हैं इसके बारे में आपको जानकारी दे रही हैं न्यूट्रीशिन्शिट शिवाली गुप्ता। यहां जानिए इससे होने वाले नुकसानों के बारे में।

पोषक तत्वों की कमी (Lack of Nutrients)

डिब्बा बंद खाद्य पदार्थों को आमतौर पर हाइड्रोजेनेटेड तेल में तलाकर बनाया जाता है। ऐसे खाने में पोषक तत्वों की मौजूदगी बिलकुल नहीं होती है। उच्च तापमान पर गर्म किए जाने वाले डिब्बा बंद खाद्य पदार्थों जैसे   में यदि कुछ पोषक तत्वों की प्राप्ति हो भी जाती है तो इनमें कैमिकल का छिड़काव कर पोषक तत्वों की मौजूदगी खत्म कर दी जाती है। ऐसे पदार्थ आपके बच्चों के स्वास्थ्य को बुरी तरह से क्षति पहुंचा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - पैक्ड फूड: क्या अपनाएं और किसे कहे ना? जानें यहां

पचाने में समस्या (Hard to Digest)

डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ हमारे पाचन तंत्र का कार्य अधिक बढ़ा देते हैं। ऐसा खाना खाने से हमारा पाचन तंत्र अपना कार्य सामान्य रूप से करने में असमर्थ हो जाता है और पाचन तंत्र की कार्यक्षमता को भी काफी कम कर देते हैं। यही कारण है कि ऐसा खाना खाने से हमारा खाना सही से नहीं पच पाता और हमें पेट संबंधी समस्याएं होने लगती हैं। 

weight

बढ़ाता है वजन (Increases weight)

ऐसे असंतुलित आहार का सेवन करने से वजन बढ़ना तो सामान्य है, लेकिन पैक्ड फूड का सेवन करने से न केवल सामान्य रूप से वजन बढ़ता है बल्कि शरीर में इंसुलिन की मात्रा बढ़ने लगती है और इंसुलिन की मात्रा आपकी शरीर में फैट सेल्स को बढ़ा देता है। यह प्रक्रिया आपको मोटापे से ग्रस्त करने के लिए काफी है।

खराब गुणवत्ता वाली सामाग्रियां (Poor Ingredients)

डिब्बा बंद खाना खराब गुणवत्ता वाले खाद्य पदार्थों से बनाया जाता है। सस्ते और लो क्वालिटी के पदार्थों से बना खाना आपकी सेहत को बुरी तरह से प्रभावित करता है। ऐसा खाना आपको दांतों को खराब करने के साथ साथ हाई ब्लड प्रेशर का भी शिकार बना सकता है। यही नहीं डायबिटीज और लंबे समय तक इस तकह के खाने का सेवन किया जाए तो आगे चलकर कैंसर जैसी समस्या भी हो सकती है। 

दिल की बीमारी को देता है न्योता (Heart Risk)

पैक फूड्स आपके बाकी अंगों को प्रभावित करने के साथ ही आपके दिल की बीमारियां भी देते हैं। डिब्बा बंद खाने में विटामिन्स और मिनिरल्स की मात्रा काफी कम होती है। साथ ही इसमें मिले प्रिजर्वेटिव्स और कुछ लो गुणवत्ता वाले पदार्थ आपके कोलेस्ट्रोल को बढ़ते हैं, इससे आपको स्ट्रोक की भी समस्या हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - थुलथुला या सख्त, किस तरह का मोटापा होता है ज्यादा खतरनाक? जानें मोटापे और वजन घटाने से जुड़ी जरूरी बातें

नुकसानदायक फूड प्रिजर्वेटिव्स (Harmful Preservatives)

पैक्ड फूड को लंबे समय तक खाने योग्य रखने के लिए और इसमें बैक्टीरिया की ग्रोथ रोकने के लिए प्रिजर्वेटिव्स डाले जाते हैं। इसका हमारी शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। जैसे कि ब्रॉमिनेटेड नामक प्रिजर्वेटिव्स। इसका इस्तेमाल डिब्बा बंद जूसों और कुछ खाने के पदार्थों में भी डाला जाता है। इसका बुरा असर हमारी किडनी सहित लीवर को भी झेलना पड़ता है। साथ ही इससे थायरॉइड और शरीर में सूजन का भी खतरा बढ़ जाता है। 

 पैक्ड फूड आपको एक नहीं बल्कि कई तरीकों से नुकसान पहुंचाते हैं। इसलिए इन फूड्स की जगह घर पर बने खाने का इस्तेमाल करने की कोशिश करें। इससे आप स्वस्थ रहेंगे। 

Read more Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer