दिल की ईसीजी और इकोकार्डियोग्राफी टेस्ट में क्या अंतर होता है? जानें दोनों के बारे में जरूरी बातें

ईसीजी और इकोकार्डियोग्राफी टेस्ट दोनों हृदय से जुड़े होते हैं और ये आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Apr 28, 2022Updated at: Apr 28, 2022
दिल की ईसीजी और इकोकार्डियोग्राफी टेस्ट में क्या अंतर होता है? जानें दोनों के बारे में जरूरी बातें

अक्सर आपने इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफी और इकोकार्डियोग्राफी जांच के बारे में सुना होगा। इन दोनों का काम हृदय संबंधी स्थिति की जांच करना ही है लेकिन फिर भी दोनों में अंतर होता है। ऐसे में आपको कौन-सी समस्या में किस जांच से फायदा होगा। इसके लिए आपको दोनों टेस्ट के बारे में अच्छे से जानना और दोनों में अंतर समझना भी बेहद जरूरी है। दरअसल ईसीजी हृदय की विद्युत गतिविधियों की मदद से काम करता है और वहीं इकोकार्डियोग्राफी ध्वनि तरंगों का उपयोग करके हृदय की इमेज बनाती है। एक ईसीजी हार्ट रेट और लय से संबंधित कमियों को बताता है। जबकि इकोकार्डियोग्राफी हृदय की मांसपेशियों और उसके वाल्वों की शारीरिक रचना और कार्य के बारे में जानकारी प्रदान करती है। आइए इन दोनों के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम क्या होता है?

जैसा कि आपको हमने पहले ही बताया कि इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) हृदय की विद्युत गतिविधियों की रिकॉर्डिंग करने में सक्षम होता है। यह त्वचा की सतह पर इलेक्ट्रोड रखकर पूरा किया जाता है। इसमें 12 पैच छाती, हाथ और पैरों पर लगाए जाते हैं और यह सब केबल के माध्यम से एक मशीन से जुड़े होते हैं। इसकी गतिविधियों को रिकॉर्ड करके कागज पर दिया जाता है। इसमें 10 मिनट से भी कम समय लगता है और न ही किसी तरह के बिजली के झटकों का अनुभव होता है। ईसीजी की मदद से हार्ट स्ट्रेस के लक्षणों और निदान से संबंधित परीक्षण किए जाते हैं। इस टेस्ट को आप सीने में दर्द, चक्कर आने पर या धड़कन के तेज होने पर करवा सकते हैं। यह अनियमित हृदय गति के बारे में भी बताता है। 

heart-disease

Image Credit- Freepik 

इकोकार्डियोग्राफी क्या है?

इकोकार्डियोग्राफी दिल के बारे में उसके आकार, पंपिंग क्षमता, ऊतक क्षति स्थान और डिग्री, आंतरिक कक्ष और वाल्व फ़ंक्शन सहित जानकारी प्रदान करता है। इसका उपयोग ज्यादातर दिल का दौरा पड़ने के बाद हृदय की मांसपेशियों की स्थिति का आकलन करने के लिए किया जाता है। यह हृदय के आसपास की थैली में संक्रमण के साथ-साथ हृदय के वाल्व में संक्रमण की पहचान कर सकता है। इसमें एक रंग डॉपलर इकोकार्डियोग्राफी हृदय में रक्त प्रवाह की विस्तृत तस्वीर प्रदान करती है। इसमें एक छोटी जांच गले के नीचे गले और पेट में भेजी जाती है, इस परीक्षण से पहले कई घंटों तक उपवास करने की आवश्यकता हो सकती है। जांच करने से पहले आपको थोड़ी शारीरिक मेहनत करने के लिए भी कहा जा सकता है या फिर इंजेक्शन की मदद से भी हृदय को अधिक कार्य करने के लिए उत्तेजित किया जा सकता है। इकोकार्डियोग्राफी में भी आपको दर्द बिल्कुल नहीं होता है लेकिन त्वचा के ऊपर से इलेक्ट्रोड निकालते समय आपको थोड़ा दर्द महसूस हो सकता है। कई लोगों को रैशेज की समस्या भी हो सकती है। 

heart-disease

Image Credit- Freepik 

 

इसे भी पढ़ें- जानें कब करवाना चाहिए आपको दिल का ईसीजी और क्यों जरूरी है ये टेस्ट

ईसीजी और इकोकार्डियोग्राफी के बीच मुख्य अंतर

1. एक ईसीजी मुख्य रूप से हृदय की विद्युत गतिविधियों की रिकॉर्डिंग के लिए उपयोग किया जाता है, जबकि इकोकार्डियोग्राफी धड़कते दिल की तस्वीरें बनाती है।

2. ईसीजी एक व्यक्ति की हार्ट रेट की जांच करता है, जबकि एक इकोकार्डियोग्राम यह जांचता है कि हृदय के कक्ष और वाल्व हृदय के माध्यम से रक्त कैसे प्रवाहित करते हैं।

3. एक ईसीजी परीक्षण में, छाती, पैर और बाहों में 12 पैच लगाकर परिणामों का पता लगाया जाता है जबकि इकोकार्डियोग्राफी परीक्षण के परिणामों का पता छाती क्षेत्र पर एक ट्रांसड्यूसर का उपयोग करके लगाया जाता है।

4. एक ईसीजी हृदय के विद्युत आवेगों में असामान्यताओं का पता लगाने के लिए इलेक्ट्रोड का उपयोग करता है, जबकि एक इकोकार्डियोग्राम हृदय की संरचना में विसंगतियों के बारे में पता लगाने के लिए अल्ट्रासोनोग्राफी का उपयोग करता है।

5.  ईसीजी परीक्षण के बाद इसके परिणामों को एक कागज पर प्रदर्शित किया जाता है, जबकि एक इकोकार्डियोग्राफी परीक्षण में परिणाम मॉनिटर पर प्रदर्शित किया जाता है।

Main Image Credit- Freepik 

Disclaimer