बड़े हों या बच्चे डिहाइड्रेशन की शिकायत पर कुछ इस तरह करें 'ओआरएस घोल' का इस्तेमाल, जानें बनाने की सही विधि

अगर घर में किसी को डिहाइड्रेशन है और स्‍टोर घर से दूर है तो हम आपको बता रहें हैं कि घर में ओआरएस कैसे बनाएं

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 28, 2017Updated at: Jan 14, 2020
बड़े हों या बच्चे डिहाइड्रेशन की शिकायत पर कुछ इस तरह करें 'ओआरएस घोल' का इस्तेमाल, जानें बनाने की सही विधि

डिहाइड्रेशन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे- ज्यादा पसीने आना, उल्टी या दस्त होना। छोटे बच्चों में डिहाइड्रेशन की समस्या अधिक देखी जाती है और ओआरएस इससे बचने का रामबाण इलाज है। बड़े हों या बच्चे ये डिहाइड्रेशन कम करने और डायरिया जैसे बीमारी के लिए ओआरएस कारगर है। डायरिया में पहली दवा के रूप में, ओआरएस ही देना चाहिए। विशेषज्ञ की मानें, तो डायरिया होने पर नवजात बच्चों को स्तनपान के साथ ओआरएस घोल देना जरूरी होता हैं। इसी वजह से, बच्चों की होने वाली मौत में काफी कमी आई है।  डिहाइड्रेशन किसी को भी हो सकता है और इससे निजात पाने के लिए, आप घर में भी ओआरएस का घोल बना सकते हैं।

घर में ओआरएस बनाने की सामाग्री

एक छोटा चम्‍मच सादा नमक के साथ, एक चम्‍मच खाने का सोडा। 

एक लीटर पानी को उबाल लें और उसे ठंडा कर लें।  

आधा नींबू का रस और एक चौथाई चम्‍मच शक्‍कर।

बनाने की विधि

ठंडे किए गए पानी में सभी सामाग्री को मिलाकर, मिट्टी या कांच के बर्तन रखें। इसे तांबे या पीतल के बर्तन में बिल्कुल न रखें। 

1 घंटे से ज्‍यादा देर तक घोल न रखें, ये खराब हो जाता है, इसे बनाते ही इसका प्रयोग कर लें। 

बच्‍चों या बड़ों को उल्‍टी या दस्‍त शुरू होते ही, ओआरएस का घोल पिला दें। मरीज को सादा पानी पिलाने से परहेज करना चाहिए।

डिहाइड्रेशन के कारण

dehydration

डिहाइड्रेशन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे-

  • बुखार या ज्यादा गर्मी।
  • संक्रमण के कारण जैसे उल्टी, दस्त, और बार-बार पेशाब आना।
  • डायबिटीज, अधिक व्यायाम और दौड़ना आदि।
  • पर्याप्त पानी और भोजन न खाना।
  • त्वचा की चोटें, जैसे कि जलने, मुंह के घाव, गंभीर त्वचा रोग।

इसे भी पढ़ें: जी मिचलाना या उल्‍टी आने पर राहत पाने के लिए असरदार हैं ये 5 चाय

बच्चों में डिहाइड्रेशन के लिए क्या करें?

यदि आपका शिशु या बच्चा डिहाइड्रेट होता है, तो ओआरएस सबसे अच्छा विकल्प है। ये बच्चों के शरीर में, पानी की मात्रा को ठीक करने में मदद करता है। शुरूआत में, शिशु को एक घूंट या एक चम्मच ओआरएस देने की कोशिश करें। और फिर जब बच्चा उसे पीने लगे, तो थोड़ा ज्यादा पिलाना बेहतर होगा। बड़े बच्चे के लिए, पानी में ओआरएस मिलाकर, नियमित रूप से देना सबसे अच्छा इलाज है। 

क्या केवल पानी डिहाइड्रेशन को कम करता है?

water

अगर डिहाइड्रेशन कभी-कभार ही होता है, तो रोज पर्याप्त पानी पीने से आपकी समस्या हल हो सकती है। अगर आपको ज्यादातर डिहाइड्रेशन का सामना करना पड़ता है, तो आपको कई सब्जियों के जूस का सेवन करना चाहिए। पानी आपकी पहली पसंद है, लेकिन जूस और सूप आपके शरीर में पानी की कमी को दूर कर सकते हैं। ध्यान रहे, फ्रूट जूस, कॉफी, चाय, सोडा का सेवन करने से बचें, ये डायरिया के लिए नुकसानदायक हैं। इससे बचने के लिए आप ओआरएस के घोल का सेवन कर सकते हैं, ये आपके लिए कारगर साबित हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: शरीर के हर अंग के लिए खास है लाल अंगूर का सेवन, इन रोगों का खतरा होता है कम

डॉक्टर से सलाह कब लेनी चाहिए?

अगर आपको ओआरएस से फायदा नहीं होता है, तो आपको तुरंत ही डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अगर आप इन लक्षणों को महसूस करते हैं जैसे-

  • खूब सारा पानी पीने के बाद भी, दिनभर प्यास लगती है।
  • हर 8 घंटे में पेशाब नहीं आता है।
  • खड़े-खड़े चक्कर आने लगते हैं।
  • दिनभर थकान महसूस करते हैं।
  • बार-बार मतली या उल्टी होती है। 

Read More Article On Home Remedies In Hindi

Disclaimer