महाटीकाकरण अभियान: 1.91 लाख लोगों को पहले दिन लगे टीके, जानें किस राज्य में वैक्सीन हुई सस्पेंड

कोरोना टीकाकरण महाअभियान में पहले दिन 1.91 लाख लोगों को टीके की पहली खुराक दी गई। वहीं एक राज्य में वैक्सीन को सस्पेंड भी कर दिया।

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Jan 17, 2021 11:16 IST
महाटीकाकरण अभियान: 1.91 लाख लोगों को पहले दिन लगे टीके, जानें किस राज्य में वैक्सीन हुई सस्पेंड

शनिवार को विश्व के सबसे बड़े कोरोना टीकाकरण अभियान का शुभारंभ अपने देश में हुआ। वैक्सीनेशन का शुभारंभ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिए किया। इस अभियान से देश में खुशी की लहर दौड़ गई। बीते 10 महीनों से लाखों जिंदगियां को अपना शिकार बनाने वाली महामारी के खिलाफ बनी वैक्सीन (कोवैक्सीन और कोविशिल्ड) ने लोगों के मन में नई उम्मीद जगाई है। वहीं खबर मिली है कि एक राज्य में वैक्सीन को सस्पेंड कर दिया गया है। जानते हैं पहले दिन कितने लोगों को लगी टीके की खुराक और क्यो हुई वैक्सीन सस्पेंड?

 

महाराष्ट्र में क्यों सस्पेंड हुई वैक्सीन?

बता दें कि 18 जनवरी तक कोविड-19 वैक्सीन सस्पेंड कर दी गई है। ये निर्णय कुछ तकनीकी गड़बड़ी के कारण लिया गया है।

पहले दिन कितने लोगों को दी गई खुराक?

बता दे पहले दिन 1.91 लाख स्वास्थ्य कर्मी और सफाई कर्मियों को वैक्सीन लगी> हालांकि लक्ष्य 3.15 लाख लोगों के टीकाकरण लगाने का रखा गया था। बता दें कि केंद्रीय मंत्रालय ने शाम 5:00 बजे टीकाकरण को लेकर जानकारी दी कि 1,65,714 स्वास्थ्य कर्मियों और सफाई कर्मियों को टीका 3,351 केंद्रों पर लगा। जबकि एएनआई के मुताबिक, रात 8:00 बजे तक 1,91,181 लोगों को पहली खुराक दी गई। यह आंकड़ा रात 11:00 बजे तक बढ़ गया। रात 11:00 बजे मिली रिपोर्ट के मुताबिक दिन भर में करीब 2 लाख लोगों को टीके लगाए गए। 

क्या अधिकारी भी बने इस अभियान का हिस्सा?

बता दें कि स्वास्थ्य कर्मियों के अलावा नीति आयोग के सदस्य वी.के पॉल, एमसीडी के निदेशक रणदीप गुलेरिया, पश्चिम बंगाल के मंत्री निर्मल माजी, भाजपा सांसद महेश शर्मा को भी टीके की पहली खुराक दी गई है।

इसे भी पढें- सार्वजनिक टॉयलेट को इस्तेमाल करने में रहें थोड़ा सावधान, कोरोना संक्रमण का खतरा है ज्यादा

कौन-सी वैक्सीन हो रही है इस्तेमाल?

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व महासचिव डॉक्टर नरेंद्र सैनी ने इस विषय में जानकारी दी है। उन्होंने ट्विटर के माध्यम से बताया है कि अभी भारत में कोवीशील्ड और कोवैक्सिन दो टीके मौजूद हैं। लेकिन सरकार अभी कोवीशील्ड का इस्तेमाल करेगी। किसी भी समय कोवैक्सिन का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। बता दें कि दोनों दोनों ही टीके बेहद प्रभावी हैं।

कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स

बता दें कि जहां वैक्सीन सफल परिणाम दिखा रही है वहीं कुछ पहली डोज लेने के बाद हल्के साइड इफेक्ट भी नजर आए। एक गार्ड जो कि दिल्ली स्थित एम्स में है उसे एलर्जी हो गई। जबकि पश्चिम बंगाल में एक नर्स को वैक्सीन के बाद बेहोश हो गई। उसे बाद में अस्पताल भर्ती कराया गया। आधिकारियों द्वारा जारी किए आंकड़ों के आधार पर एईएफआई (टीकाकरण के बाद के प्रभाव) का 51 आम मामले और एक गंभीर मामला सामने आया।

Read More Articles on health News in hindi

Disclaimer