Stomach Discomfort: कोरोना के डर और तनाव से हो गया पेट में दर्द तो घर पर इन 6 तरीकों से पाएं राहत, जानें उपाय

तनाव और चिंता गैस्ट्रोइंटेस्टेनियल ट्रेक्ट में दबाव यानी की मरोड़ पैदा करती है, जिसके कारण तनाव से संबंधित पाचन समस्याएं होती हैं। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Apr 03, 2020Updated at: Apr 03, 2020
Stomach Discomfort: कोरोना के डर और तनाव से हो गया पेट में दर्द तो घर पर इन 6 तरीकों से पाएं राहत, जानें उपाय

क्या आप जानते हैं कि हमारे मस्तिष्क और आंत के बीच एक भावनात्मक संबंध जुड़ा हुआ है। क्या आपको कभी भी महसूस हुआ है कि जब भी आप तनाव महसूस करते हैं तो आपके पेट में दर्द होने लगता है? तनाव और चिंता के कारण भी अपच और सीने में जलन का भाव पैदा होता है। इनदिनों जब कोरोना की फैलती महामारी के कारण लोगों में तनाव, चिंता जोरों पर है तह बहुत से लोग पेट संबंधी समस्याओं जैसे गैस, कब्ज आदि से जूझ रहे हैं। तानव और चिंता गैस्ट्रोइंटेस्टेनियल ट्रेक्ट में दबाव यानी की मरोड़ पैदा करती है, जिसके कारण तनाव से संबंधित पाचन समस्याएं होती हैं। तनाव से मतली, सीने में जलन, पेट फूलने जैसी समस्याएं भी होती हैं, जो वास्तव में किसी भी व्यक्ति के लिए परेशानी का सबब बन सकती हैं। 

pain

पेट क्यों महसूस करता है तनाव?

एंटरिक नर्वस सिस्टम हमारे गैस्ट्रोइंटेस्टेनियल ट्रेक्ट (जीआई पथ)  के भीतर होता है। मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के इस हिस्से के बीच एक मजबूत संबंध होता है। तनाव के वक्त मस्तिष्क से निकले वाले संकेत जीआई पथ को अलग तरह से व्यवहार करने के लिए मजबूर कर सकते हैं। तनाव नसों को भी संवेदनशील बनाता है, जो चिंताजनक स्थितियों में बहुत बड़ा प्रभाव डालती हैं। हालांकि इस प्रकार की चीजें सामान्य स्थितियों में तनावपूर्ण नहीं मानी जाती हैं। तनाव होने पर हल्के लक्षणों का अनुभव करना सभी के लिए काफी सामान्य है। जब हम तनाव में होते हैं, तो हम भोजन में भी आराम तलाशते हैं। जीआई ट्रैक्ट की समस्याओं के लिए स्ट्रेस ईटिंग भी एक प्रमुख कारण है। इस लेख में हम आपको ऐसे 6 उपाय बताने जा रहे हैं, जो तनाव के कारण पेट में होने वाले दर्द को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कौन से हैं ये उपाय। 

तनाव से पेट में होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए 6 उपाय

मेडिटेरियन डाइट

इस तनाव भरे समय में मेडिटेरियन डाइट आपके लिए सबसे अच्छी रहेगी और आपको इसे फॉलो करना चाहिए। इस डाइट में सब्जियां, फल, नट और साबुत अनाज होते हैं। हालांकि आप इसमें थोड़ा बहुत चिकन या मांस शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा इसमें थोड़ा बहुत डेयरी उत्पाद भी शामिल होता है।

इसे भी पढ़ेंः क्या घंटों पानी में फल और सब्जियां रखने से निकल जाते हैं इनमें छिपे कीड़ें ? जानें कीड़े निकालने का आसान तरीका

शेड्यूल तैयार करें

आपको अपने भोजन के साथ-साथ स्नैकिंग का एक सही  शेड्यूल बनाना चाहिए ताकि आप बहुत अधिक खाने की आदत को छोड़ सके। बहुत ज्यादा मात्रा में खाने से आप पहले से मौजूद गैस्ट्रिक लक्षणों को बढ़ा सकते हैं।

stomachpain

नींद

इन दिनों, पर्याप्त नींद लेना बहुत महत्वपूर्ण है। यह आपके शरीर को लक्षणों और तनाव से उबरने में मदद कर सकती है, जो कि तनाव का पहला कारण होती है। तनाव होने पर सही से नींद नहीं आती है, जिस कारण व्यक्ति बीमार हो जाता है।

एक्टिव रहें

आपको इन दिनों सोफे पर बैठकर टीवी देखने में बड़ा मजा आ रहा होगा लेकिन ये जरूरी है कि आप एक्टिव रहें। घर पर थोड़ी सी कसरत आपको एक्टिव रखने में मदद करेगी। एक्टिव रहने से आप अच्छा महसूस करते हैं और इस महामारी से निपटने के लिए तैयार हो सकते हैं, तनाव को कम कर सकते हैं और इस तरह तनाव से संबंधित पाचन समस्याओं से भी राहत पा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ेंः शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर इन चीजों को करना हो सकता है खतरनाक, जानें क्या सही और क्या है गलत

डिस्टेंसिंग रखें लेकिन बात करते रहें

लोगों से बात-चीत करते रहना खुश रहने का सबसे अच्छा तरीका है और इससे तनाव को दूर रखने में मदद मिल सकती है। वीडियो कॉल के माध्यम से अपने परिवार और दोस्तों से संपर्क बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यह आपको बहुत बेहतर महसूस कराता है और आपको याद दिलाता है कि हर कोई इसमें एक साथ है।

अच्छे तरीके से सांस लेना

दिन के समय थोड़ी देर के लिए सांस संबंधी एक्सरसाइज फॉलो करना बहुत ही जरूरी है। यह आपकी नसों को शांत करने के लिए अच्छी होती है और आपको फेफड़ों के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी मदद करती है। सुनिश्चित करें कि आप सांस लेने के लिए अपने पेट का उपयोग कर रहे हैं। इसे जांचने के लिए एक हाथ अपने पेट पर और दूसरा अपनी छाती पर रखें। जैसे ही आप सांस लें आपरे पेट पर रखा हाथ पेट के साथ अंदर और बाहर जाना चाहिए।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer