Fact Check: क्या आपको भी व्हाट्सएप पर मिला है डॉ. नरेश त्रेहन के नाम वाला ऑडियो क्लिप? जानें क्लिप की सच्चाई

क्या आपको भी व्हाट्सएप पर एक संदेश मिला है, जिसमें एक शख्स कोरोना के संबंध में 14 अप्रैल तक का समय बहुत खतरनाक बता रहा है। जानें इस क्लिप की सच्चाई। 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 30, 2020
Fact Check: क्या आपको भी व्हाट्सएप पर मिला है डॉ. नरेश त्रेहन के नाम वाला ऑडियो क्लिप? जानें क्लिप की सच्चाई

देश-दुनिया में जिस तरह से कोरोना की दहशत लगातार बढ़ रही है उतनी ही तेजी से इस वायरस से जुड़ी गलत जानकारियां भी लोगों तक पहुंच रही है। इन गलत जानकारियों को जितना मुश्किल रोकना है ठीक उस तरह लोगों तक सही जानकारी पहुंचाना मुश्किल साबित हो रहा है। हाल ही में व्हाट्सएप पर एक संदेश वायरल हो रहा है, जिसमें  एक शख्स कोरोना के संबंध में 14 अप्रैल तक का समय बहुत खतरनाक बता रहा है और अचानक कोरोना के मामलों में वृद्धि के बारे में बात कर रहा है। इस संदेश के साथ एक टेक्सट भी वायरल हो रहा है, जिसमें ऑडियो वाले शख्स को मेदांता मेडिसिटी के चेयरमैन डॉ. नरेश त्रेहन बताया जा रहा है। इसके साथ ही इस संदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए गुनगुन पानी में हल्दी और नमक डालकर गरारे करने की भी सलाह दी गई है। लेकिन इस दावे की सच्चाई क्या है और क्या वाकई में ये बिल्कुल सही है। हम आपको इस संदेश से जुड़ी सही जानकारी दे रहे हैं। इस बात को जानना आपके लिए बेहद जरूरी है कि कोरोना के संबंध में सही जानकारी ही बचाव का एकमात्र मार्ग है। 

naresh

क्या है ये व्हाट्सएप संदेश  

व्हाट्सएप पर वायरल हो रहे इस ऑडियो क्लिप को मेदांता मेडिसिटी के चेयरमैन डॉ. नरेश त्रेहन का बताया जा रहा है, जिसमें वह कोरोना से जुड़ी एक अहम जानकारी दे रहे हैं। हालांकि इस ऑडियो में बोल रहा व्यक्ति अपना परिचय नहीं देता और न ही उसने खुद को डॉक्टर त्रेहन बताया है। हालांकि इस ऑडियो क्लिप के साथ जो टेक्सट वायरल हुआ है उसमें ये बात लिखी हुई है 'मेदांता हॉस्पिटल के डॉक्टर त्रेहन का यह संदेश प्लीज सुनिए और ज्यादा से ज्यादा आगे भेजो'। 

इसे भी पढ़ेंः जुलाई तक 40 करोड़ भारतीय को कोरोना? भारत कोरोना की तीसरी स्टेज में पहुंचा, ये दावे हैं गलत, जानें इनकी सच्चाई

क्या है ऑडियो क्लिप में 

व्हाट्सएप पर वायरल हुए इस ऑडियो क्लिप में बोल रहा शख्स बताता है कि उसे इटली, स्पेन और विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी की डब्लूएचओ से अपने स्तर पर कुछ जरूरी जानकारियां मिली हैं, जिसमें भारत में इस संक्रमण के तेजी से फैलने की बात सामने आ रही है। इस ऑडियो संदेश में ये दावा किया गया है कि भारत में 14 अप्रैल तक का समय यानी की लॉकडाउन के आखिरी दिन तक हालात बेहद ही खतरनाक रहने वाले हैं। इस शख्स ने बताया कि 14 अप्रैल तक भारत में कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़ेंगे। 

juice

कोरोना से बचने का दिया इलाज 

व्हाट्सएप पर वायरल हुए इस ऑडियो के अंत में खुद को डॉ. नरेश त्रेहन बताने वाला शख्स कोरोना से बचाव के लिए गुनगुने पानी में नमक और हल्दी डालकर गरारे करने की बात कह रहा है। शख्स इस नुस्खे से लोगों को कोरोना से निजात पाने का दावा कर रहा है। 

इसे भी पढ़ेंः 21 दिन के लॉकडाउन में घर बैठे-बैठे गिन रहे हैं मिनट?करें ये 4 अनूठे काम और रहें पूरे दिन एक्टिव, मन लगा रहेगा

मेदांता ने इस दावे की खोली पोल और तोड़ा भ्रम 

मेदांता ने एक ट्वीट कर इस ऑडियो क्लिप का खंडन किया है और इस दावे को झूठा ठहराया है। हालांकि अभी तक डॉ. त्रेहन का इस संबंध में कोई बयान नहीं आया है। मेदांता ने ट्वीट कर कहा कि हमारे ध्यान में आया है कि व्हाट्सएप पर एक ऑडियो संदेश वायरल हो रहा है, जिसे गलत तरीके से डॉ. त्रेहन से जोड़ा जा रहा है। ये ऑडियो मैसेज फर्जी है और जो आवाज संदेश में है वह डॉक्टर त्रेहन की आवाज नहीं है। इसके अलावा ऑडियो में कहीं गई बातें डॉ. त्रेहन न तो कभी कहीं हैं और न ही रिकॉर्ड की है।

गर्म पानी में नमक और हल्दी डालकर गरारे करने की सच्चाई

व्हाट्सएप पर जिस ऑडियो संदेश को डॉ. नरेश त्रेहन का बताया जा रहा है उसमें कोरोना से निपटने के लिए गुनगुने पानी में हल्दी और नमक डालकर गरारे कराने की बात कही जा रही है। लेकिन ये दावा बिल्कुल गलत है। पीआईबी ने इस बाबत ट्वीट कर इस दावे को झूठा ठहराया है। पीआई ने ट्वीट कर कहा है कि गर्म पानी में नमक और सिरका मिलाकर गरारे करने से कोरोनावायरस का इलाज नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही गर्म पानी में हल्दी-नमक मिलाकर गरारे करने का दावा भी गलत है।

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer