सर्दियों में ठंडे या गर्म किस तरह के पानी से नहाना होता है सही? जानें आगे

सर्दियों के मौसम में अक्सर लोग ये समझ नहीं पाते हैं कि उनको गर्म या ठंडे किस तरह के पानी से नहाना चाहिए?

सम्‍पादकीय विभाग
Written by: सम्‍पादकीय विभागUpdated at: Nov 24, 2022 19:13 IST
सर्दियों में ठंडे या गर्म किस तरह के पानी से नहाना होता है सही? जानें आगे

सर्दियों धीरे-धीरे शुरू हो चुकी है, ऐसे में हमारी दिनचर्या में बदलाव होने लगा है। अधिकतर लोगों को सर्दियों का मौसम खूब भाता है। सर्दियों आते ही कुछ लोग गर्म पानी से नहाना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग इस मौसम में भी ठंडे पानी से ही नहाते हैं। दरअसल सर्दियों में लोगों को असमंजस रहता है कि उनको ठंडे पानी से नहाना चाहिए या गर्म पानी से। देखा ये जाता है कि जैसे ही लोग सर्दी के मौसम में बीमार पड़ने लगते हैं वैसे ही वो अपने नहाने के पानी को ठंडे से गर्म में बदलाव कर देते हैं। चलिए आगे जानते हैं कि इस मौसम में किस तरह के पानी से नहाना सही होता है और आयुर्वेद इस विषय पर क्या कहता है। 

आयु के अनुसार चुने नहाने का पानी 

नहाने के लिए गर्म या ठंडे पानी का चुनाव करने के लिए आपको अपनी आयु पर ध्यान देना चाहिए। छोटी आयु के बच्चों और बुजुर्गों को नहाने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। जबकि किशोरावस्था व 45 से कम आयु वाले युवक व युवतियों को ठंडे पानी से नहाना चाहिए। किशोरों को अपने काम पर फोकस होने की आवश्यकता होती है और ठंडे पानी से नहाना उनकी एकाग्रता को बढ़ाने में सहायक भूमिक अदा करता है।

इसे भी पढ़ें : सर्दियों में हल्के गर्म पानी से नहाने के हैं कई फायदे

cold water bath or hot water bath

क्या कहता है आयुर्वेद 

आयुर्वेद के मुताबिक व्यक्ति का शरीर वात, कफ और पित्त तीन तरह की प्रवृत्ति का होता है। इनके संतुलन में गड़बड़ी होने से व्यक्ति रोगों की चपेट में आने लगते हैं। यदि आप पित्त प्रवृत्ति के हैं तो ऐसे में आपको ठंडे पानी से नहाना चाहिए, जबकि वात और कफ प्रवृत्ति के लोगों को गर्म पानी से नहाना चाहिए। 

रोगों के अनुसार नहाने के पानी को चुनें 

यदि आपको लिवर या पाचन संबंधी समस्या है तो आयुर्वेद कहता है कि ऐसे रोग पित्त दोष के कारण माने जाते हैं। इस तरह की स्थिति में आपको ठंडे पानी से नहाना चाहिए। जबकि वात और कफ अनियंत्रित होने पर व्यक्ति को पैरों में दर्द, गठिया के दर्द और जोड़ों में दर्द की शिकायत होने लगती है। ऐसे व्यक्ति को गर्म पानी से स्नान करना चाहिए। कफ दोष होने पर व्यक्ति में एलर्जी व सांस संबंधी समस्या भी देखी जाती है। 

इसे भी पढ़ें : क्या ठंडे पानी से नहाने के ये फायदे जानते हैं आप?

नहाने के समय पर भी दें ध्यान 

सर्दियों में गर्म या ठंडे पानी से नहाने से पहले आपको अपने नहाने के समय पर भी ध्यान देना चाहिए। यदि आप सुबह के समय नहाते हैं तो ठंडे पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन रात को नहाने के लिए आप हल्के गुनगुने पानी का उपयोग कर सकते हैं। हल्का गुनगुना पानी रात को थकान दूर करने में सहायक माना जाता है। 

ठंडे और गर्म पानी से नहाने के फायदे कई हैं, लेकिन इस मौसम में ज्यादा ठंडे या ज्यादा गर्म पानी से नहीं नहाना चाहिए। लगातार लंबे समय तक ऐसा करने से आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इस मौसम में नहाने के लिए आपको हल्के गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे आप न तो ठंडे पानी की वजह से ठंड में बीमारी होंगे और ना ही ज्यादा गर्म पानी की वजह से आपकी त्वचा शुष्क हो पाएगी।

Disclaimer