क्लाउडी यूरिन (झागदार पेशाब) की समस्या से राहत दिलाएंगे ये 7 घरेलू उपाय

पेशाब में झाग (क्लाउडी यूरिन) की समस्या के कई कारण हो सकते हैं। इसे आप कई घरेलू नुस्खों से ठीक कर सकते हैं।

 
Monika Agarwal
घरेलू नुस्खेWritten by: Monika AgarwalPublished at: Apr 20, 2022Updated at: Apr 20, 2022
क्लाउडी यूरिन (झागदार पेशाब) की समस्या से राहत दिलाएंगे ये 7 घरेलू उपाय

आपके यूरिन का रंग आपकी सेहत के बारे में कई बातें बता सकता है। दरअसल हमारे उत्सर्जन प्रणाली (Excretory System) और पाचन तंत्र की सेहत हमारे द्वारा पास किए गए यूरिन (पेशाब) के रंग को देख कर पता की जा सकती है। अगर यूरिन के रंग में कोई बदलाव है तो ये किसी समस्या का संकेत भी हो सकता है। बादली रंग (क्लाउडी यूरिन) या झागदार पेशाब भी कई समस्याओं की वजह से हो सकता है। यूरिन के रंग में बदलाव के और भी बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे हमारा खान-पान या किसी विशेष स्थिति के लिए किसी दवा का सेवन। मैक्स हॉस्पिटल के डिपार्टमेंट ऑफ जनरल सर्जरी एंड रोबोटिक्स के किडनी ट्रांसप्लांट, यूरोलॉजी यूरो ऑंकोलॉजी विभाग के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ विमल दासी के मुताबिक अगर क्लाउडी यूरिन देखने को मिल रहा है तो इसका अर्थ है या तो आप डिहाइड्रेट रहते हैं या फिर आपको यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन हो गया है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है। कई बार यह ज्यादा गंभीर समस्या नहीं होती है इसलिए इसे घरेलू उपचार द्वारा भी ठीक किया जा सकता है।

क्लाउडी यूरिन के कारण (Causes For Cloudy Urine)

यीस्ट वैजिनाइटिस जैसी वेजाइनल इंफेक्शन

गोनोरिया

सिस्टाइटिस (ब्लैडर में होने वाला इंफेक्शन)

क्लैमिडिया

यूरेटर वॉल्स को डैमेज करने वाले किडनी स्टोन्स

झागदार यूरिन के लक्षण (Symptoms Of Cloudy Urine)

बार-बार पेशाब करने की इच्छा

यूरिन के दौरान जलन

कम मात्रा में यूरिन आना

बदबूदार यूरिन

कमर में दर्द

गुलाबी रंग का यूरिन

यूरिन के साथ खून आना

cloudy-urine

Image Credit- Freepik

क्लाउडी (झागदार) यूरिन के लिए घरेलू इलाज (Home Remedies for Cloudy Urine)

बेकिंग सोडा

इसके लिए आपको एक चम्मच बेकिंग सोडा लेना है और उसे एक गिलास पानी में मिला देना है। मिलाने के बाद इसे अच्छे से मिक्स कर लें और तुरंत पी लें। बेकिंग सोडा एल्कलाइन प्रकृति का होता है। यह यूरिन की एसिडिटी को न्यूट्रल करने में सहायक होता है।

1. हाइड्रो थेरेपी  

आपको इस स्थिति में ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए। इसका कारण डिहाइड्रेशन भी हो सकता है। अगर आपको यूटीआई भी हो गया है तो भी पानी पीना ही सबसे बेस्ट नेचुरल रेमेडी मानी जाती है। इससे हमारे शरीर से सारे टॉक्सिंस फ्लश हो जाते हैं जिससे लक्षणों से आराम मिलता है।

2. अनानास

आप रोज सुबह नाश्ते में एक कप अनानास ले सकते हैं। इसमें ब्रोमलिन नाम का एक्टिव इंग्रेडिएंट्स होता है जो यूटीआई आदि से ठीक करने में सहायक होता है। इस फल में एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं जो इंफेक्शन पैदा करने वाले माइक्रो ऑर्गेनिज्म को ठीक करने में सहायक होते हैं।

3. ब्लू बेरी जूस

आप रोजाना सुबह एक गिलास ब्लूबेरी जूस भी पी सकते हैं। ऐसा इंफेक्शन ठीक हो जाने तक डेली करें। ब्लू बेरी में काफी सारे एंटीऑक्सीडेंट्स और कंपाउंड्स होते हैं जो यूटीआई के बैक्टीरिया को मारने में सहायक होते हैं। आप अपने सुबह के दलिये में भी ब्लू बेरी शामिल कर सकते हैं।

cloudy-urine

Image Credit- Freepik

4. सेलेरी

4 से 5 सिलेरी स्टॉक लें।

आधा बड़ा खीरा लें

एक इंच लम्बा अदरक का टुकड़ा लें और पानी लें।

सब्जी और अदरक को धो कर काट लें।

सभी चीजों को एक साथ ब्लेंड कर लें ताकि थोड़ा गाढ़ा जूस निकल सके।

अब इसे पी जाएं।

इस सब्जी में विटामिन ए, ई और आयरन होता है।

यह सब यूटीआई के बैक्टीरिया को खत्म करने में सहायक रहते हैं।

इसे भी पढ़ें- क्या पेशाब में झाग आना किसी बीमारी का संकेत है? जानें इस समस्या का कारण और इलाज

5. क्रेन बेरी जूस

आधे कप क्रेन बेरी जूस को आधे कप पानी में मिलाएं और पी जाएं।

रोजाना इस जूस का एक या दो गिलास पिएं।

यह भी ब्लू बेरी की तरह एक प्राकृतिक रेमेडी है जो क्लाउडी यूरिन को काफी तेजी से ठीक कर सकती है।

यह ई कोली नाम के बैक्टीरिया के लिए एक नेचुरल डायरेटिक की तरह काम करता है।

cloudy-urine

Image Credit- Freepik

6. अदरक

एक चम्मच सूखा अदरक ले लें और उसे कुछ मिनट के लिए गर्म पानी में डाल दें।

कुछ देर मिक्स होने के बाद इस पानी में शहद भी मिला दें।

इसे अच्छे से मिक्स कर दें और छान कर गर्म गर्म पी जाएं।

अदरक में एंटी इंफ्लेमेटरी एजेंट और एंटी माइक्रोबियल कंपाउंड होते हैं जो इंफेक्शन से लड़ते हैं और उसे ठीक करने में मदद करते हैं।

तो यह थी कुछ होम रेमेडीज जिनका प्रयोग आप क्लाउडी (झागदार) यूरिन को ठीक होने के लिए कर सकते हैं। हालांकि अगर आप इनका सेवन करने के बाद भी ठीक नहीं होते हैं तो एक बार अपना मेडिकल चेक अप भी करा लें क्योंकि हो सकता है यह कुछ गंभीर समस्या का संकेत हो।

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer