सोते समय बेड पर क्यों घूमते रहते हैं बच्चे? डॉक्टर से जानें इसके 12 कारण और इलाज

बच्चों का सोते समय बेड पर लगातार घूमते रहना कुछ समस्याओं के कारण हो सकता है, एक्सपर्ट से जानें इसके बारे में। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Oct 21, 2021
सोते समय बेड पर क्यों घूमते रहते हैं बच्चे? डॉक्टर से जानें इसके 12 कारण और इलाज

बच्चों की परवरिश और उनकी देखरेख सही ढंग से करने से उनका ठीक विकास हो पाता है और शरीर से जुड़ी कई परेशानियों से बचाव भी होता है। बच्चों के सोने के तरीके यानी स्लीप पैटर्न से उनके सेहत का अंदाजा लगाया जा सकता है। आपने जरूर देखा होगा कि कुछ बच्चे बहुत शांति और सुकून के साथ सोते हैं तो वहीं कुछ बच्चे सोते समय पूरे बेड पर घूम-घूम कर या इधर-उधर करते हुए सोते हैं। जिस जगह पर आप बच्चे को सुलाते हैं वह उस जगह से अलग होकर सो रहा होता है। दरअसल नींद के दौरान पूरे बेड पर इधर-उधर घूमकर सोने वाले बच्चे को सही ढंग से नींद नहीं आती है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। 1 साल से लेकर 10 साल की उम्र तक के बच्चों में यह समस्या देखी जाती है। हालांकि इस बात को लेकर घबराने की जरूरत नहीं है। लखनऊ के मशहूर और सीनियर पीडियाट्रिशियन डॉ पी के पांडेय कहते हैं कि बच्चों का नींद के दौरान बेड पर घूमकर सोने के कई कारण हो सकते हैं। कुछ स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं और उसके सोने का पैटर्न इसका प्रमुख कारण माना जाता है। आइये विस्तार से जानते हैं इसके बारे में।

बच्चों का बेड पर घूम-घूमकर सोने के कारण (Child Moves A Lot During Sleep Causes)

Childs-Sleep-Issue

(image source - freepik.com)

जब शिशु खुद से अपने शरीर को मोड़ना सीख जाते हैं या शुरू कर देते हैं तो अक्सर वे सोते समय पूरे बेड पर घूमकर सोते हैं। बच्चों के बेड पर घूमकर सोने का यह मतलब नहीं है कि उन्हें अच्छी नींद नहीं आ रही है। लेकिन इसका यह मतलब जरूर हो सकता है कि उन्हें इस समस्या के कारण नींद में दिक्कत हो रही है। नींद के दौरान बेड पर इधर-उधर घूमना बिलकुल सामान्य है लेकिन अगर यह लगातार हो रहा है और इसकी वजह से बच्चों की नींद प्रभावित हो रही है तो इसके कई कारण हो सकते हैं। आइये जानते हैं इन कारणों के बारे में।

इसे भी पढ़ें : आपके शिशु को स्वस्थ रहने के लिए कितना सोना चाहिए? जानें जन्म से 6 महीने तक उनकी नींद की जरूरत

1. जागने में कठिनाई।

2. नींद के दौरान खर्राटे या सांस से जुड़ी दिक्कत।

3. अत्यधिक थकान।

4. चिड़चिड़ापन की वजह से।

5. मुंह से सांस लेना।

6. जरूरत से ज्यादा घूमना।

7. अच्छी नींद न आने के कारण।

8. निश्चित समय पर नींद न लेने की वजह से।

9. शरीर में दर्द या किसी अन्य परेशानी की वजह से।

10. नींद के दौरान बार-बार जागना।

11. बच्चों के पेट में कृमि (कीड़े) होने की वजह से।

12. अत्यधिक गर्मी के कारण।

इसे भी पढ़ें : बच्‍चों में नींद की कमी बन सकती है कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का कारण, जानें कैसे दें बच्‍चों को अच्‍छी नींद

Childs-Sleep-Issue

(image source - freepik.com)

बच्चों में नींद से जुड़ी समस्या से बचाव के उपाय

किसी भी व्यक्ति की अच्छी सेहत के लिए पर्याप्त और अच्छी नींद (Better Sleep) बेहद जरूरी होती है। नींद से जुडी समस्याएं शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदायक होती हैं। बच्चों में नींद से जुड़ी समस्या होने के कारण उनका विकास प्रभावित हो सकता है और उन्हें कई तरह की समस्याएं हो सकती है। इस समस्या से बचाव के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • माता-पिता को यह निगरानी करनी चाहिए कि बच्चा रोजाना कम से कम 10 घंटे सोता है। 
  • बच्‍चों में एक यही अनुशासन की आदत बनाएं, ताकि वह समय से खाना और सोना कर सकें। यदि ऐसा किया जाए, तो बच्चों में नींद न आने की समस्या को हल करने में मदद मिल सकती है।
  • इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स बंद करें यानि बच्‍चे के सोने से ठीक पहले गैजेट्स / टैब / गेम्स से बचें।
  • भरपूर फीडिंग करवाएं या खिलाएं, पौष्टिक और स्वस्थ आहार बच्चों नींद में मदद कर सकते हैं।
  • बच्चे के सोने के समय में उसका वातावरण बदलें।
  • अगर बच्चों को सामान्य बिस्तर पर सोने में दिक्कत हो रही हो तो क्रिब बेड्स का इस्तेमाल करें।

नींद के दौरान बच्चे का घूमना कितना सामान्य है? 

एक्सपर्ट्स के मुताबिक जब बच्चे 1 साल से 10 साल की उम्र के बीच होते हैं तो उन्हें सोते समय ये परेशनी हो सकती है। दरअसल यह समस्या कई कारणों से होती है। सोते समय बच्चे का बेड पर लगातार घूमते रहना सामान्य तो है लेकिन इसके कई ऐसे कारण भी हो सकते हैं जिसे चिंताजनक माना जाता है। ऊपर बताई गयी स्थितियों के कारण अगर आपका बच्चा नींद के दौरान बेड पर इधर-उधर घूमता है तो इसके बारे में चिकित्सक से बात जरूर की जानी चाहिए।

(main image source - freepik.com)

Disclaimer