ब्राउन शुगर को माना जाता है सफेद चीनी से ज्यादा हेल्दी, जानें इसके 5 फायदे और कुछ प्रकार

ब्राउन शुगर को सफेद चीनी से ज्यादा हेल्दी क्यों माना जाता है। जानें इससे मिलने वाले 5 फायदे और ब्राउन शुगर के अलग-अलग प्रकारों के बारे में।

Monika Agarwal
Written by: Monika AgarwalUpdated at: Aug 01, 2021 00:00 IST
ब्राउन शुगर को माना जाता है सफेद चीनी से ज्यादा हेल्दी, जानें इसके 5 फायदे और कुछ प्रकार

ब्राउन शुगर एक पॉपुलर स्वीटनर है जो इन दिनों हेल्थ कॉन्शियस लोगों के द्वारा चीनी की जगह प्रयोग किया जा रहा है। ब्राउन शुगर, व्हाइट शुगर (सफेद चीनी) से थोड़ी हेल्दी मानी जाती है। ब्राउन शुगर का कलर भूरा होता है और ऐसा उसमें मौजूद मौलासिस की वजह से होता है। जब हेल्थ की बात आती है तो हम ब्राउन शुगर को उसमें मौजूद न्यूट्रिशन की वजह से हेल्दी मानते हैं। क्योंकि इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम और हाई कंसंट्रेशन कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं। एक चम्मच ब्राउन शुगर में लगभग 17 कैलोरीज होती। ब्राउन शुगर आपके लिए चीनी का एक हेल्दी विकल्प है। लेकिन इस शुगर में ऐसा क्या है कि यह सफेद चीनी के मुकाबले हेल्दी मानी जाती है। आइए जान लेते हैं। पहले जानते हैं इसके 6 प्रकारों के विषय में।

 

ब्राउन शुगर के प्रकार (Types of Brown Sugar)

  1. लाइट ब्राउन शुगर : इस प्रकार की शुगर में ब्राउन शुगर के कुछ मोलासिस सफेद शुगर में शामिल कर दिए जाते हैं और वह लाइट ब्राउन शुगर बन जाती है। इसमें 3% मोलासिस होते हैं।
  2. डार्क ब्राउन शुगर : इसमें मोलासिस की मात्रा अधिक यानी लगभग 6% होती है और इस शुगर में एक स्ट्रॉन्ग फ्लेवर होता है।
  3. मुस्कोवादो : यह सबसे डार्क ब्राउन शुगर होती है और इसमें फ्लेवर भी सबसे अधिक होता है। स्लो ड्राइंग प्रोसेस के कारण और अधिक सूर्य के कारण यह अधिक डार्क हो जाती है।
  4. डिमेरारा : जब गन्ने से शुगर बनाने के लिए उसका रस निकाला जाता है और फिर उबाला जाता है तो उसमें ब्राउन रंग के क्रिस्टल अलग हो जाते हैं जिनकी सुखाने के बाद उनमें मोलासिस एड करके यह शुगर बनाई जाती है।
  5. तुर्बीनाडो : इसमें शहद का फ्लेवर अधिक होता है और यह चाय बनाने के लिए अधिक प्रयोग की जाती है।
  6. नेचुरल ब्राउन शुगर : शुगर को क्रिस्टलाइज करने के बाद जब उसमें रेसिड्यू बच जाते हैं तो उस द्वारा यह शुगर बनती है जिसका थोड़ा मीठा और कैरेमल फ्लेवर होता है।

ब्राउन शुगर खाने के 5 फायदे (Benefits of Brown Sugar in Hindi) 

1. स्किन हेल्थ को इंप्रूव करने में सहायक (Helpful in Improving Skin Health)

ब्राउन शुगर को आप एक एक्सफोलियंट के रूप में प्रयोग कर सकती हैं और इससे आपकी स्किन से सारी गंदगी निकल जाएगी और यह आपकी स्किन को एक निखरा हुआ और सॉफ्ट लूक देगी।

2. एनर्जी बूस्टर की तरह करती है काम (It Boosts Energy) 

किसी भी कार्बोहाइड्रेट की तरह ही ब्राउन शुगर भी आपको एनर्जी से भरपूर रखने में मदद करती है और आप इसका प्रयोग सुबह की चाय या कॉफी में जरूर करके देखें।

3. वजन कम करने में हो सकती है सहायक ( Helps To Reduce Weight)

हालांकि इस शुगर को अधिक मात्रा में प्रयोग करना भी एक अच्छा आइडिया नहीं है लेकिन इसके मोलास आपके मेटाबॉलिज्म को इंप्रूव कर सकते हैं जिससे आप की भूख को शांत होने में मदद मिलेगी और यह इस प्रकार आप के वजन कम होने में मददगार हो सकती है।

4. प्रेग्नेंसी के दौरान लाभदायक (Beneficial During Pregnancy)

अगर आप की हाल ही में डिलीवरी हुई है तो आपकी रिकवरी के लिए ब्राउन शुगर बहुत लाभदायक रहती है और यह प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले डिस्कम्फर्ट से भी आप को राहत दिलाने में बहुत लाभदायक सिद्ध हुई है। 

5. अस्थमा के मरीजों के लिए सहायक ( Good Remedy For Asthma)

कुछ स्ट्डीज के दौरान यह पाया गया है की ब्राउन शुगर को अगर अस्थमा के मरीज पानी में मिक्स करके पी लेते हैं तो उनके इन्फ्लेमेटरी लक्षण कम होने में बहुत मदद मिलती है। 

इसे भी पढ़ें- गुड़ या ब्राउन शुगर: सेहत के लिए इनमें से क्या है ज्यादा हेल्दी, डायटीशियन से जानें इन दोनों के फायदे-नुकसान

क्या ब्राउन शुगर के कुछ नुकसान भी हैं (Side Effects of Brown Sugar in Hindi)

अगर आप सीमा में इसका सेवन करते हैं तो यह आपके लिए लहदायक है। लेकिन अगर आप इसका सेवन अधिक मात्रा में करने लगते हैं तो यह भी आपके लिए सफेद चीनी जितनी ही हानिकारक होती है और निम्न साइड इफेक्ट्स दे सकती है : 

    • आप का अधिक वजन बढ़ा सकती है।
    • आप को डायबिटीज का मरीज बना सकती है।
    • आपका यीस्ट इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ जाता है।

यह बात सच है कि अगर आप सफेद चीनी के मुकाबले ब्राउन शुगर का प्रयोग डेली लाइफ में करने लगते हैं तो आपके कई रिस्क कम हो सकते हैं और आपको ऊपर लिखित लाभ भी मिल सकते हैं। लेकिन आपको इस की भी मात्रा का विशेष ध्यान रखना होगा।

 इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।
Read More Articles on healthy diet in hindi
Disclaimer