लौकी का जूस ज्यादा पीने से सेहत को हो सकते हैं ये 6 नुकसान, आप भी पीते हैं तो बरतें ये सावधानियां

लौकी का जूस स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। लेकिन अधिक मात्रा में लौकी का जूस स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेय हो सकता है।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 28, 2021Updated at: Jun 29, 2021
लौकी का जूस ज्यादा पीने से सेहत को हो सकते हैं ये 6 नुकसान, आप भी पीते हैं तो बरतें ये सावधानियां

लौकी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है। अधिकतर डॉक्टर्स और डायटीशियन लौकी खाने की सलाह देते हैं। लौकी का सेवन करने से कई बीमारियां दूर होती हैं। हम में से कई लोग वेट लॉस करने के लिए लौकी का जूस पीते हैं। कई हेल्थ एक्सपर्ट खाली पेट लौकी का जूस पीने की भी सलाह देते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अधिक मात्रा में लौकी के जूस का सेवन भी आपके लिए नुकसानदेय हो सकता है।  लौकी विटामिन ई, विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। अगर आप लौकी का जूस नियमित रूप से पी रहे हैं, तो कुछ जरूरी बातों का ख्याल जरूर रखें। क्योंकि ज्यादा लौकी का जूस पीने से शरीर को कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। चलिए जानते हैं लौकी का जूस पीने (side effects of bottle gourd juice) के साइड-इफेक्ट्स-

क्यों सेहत के लिए नुकसानदेय है लौकी का जूस?

एक्सपर्ट्स का कहना है कि लौकी के उत्पादन को बढ़ाने के लिए लोग क इसमें कई तरह के इंजेक्शन लगाते  है। इन लौकियों का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इसके अलावा अगर आप ज्यादा मात्रा में कच्ची लौकी का सेवन करते हैं, तो इससे पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। 

1. दस्त-उल्टी की समस्या

यदि आप लौकी का जूस पीते हैं, तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। लेकिन अगर आप ज्यादा मात्रा में लौकी का जूस पीते हैं, तो इससे आपको उल्टी-दस्त जैसी परेशानी हो सकती है। साथ ही अगर आप लौकी का जूस बनाते वक्त साफ-सफाई को अनदेखा करते हैं, तो इसके कारण बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा भी रहता है।

इसे भी पढ़ें - खाली पेट अदरक का सेवन करने से सेहत को होते हैं ये 7 फायदे

2. हाई ब्लड प्रेशर

अगर आप पहले से ही ब्लड प्रेशर के रोगी हैं, तो लौकी का जूस कम मात्रा में पिएं। अगर आप लौकी का जूस पीते हैं, तो इससे ब्लड प्रेशर असामान्य रूप से घट सकता है। ब्लड प्रेशर में अचानक से गिरावट के कारम आपको चक्कर आना, बेहोशी की समस्या, आंखों में धुंधलापन छाने की समस्या हो सकती है।

3. डायबिटीज रोगी

अगर आपको डायबिटीज की परेशानी हैं। तो ज्यादा लौकी का जूस न पिएं। लौकी का ज्यादा जूस पीने से शुगर का स्तर अचानक से कम हो सकता है, जिससे आपको बेहोशी की समस्या हो सकती है। साथ ही कुछ मामलों में हाइपोग्लाइसीमिया होने का खतरा भी रहता है।

4. कैंसर जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा

लौकी के जूस में विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट होता है, तो आपके लिए अधिक फायदेमंद हैं। लेकिन अधिक मात्रा में इन चीजों के सेवन से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी होने का खतरा रहता है। इसलिए कम मात्रा में लौकी के जूस का सेवन करें। 

5. एलर्जी

अगर आपको किसी कड़वी चीजों से एलर्जी है, तो लौकी का जूस न पिएं। एलर्जी की समस्या से ग्रसित लोगों के पैरों में सूजन, फेस पर दानें, हाथ-पैरों में सूजन जैसी परेशानी देखने को मिलती है। इसके अलावा आपकी स्किन पर रैशेज और खुजली जैसी समस्या भी देखने को मिल सकती है।

6. सूजन

लौकी में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए काफी गुणकारी है। लेकिन कुछ लोगों लौकी का जूस पीने से स्किन और हाथ-पैरों में सूजन की शिकायत हो सकती है। इसलिए एक्सपर्ट के सलाहनुसार ही लौकी के जूस का सेवन करें। 

इसे भी पढ़ें - सेहत के लिए कद्दू के फूल का सेवन है बहुत फायदेमंद, जानें डाइट में कैसे करें शामिल

कितना पिएं लौकी का जूस

लौकी का जूस अधिक मात्रा में न पिएं। अगर आप लौकी का जूस पी रहे हैं, तो एक दिन में 1 गिलास से ज्यादा लोकी का जूस न पिएं। साथ ही सुबह खाली पेट लौकी का सूज पीना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।

लौकी का जूस पीते समय बरतें सावधानी

  • कड़वा लौकी का जूस न पिएं।
  • दिन भर में 1 गिलास से ज्यादा लौकी न पिएं।
  • लौकी के जूस को किसी भी फल या फिर सब्जी के साथ मिलाकर न पिएं।
  • अगर लौकी का जूस पीने के बाद उल्टी, चक्कर या फिर कोई शिकायत हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।  

लौकी के कड़वेपन को कैसे करें दूर?

लौकी के कड़वेपन को दूर करने के लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना होता है। अगर आप कड़वाहट वाले लौकी का जूस पीते हैं, तो इससे गैस, कुपच और ली मिचलाने जैसी परेशानी हो सकती है। ऐसे में लौकी के जूस का कड़वापन दूर करने के लिए इसमें काला नमक, नींबू, पिसा हुआ जीरा, काली मिर्च पाउडर या फिर कुछ पुदीने की पत्तियों को मिक्स करके पी सकते हैं। 

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer