रोज सुबह उठकर बिस्तर पर करें ये 5 योगासन, सेलिब्रेटी कोच अंशुका से जानें इन्हें करने के फायदे

 तनाव और मोटापे की समस्या को कम करने के लिए आप इन योगासनों को रोजाना सुबह के समय करें, इससे आप दिनभर एक्टिव रहेंगे 

Ambika Kimothi
Written by: Ambika KimothiPublished at: May 07, 2022Updated at: May 07, 2022
रोज सुबह उठकर बिस्तर पर करें ये 5 योगासन, सेलिब्रेटी कोच अंशुका से जानें इन्हें करने के फायदे

इस भागदौड़-भरी जीवनशैली के चलते हमारी गलत दिनचर्या और गलत खानपान के तरीकों से हमारी सेहत प्रभावित हो सकती है, जिससे आपको मोटापे और तनाव की समस्या हो सकती है। सेलिब्रेटी फिटनेट कोच अंशुका अपने इंस्टाग्राम में एक पोस्ट शेयर करती नजर आ रही हैं, जिसमें उनका कहना है कि "इन 5 योगासनों को सुबह के समय करने से आपका मेटाबॉलिज्म बढ़ता है। साथ ही इन आसनों को करने से आपकी चिंता और तनाव की समस्या कम हो सकती है।" चलिए जानते हैं, उन योगासनों के बारे में जिनको रोजाना करने से आप सेहतमंद रह सकते हैं।

1. बद्धकोणासन (Butterfly Pose)

बद्धकोणासन को नियमित रूप से करने पर आपके हिप्स और जांघों की मांसपेशियों में खिंचाव आता है, जिससे इस जगह का फैट बर्न होता है। साथ ही इसे करने से आपके पैरों को मजबूती मिलती है और आपके हिप्स शेप में आते हैं।

Butterfly Pose

बद्धकोणासन करने का तरीका-

  • इस आसन को करने के लिए मैट बिछाएं।
  • या आप इस आसन को बिस्तर पर भी कर सकते हैं।
  • अब इस मैट पर सीधे बैठ जाएं।
  • फिर आप दोनों पैरों के घुटनों को अंदर की तरफ मोड़ें।
  • आपके पैरों के दोनों तलवे आपस में जुड़ेंगे।
  • जैसा आप फोटो में देख पा रहे हैं।
  • फिर आप दोनों हाथों से पैरों को पकड़ें।
  • अब दोनों जांघों को हिलाएं।
  • कुछ देर इसी अवस्था में रहें फिर सामान्य हो जाएं।

2. विपरीत करणी (Viparita Karani)

इस आसन को करने से आपका ब्लड सर्कुलेशन सीधा मस्तिष्क तक पहुंचता है, जिससे आपका दिमाग तेजी से काम करता है और आपको तनाव से मुक्ति मिलती है। साथ ही इसे करने से आपको डार्क सर्कल की समस्या नहीं रहती है और आपके फेस पर ग्लो रहता है।

Viparita Karani

(Image Source: fitzabout.com)

विपरीत करणी करने का तरीका-

  • इस आसन के लिए आप बिस्तर पर लेट जाएं।
  • अब अपने पैरों को दीवार से सटाएं।
  • अब आपके पैर सीधे रहेंगे और आपके शरीर की मुद्रा भी सीधी रहेगी।
  • जैसा आप फोटो में देख पा रहे हैं। 
  • आपके हाथ बिस्तर पर सीधे रहेंगे।
  • आप कुछ देर इसी अवस्था में रहें फिर सामान्य हो जाएं। 

3. भुजंगासन (Bhujangasana)

भुजंगासन के नियमित अभ्यास से आपकी भुजाएं मजबूत बनती हैं। इससे आपके कोर में खिंचाव आता है, जिससे आपका बेली फैट कम होता है और आपकी रीढ़ में लचीलापन आता है। भुजंगासन करने के लिए-

Bhujangasana

भुजंगासन करने का तरीका-

  • इस आसन को आप बिस्तर पर भी कर सकते हैं।
  • इसे करने के लिए आप पेट के बल सीधा लेट जाएं।
  • अब दोनों हाथों को कंधे के सामने लाएं।
  • आपका पूरा शरीर एक सीध में रहेगा।
  • फिर अपने ऊपरी हिस्से को अपनी भुजाओं से उठाएं।
  • जैसा आप फोटो में देख पा रहे हैं।
  • आपके पैर सीधे रहेंगे और कमर से ऊपर का हिस्सा हवा में रहेगा।
  • कुछ देर इसी अवस्था में रहें और फिर सामान्य हो जाएं।

4. पवनमुक्तासन (Pavanamuktasana)

पवनमुक्तासन को करने से आपकी बॉडी फ्लेक्सिबल बनती है। साथ ही इससे आपकी रीढ़ को मजबूती मिलती है और शरीर की थकान भी दूर होती है। आप  इसे करने के लिए बिस्तर पर लेट जाएं-

Pavanamuktasana

पवनमुक्तासन करने का तरीका-

  • इसके बाद अपने दोनों पैरों को आपस में मोड़ें।
  • फिर घुटनों को छाती पर लगाने की कोशिश करें।
  • अब सिर को घुटनों पर लगाएं।
  • फिर दोनों हाथों से पैरों को समेट लें।
  • जैसे आप फोटो में देख रहे हैं।
  • अब कुछ देर इसी अवस्था में रहें और लंबी-लंबी सांसे लें और छोड़ें।
  • इसके बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।

 5. अर्ध मत्स्येन्द्रासन (Ardha Matsyendrasana)

अर्ध मत्स्येन्द्रासन को करने से आपके हिप्स और जांघ की मांसपेशियों का फैट कम होता है और इसमें लचीलापन भी आता है। इस आसन से आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और कमर के आस-पास की चर्बी कम होती है।

Ardha Matsyendrasana

अर्ध मत्स्येन्द्रासन करने का तरीका-

  • इस आसन को आप बिस्तर या मैट, किसी भी जगह कर सकते हैं।
  • सबसे पहले दंडासन में बैठ जायें।
  • इसके बाद अपने शरीर को सीधा रखें।
  • अब बाएं पैर को घुटनों से मोड़ें और दाएं हिप्स के पास जमीन पर ही रहने दें।
  • फिर दाएं पैर को उठाकर, बाएं घुटने के साथ रखें।
  • आपके इस पैर का तलवा जमीन पर होगा।
  • फिर दाएं हाथ की कोहनी को दाएं पैर के घुटने के ऊपर रखें।
  • जैसा आप फोटो में देख पा रहे हैं।
  • कुछ देर ऐसे ही रहें, फिर सामान्य हो जाएं।
  • फिर इसे दूसरी तरफ से भी दोहराएं।

इन 5 योगासनों को नियमित रूप से किसी ट्रेनर की देखरेख में करें। इससे आपकी सेहत को बहुत से फायदे मिलेंगे। इससे आपकी सांस लेने की क्षमता का विकास होगा और आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होगा।

 

 

Disclaimer