आर्टिफिशयल नाखून पहुंचा सकते हैं आपके असली नाखूनों को नुकसान, इस्‍तेमाल से पहले जान लें परिणाम और सावधानियां

Fashion & Beauty: यदि आप भी अधिकतर आर्टिफिशियल नाखूनों का इस्‍तेमाल करते हैं, तो इस्‍तेमाल से पहले इसके नुकसान और सावधनियां जान लें।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Dec 26, 2019Updated at: Dec 26, 2019
आर्टिफिशयल नाखून पहुंचा सकते हैं आपके असली नाखूनों को नुकसान, इस्‍तेमाल से पहले जान लें परिणाम और सावधानियां

आजकल नकली नाखून यानि आर्टिफिशियल नाखूनों का काफी ट्रेंड है। अधिकांश लोग शादी, पार्टी जैसे फंक्‍शनों में आर्टिफिशयल नाखून लगाना पसंद करते हैं। यह आपको एक एक फैशन स्टेटमेंट बनाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, जिन लोगों के नाखून नहीं बढ़ते वह लंबे नाखूनों की चाहत में आर्टिफिशियल नाखून लगाते हैं। जबकि क्‍या आप जानते हैं कि आपके आर्टिफिशयन नाखून आपके लिए हानिकारक हो सकते हैं। जी हां, आर्टिफिशियल नाखूनों को लगाने और उन्हें चिपकाने के लिए एसिड और अन्य रसायनों का इस्‍तेमाल किया जाता है, जो कि  एलर्जी या इंफेक्‍शन का कारण बन सकते हैं। आपके आर्टिफिशियल नाखूनों से आपको फंगल संक्रमण और अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। 

आर्टिफिशियल नाखून के प्रकार 

आर्टिफिशियल नाखून दो प्रकार के आते हैं, जिसमें- ऐक्रेलिक और जेल। इनका एक तीसरा प्रकार, जिसे सिल्क्स कहा जाता है, अक्सर इसे क्षतिग्रस्त नाखूनों को ठीक करने या नाखून को मजबूत बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।

आर्टिफिशियल नाखूनों के नुकसान 

एलर्जिक रिएक्शन

आर्टिफिशियल नाखूनों को लगाने या हटाने के लिए इस्‍तेमाल किया जाने वाला रसायन आपकी त्‍वचा को एजर्ली का कारण बन सकता हे। यह आपके नाखूनों के आसपास लालिमा, सूजन जोड़ने या हटाने के लिए उपयोग किए जाने वाले रसायन आपकी त्वचा को परेशान कर सकते हैं। आप अपने नाखूनों के आसपास लालिमा, पस या सूजन की वजह बन सकता है। इस वजह से बहुत से लोगों में यह कभी-कभी असहजता का कारण बन सकते हैं।

इसे भी पढें:  रोजाना एक ही परफ्यूम लगाते हैं आप? जानें खास मौकों के हिसाब से कैसे चुनें सही परफ्यूम

बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्‍शन 

यदि आपके आर्टिफिशियल नाखून किसी चीज से टकराते हैं, तो आप अपने असली नाखून में बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्‍शन का खतरा हो सकता है। नाखूनों के बीच गैप में बैक्‍टीरिया, खमीर, या कवक बढ़ सकते हैं। जिसकी वजह से बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्‍शन हो सकता है और आपके नाखूनों को हरे या नीले पड़ सकते हैं। वहीं दूसरी ओर, नाखूनों पर सफेद या पीले रंग के धब्बे भी हो सकते हैं। नाखून समय के साथ मोटा हो सकता है, और यह गंभीर मामलों में उखड़ सकता है। 

नाखूनों का कमजोर पड़ जाना 

आर्टिफिशियल नाखूनों, ऐक्रेलिक या जेल नाखूनों को हटाने के लिए, आपको अपनी उंगलियों को 10 मिनट या उससे अधिक समय तक एसीटोन में भिगोना होता है। यह रसायन आपके असली नाखूनों को सुखाता है और आपकी त्वचा को परेशान कर सकता है। इसके अलावा, यह असवके असली नाखूनों को पतला, कमजोर और नाजुक बना देता है।

Artificial Nails

इसे भी पढें: वेडिंग पार्टी में दिखना है सबसे अलग और खूबसूरत, तो 4 स्टेप्स में जानें मेकअप का सही और आसान तरीका

आर्टिफिशियल नाखून के लिए टिप्‍स 

यदि आप आर्टिफिशियल नाखूनों लगाना पसंद करते हैं, तो ये टिप्स फॉलो कर आप अपने इसके नुकसानों से बच सकते हैं। 

  • अगर आपके पहले से नाखूनों मे फंगल इंफेक्‍श है, तो आर्टिफिशियल नाखूनों से दूर रहें। 
  • अपने सैलून मैनीक्योरिस्ट से कहें कि क्यूटिकल्स को ज्यादा न काटें और न ही पीछे धकेलें। क्‍योंकि वह इंफेक्‍शन से बचाव में मदद करते हैं।
  • आर्टिफिशियल नाखूनों के लिए एक सैलून चुनें जो एलईडी रोशनी के साथ जेल पॉलिश को कठोर करता है, जिसमें छोटी मात्रा में यूवी प्रकाश होता है। लाइट के नीचे जाने से पहले अपने हाथों पर ब्रॉड-स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन लगाएं।
  • अपने नाखूनों पर क्रीम मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें, खासकर जब आप उन्हें एसीटोन में भिगोते हैं।
  • हर दो महीने में आर्टिफिशियल नाखूनों से ब्रेक लें। यह आपके असली नाखूनों को रासायनिक जोखिम से सही होने और बचने में मददगार होगा।

Read More Article On Fashion and Beauty In Hindi

Disclaimer