50 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए डाइट प्लान, जानें बुढ़ापे की तरफ बढ़ते शरीर को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं

अगर आप भी 50 की उम्र के बाद खुद को स्वस्थ और बीमारियों से दूर रखना चाहती हैं तो जान लें कौन सा डाइट प्लान है आपके लिए फायदेमंद। 

Vishal Singh
Written by: Vishal SinghUpdated at: Mar 26, 2021 12:58 IST
50 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए डाइट प्लान, जानें बुढ़ापे की तरफ बढ़ते शरीर को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

आजकल खुद को बीमारियों से दूर रखने के साथ ही लंबे समय तक स्वस्थ रखना बहुत ही मुश्किल होता है। भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच अपने लिए समय निकालना भी एक समस्या है और इसके कारण लोग अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना ही भूल जाते हैं। जबकि खुद को हर तरीके से स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि आप लंबे समय तक अपनी डाइट और जीवनशैली को बेहतर बनाए रखें। जिसकी मदद से आप कई प्रकार की बीमारियों और गंभीर स्थितियों से अपना बचाव कर सकते हैं। ऐसे ही महिलाओं को 50 की उम्र के बाद कई प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं जिससे बचाव जरूरी है और इसके लिए डाइट प्लान भी बेहतर होना चाहिए, जो आपको पूर्ण रूप से स्वस्थ रख सके। जी हां, हेल्दी डाइट आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है कि और आप खुद को स्वस्थ रखने के लिए अपनी जीवनशैली और डाइट में सुधार जरूर करें। हमने इस विषय पर बात की हेल्दीफाई सॉल्यूशन के संस्थापक, होलिस्टिक एवं क्लीनिकल आहार विशेषज्ञ डॉक्टर शीनू संजीव से। 

एक्सपर्ट और डॉक्टर शीनू संजीव बताती हैं कि महिलाओं में 50 की उम्र के बाद कई तरह के बदलाव आते हैं जिसके कारण वो कई स्थितियों का भी शिकार हो सकती हैं। मेनोपॉज की वजह से जब मेटाबोलिज्‍म धीमा पड़ने लगता है, जो महिलाओं को परेशान कर सकता है। एक्सपर्ट शीनू संजीव का कहना है कि मेनोपॉज के कारण महिलाओं में अलग-अलग तरह के बदलाव देखने को मिल सकते हैं, जिसके कारण उनके स्वास्थ्य पर बुरा असर भी पड़ सकता है। इसके लिए जरूरी है कि आप 50 की उम्र के बाद अपनी डाइट को हेल्दी बनाए रखें और खुद को स्वस्थ रखने की कोशिश करें। 

healthy diet

मेडिटेरेनियन डाइट (Mediterranean diet)

मेडिटेरेनियन डाइट आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी होती है और यह महिलाओं की 50 की उम्र के बाद असरदार हो सकती है। मेडिटेरेनियन डाइट में उन आहारों को शामिल किया जाता है जिन आहारों में कम से कम वसा शामिल होती है। इस डाइट में सभी सब्जियां, फलियां, फल, मेवे और साबुत अनाज जैसी चीजें शामिल है। इस तरह का भोजन हर किसी के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है और ये 50 की उम्र के बाद वाली महिलाओं के लिए ज्यादा फायदेमंद है। आपको बता दें कि मेडिटेरेनियन डाइट ज्यादातर पौंधों पर आधारित होते हैं और इसमें कुछ मात्रा में डेयरी उत्पाद भी शामिल है। इतना ही नहीं कुछ लोगों के लिए इसमें अंडे और रेड मीट भी शामिल किया जा सकता है। एक्सपर्ट शीनू संजीव बताती हैं कि मेडिटेरेनियन डाइट महिलाओं के लिए इसलिए फायदेमंद है क्योंकि वो पोषण से भरपूर सब्जियों और फलों का सेवन पर्याप्त मात्रा में कर सकती हैं और दूसरे तैलीय या प्रोसेस्ड फूड्स से खुद को दूर रख सकती हैं। इसके साथ ही कई शोध में ये बात सामने आई है कि मेडिटेरेनियन डाइट की मदद से हृदय रोग, डायबिटीज, कैंसर और मानसिक रोग के खतरे को कम किया जा सकता है। 

डैश डाइट (Dash Diet)

डैश डाइट भी महिलाओं के लिए काफी असरदार हो सकती है, इसकी मदद से आप लंबे समय तक किसी भी बीमारी से खुद को दूर रख सकते हैं। डैश डाइट में सब्जियां, फल और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों को शामिल किया जाता है। इसमें मौजूद सभी खाद्य पदार्थ आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के साथ आपके रक्त शर्करा को नियंत्रित करने का काम करते हैं। जिसकी मदद से आप हृदय रोग के साथ अन्य गंभीर रोगों के खतरे से खुद को बाहर रख सकते हैं। आपको बता दें कि रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, हृदय रोग 50 महिलाओं के लिए मौत के प्रमुख कारणों में से एक है। वहीं, मेनोपॉज की वजह से हृदय रोग का खतरा काफी हद तक बढ़ने लगता है जिसके लिए जरूरी है कि आप इस तरह के डाइट प्लान को अपनाएं और खुद को लंबे समय तक स्वस्थ रख सकें। 

healthy diet

फ्लेक्सिटेरियन डाइट (Flexitarian Diet)

फ्लेक्सिटेरियन डाइट एक प्रकार की ऐसी डाइट है जो आपके स्वास्थ्य को कई रूप से फायदा पहुंचाने का काम करती है, इसमें सभी प्रकार के शाकाहारी भोजनों को शामिल किया जाता है। लेकिन कई बार कुछ लोगों के लिए इसें अंडा, मीट और डेयरी उत्पाद को भी शामिल किया जा सकता है। यह महिलाओं के लिए इसलिए फायदेमंद है क्योंकि इस डाइट की मदद से महिलाएं अपने शरीर में फाइबर की पर्याप्त मात्रा बनाए रखते हैं और प्रोटीन की कमी को दूर कर सकते हैं। एक्सपर्ट शीनू संजीव बताती हैं कि एक अध्ययन में यह सलाह दी गई है कि पर्याप्त मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड और जरूरी पोषक तत्वों न मिलने पर महिलाओं के स्वास्थ्य को नुकसान हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप अपनी डाइट में बहुत सारे सब्जियां, फल और फलियों को शामिल करें। 

इसे भी पढ़ें: क्या आप आईयूडी के साथ साथ मेंस्ट्रुअल कप का भी प्रयोग कर सकती है?

माइंड डाइट (MIND Diet)

बढ़ती उम्र के साथ जरूरी है कि आप अपने शारीरिक स्वास्थ्य को स्वस्थ रखते हुए मानसिक स्वास्थ्य को भी स्वस्थ रखें। महिलाओं में भी 50 की उम्र के बाद मानसिक स्थिति बिगड़ने का खतरा बढ़ जाता है और अल्जाइमर जैसे रोग अपना शिकार आसानी से बना सकते हैं। इसलिए इससे बचाव के लिए जरूरी है कि आप माइंड डाइट का सेवन करें जिसकी मदद से आप खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। माइंड डाइट में साबुत अनाज, जामुन, पत्तेदार साग, सेम, जैतून का तेल और वसायुक्त मछली जैसे खाद्य पदार्थों को शामिल कया जाता है और तैलीय भोजन को डाइट से दूर रखने का काम किया जाता है। एक्सपर्ट शीनू संजीव बताती हैं कि जब आप माइंड डाइट का सेवन करते हैं तो इससे आप मानसिक गिरावट को दूर कर खुद को मानसिक रूप से स्वस्थ देख सकते हैं। 

पैलियो डाइट

पैलियो डाइट भी हर किसी के लिए बहुत अच्छी मानी जाती है जिसकी मदद से आप खुद को लंबे समय तक स्वस्थ रख सकते हैं। लेकिन महिलाओं को इस डाइट की जरूरत ज्यादा होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि पैलियो डाइट में बहुत ज्यादा मात्रा में प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट पर आधारित है। आपको बता दें कि पैलियो डाइट में भारी मात्रा में सब्जियां, फल, मेवे और कुछ मामलों के लिए मीट को भी शामिल किया जाता है। एक्सपर्ट की सलाह है कि 50 की उम्र के बाद इंसुलिन रेसिस्टेंस से निपटने वाली महिलाओं के लिए कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार खाना ज्यादा फायदेमंद होता है। जिसकी मदद से आप लंबे समय तक खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। इसके अलावा इन आहारों में प्रोसेस्ड फूड्स, रिफाइंड शुगर और डेयरी उत्पादों को शामिल नहीं किया जाता है। 

वीगन डाइट

वीगन डाइट के बारे में तो आप सभी ने सुना होगा ये आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है। वीगन डाइट न सिर्फ आपको पर्याप्त ऊर्जा प्रदान करने का काम करता है बल्कि ये आपको लंबे समय तक स्वस्थ रखने में भी मदद करता है। वीगन डाइट की मदद से आप कई प्रकार की बीमारियों जैसे हृदय रोग, डायबिटीज और कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। आपको बता दें कि वीगन डाइट में सभी प्लांट बेस्ड फूड्स को शामिल किया जाता है। हालांकि एक्सपर्ट की सलाह है कि जब आप वीगन डाइट की ओर अपना रुख अपनाते हैं तो इस दौरान जरूरी है कि आप किसी एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें क्योंकि इस डाइट में कई लोग विटामिन बी-12, विटामिन डी, आयोडीन, आयरन, कैल्शियम, जस्ता और ओमेगा -3 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्वों की कमी का सामना भी कर सकते हैं। 

healthy diet

इसे भी पढ़ें: पीरियड्स के दौरान तेज दर्द होने पर क्या करें? जानें कुछ घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार

क्या है एक्सपर्ट की सलाह

एक्सपर्ट और डॉक्टर शीनू संजीव बताती हैं कि महिलाओं को 50 की उम्र के बाद जरूरी होता है कि वो अपनी डाइट और जीवनशैली में ऐसे बदलाव करें जो उनकी समस्याओं को कम करने के साथ उन्हें बीमारियों से बचाने का काम करें। ऐसे ही अगर आप खुद को स्वस्थ रखने के लिए किसी डाइट को अपनाना चाहते हैं तो जरूरी है कि आप किसी एक्सपर्ट से सलाह करने के बाद ही अपनी चयन की गई डाइट को फॉलो करें। ऐसा इसलिए क्योंकि कई बार आपको एक डाइट से पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता जिसके कारण आपको पोषण की कमी हो सकती है। इसलिए आप किसी एक्सपर्ट से अपनी डाइट के बारे में सलाह जरूर लें। 

(इस लेख में दी गई जानकारी हेल्दीफाई सॉल्यूशन के संस्थापक, होलिस्टिक एवं क्लीनिकल आहार विशेषज्ञ डॉक्टर शीनू संजीव से बातचीत पर आधारित है)।

Disclaimer