एचआईवी मुक्त एडम कैस्टिलजो ने बताई अपनी पहचान, कहा- लोगों के लिए बनना चाहता हूं आशा का दूत

एचआईवी मुक्त एडम कैस्टिलजो ने बताई अपनी पहचान, न्यू यॉर्क टाइम में दिए एक इंटरव्यू में कहा- लोगों के लिए बनना चाहता हूं आशा का दूत। 

Vishal Singh
विविधWritten by: Vishal SinghPublished at: Mar 12, 2020
एचआईवी मुक्त एडम कैस्टिलजो ने बताई अपनी पहचान, कहा- लोगों के लिए बनना चाहता हूं आशा का दूत

एचआईवी(HIV) उन गंभीर बीमारियों में से एक हैं जो किसी के लिए भी जानलेवा बन सकती है। एचआईवी हमारे शरीर के अंदर टी सेल्स को नष्ट करने का काम करता है। ये एक तरह से हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचाने का काम करता है। एचआईवी से संक्रमित होने पर पीड़ित किसी भी संक्रमणों और बीमारियों से लड़ में कामयाब नहीं हो पाता। इसलिए एचआईवी का इलाज कराना बहुत ही जरूरी हो जाता है। अगर एचआईवी के इलाज में लापरवाही करते हैं तो ये एड्स का कारण भी बन सकता है। 

एचआईवी(HIV) एक खतरनाक बीमारी है जो हमारे शरीर को धीरे-धीरे खत्म करने का काम करती है। यही वजह है कि लोगों में भी इसका डर काफी रहता है। लेकिन हम और आप एचआईवी की सही जानकारी प्राप्त कर इससे लड़ने में कामयाब हो सकते हैं। लोगों के सामने एक एचआईवी से मुक्त होने वाले दूसरे शख्स ने अपनी पहचान का खुलासा करते हुए कहा है कि मैं दूसरों के लिए "आशा का दूत" बनना चाहता हूं। 

HIV

एडम कैस्टिलजो, लंदन रोगी को पिछले साल कथित तौर पर एचआईवी(HIV) से मुक्त घोषित किया गया था। 40 साल के कैस्टिलजो हाल ही में लोगों के सामने गए, एडम ने न्यू यॉर्क टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में खुलासा किया कि वह साल 2003 से एचआईवी के शिकार हैं। एडम ने बताया कि साल 2012 में उन्हें हॉजकिन लिंफोमा के बारे में पता चला था और बाद में एक स्टेम सेल प्रत्यारोपण किया गया। 

इसे भी पढ़ें: एचआईवी-एड्स की शुरुआत में दिखते हैं ये 8 लक्षण, नजरअंदाज करने से बढ़ता जाता है खतरा

एडम ने बताया कि डॉक्टरों की एक टीम ने शख्स को चुना जिसकी स्टेम कोशिकाओं में एक उत्परिवर्तन की दो प्रतियां थीं, जिसका अर्थ था कि वे जिन सफेद रक्त कोशिकाओं को विकसित करते थे, वे एचआईवी(HIV) के लिए प्रतिरोधी थे। बर्लिन के रोगी टिमोथी ब्राउन और वायरस से मुक्त होने वाले पहले व्यक्ति थे जिन्होंने एक समान उपचार किया। हालांकि ब्राउन और कैस्टिलजो दोनों की कीमोथेरेपी थी, केवल ब्राउन की रेडियोथेरेपी उनके कैंसर के इलाज के रूप में थी।

HIV

पिछले साल यह पता चला कि इस प्रक्रिया से न केवल कैंसर का सफलतापूर्वक इलाज किया था, बल्कि यह कि कैस्टिलजो एचआईवी के लिए भी थी। एडम ने बताया कि ''मैं टीवी देख रहा था और यह मुझे पसंद है, वे मेरे बारे में बात कर रहे हैं-यह बहुत ही अजीब सा था। 

इसे भी पढ़ें: HIV और AIDS में ये हैं 7 बड़े अंतर, जानें तथ्य

एडम आगे कहते हैं कि इसके बाद मैंने अपनी पहचान बताने का फैसला किया है, क्योंकि वह चाहते हैं कि उनका मामला दूसरे लोगों के लिए एक आशावाद का कारण बन सके। स्टेम सेल प्रत्यारोपण एचआईवी(HIV) से पीड़ित सभी लोगों के लिए ठीक नहीं है, क्योंकि ये एक तरह की जोखिम भरी प्रक्रिया को शामिल करते हैं। 

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के एक अध्ययन के लेखक प्रोफेसर रवींद्र गुप्ता ने कहा कि कैस्टिलजो का मामला बहुत ही अहम था। यह इस तरह के इलाज का इलाज का दूसरा मामला था। 

Read More Article on Other Diseases In Hindi

Disclaimer