क्या नस दबने से आपको भी होता है तेज दर्द, झुनझुनी और सुन्न हो जाते हैं अंग? जानें इसके लिए 7 घरेलू उपचार

क्या आप भी अक्सर नस दबने की समस्या और उसके कारण होने वाले दर्द और झनझनाहट से परेशान रहते हैं। तो अपनाएं यह कुछ घरेलू उपचार और पाएं दर्द में आराम।

Monika Agarwal
घरेलू नुस्‍खWritten by: Monika AgarwalPublished at: Feb 22, 2021Updated at: Feb 22, 2021
क्या नस दबने से आपको भी होता है तेज दर्द, झुनझुनी और सुन्न हो जाते हैं अंग? जानें इसके लिए 7 घरेलू उपचार

क्या हो, जब शरीर के किसी भी हिस्से की नस में दबाव पड़े और वो आपको प्रभावित करने लगे। कभी कभी ये बेहद दर्दनाक और मुसीबत भरा हो सकता है। नस दबने (Pinched Nerve) के मामले को हल्के में लेना सबसे बड़ी लापरवाही होती है। देखा जाए तो नस दबने की समस्या सबसे ज्यादा तब होती है, जब शरीर के किसी हिस्से पर ज्यादा दबाव पड़ने लगता है। जिस वजह से उस हिस्से की नस दब जाती है। जिसे मेडिकल भाषा में पिंच्ड नर्व (Pinched Nerve) भी कहा जाता है। इस समस्या के कारण व्यक्ति को असहनीय पीड़ा होती है और कई अन्य समस्याएं होती हैं। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं, या भविष्य में कभी ऐसी समस्या हो तो, हम आपको बता रहे हैं दबी हुई नस के कारण शरीर में महसूस होने वाले कुछ लक्षण और कुछ घरेलू उपाय, जो आपको इस समस्या से निजात दिला सकते हैं।

दबी हुई नस के लक्षण (Symptoms of Pinched Nerve in Hindi)

  • गर्दन, कंधों, कमर, पीठ या शरीर के एक तरफ के पूरे हिस्से में दर्द होना
  • शरीर के कुछ हिस्सों में सुन्नपन महसूस होना
  • मांसपेशियों में कमजोरी
  • शरीर के कुछ हिस्सों में बिना दबाव के ही झुनझुनी जैसी महसूस होना
  • ऐसा महसूस होना जैसा शरीर का कोई एक या एक से ज्यादा हिस्से लगातार कांप रहे हैं

ये सारे लक्षण दबी हुई नस (Pinched Nerve Symptoms) के हो सकते हैं। हालांकि ऐसे लक्षण अन्य समस्याओं के भी संकेत हो सकते हैं, इसलिए डॉक्टर से मिलकर इसकी जांच कराना और इलाज कराना महत्वपूर्ण है। दबी नसों के कारण अगर आपको शारीरिक कष्ट हो रहा है, तो नीचे बताए कुछ घरेलू उपायों से आपको इस दर्द में थोड़ी राहत मिल सकती है।

[inched nerve or naso me dard

1. भरपूर नींद और आराम जरूरी (Healthy Sleep)

नसों को आराम देने के लिए नींद सबसे ज्यादा जरूरी होती है। जब भी हम सोते हैं तो उस दौरान हमारा शरीर रेस्ट मोड पर रहता है। आप अगर भरपूर नींद और आराम करते हैं तो आप नस दबने की समस्या को कम कर सकते हैं। आप इस बात का ख्याल भी रखें कि आपके शरीर के हिस्से में अगर कोई नस दबी है तो उस हिस्से को ज्यादा प्रयोग में ना लाएं। आप ऐसी स्थिति में सोएं जिससे उस हिस्से में दबाव ना पड़े।

इसे भी पढ़ें: इन 5 कारणों से आपकी नसों में पैदा होता है दर्द और खिंचाव, जानें कैसे पाएं राहत

2. पोश्चर में करें बदलाव (Change Your Posture)

नस में दबाव की समस्या आपकी खराब मुद्रा में चलना, लेटना या बैठने की वजह से बढ़ सकती है। अगर आप लंबे समय तक खराब मुद्रा में बैठे या खड़े रहते हैं तो नसों में तनाव होता है। जिससे रीढ़ की हड्डी के साथ मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे में आप खुद को इसी स्थिति से बचाने के लिए सही मुद्रा में बैठें। इसके अलवा आप कुशन, एडजस्टेबल चेयर का इस्तेमाल कर अपनी गर्दन को आराम दे सकते हैं।

3. एर्गोनोमिक वर्कस्टेशन (Ergonomic workstation)

नसों में दर्द का कारण घंटों काम करने के लिए बैठने वाला आपका गलत पोश्चर या गलत तरीका भी हो सकता है। इसलिए अगर नस के दबाव से परेशान हैं तो, आपको अपने काम की जगह को ज्यादा आराम दायक बनानी चाहिए। आप एर्गोनोमिक माउस और कीबोर्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे नसों के दर्द में आराम पाया जा सकता है। ज्यादातर लोग होते हैं जिन्हें घंटो कम्प्यूटर सिस्टम में बैठकर काम करना पड़ता है। इससे आंख और गर्दन के साथ हाथों पर काफी गहरा असर पड़ता है। इसके इस्तेमाल से रीढ़ की हड्डी को गतिमान और लचीला बनाए रखने में मदद मिलती है। जिससे पीठ दर्द में भी राहत मिलती है।

4. स्ट्रेचिंग और योग भी जरूरी (Gentle stretching)

आप हल्के नसों के दबाव के दर्द से राहत पाने के लिए योग और स्ट्रेचिंग के जरिये कुछ हद तक राहत पा सकते हैं। बस आपको इस बात का ख्याल रखना है कि आप प्रभावित अंगों को ज्यादा खिंचाव न दें। इससे आपकी परेशानी और भी ज्यादा बढ़ सकती है। व्यायाम करते समय अगर आप किसी भी तरह के दर्द का अनुभव करते हैं तो योग या स्ट्रेचिंग को तुरंत रोक दें।

home remedies for pinched nerve pain

5. मालिश देगी आराम (Massage Therapy)

मालिश शरीर के किसी भी हिस्से को आराम के साथ साथ तनाव से राहत दिलाने में मदद करती है। आप उस जगह पर हल्के और नरम हाथों से मालिश करें जहां नस दबने की समस्या हो रही हो। आप दबाव के साथ मसाज ना करें, वरना परेशानी कम होने के बजाय और भी बढ़ सकती है। आप हल्की मालिश, योग, स्ट्रेचिंग से अपनी समस्या का निदान कर सकते हैं।

6. सिंकाई आएगी काम (Heat Packs)

कभी कभी नसों में दबाव पड़ने की वजह से प्रभावित हिस्से में सूजन होने लगती है। ऐसे में आप बर्फ या गर्म पानी की बोतल या पैक से सिंकाई करके सूजन को कम कर सकते हैं। जब भी गर्म और ठंडे पैक से सिंकाई एक साथ की जाती है तो दर्द से काफी राहत मिलती है। अगर आप सूजन को कम करना चाहते हैं, तो प्रभावित हिस्से को कम से कम 15 मिनट तक सेंके। आप एक दिन में तीन बार सिंकाई कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: नसों के दर्द से हैं परेशान? डायटीशियन से जानें दर्द को दूर करने के लिए क्या खाएं और 11 घरेलू उपाय

7. लाइफस्टाइल में बदलाव भी जरूरी ( Change Your Lifestyle)

शरीर में कभी भी किसी भी हिस्से में नस के दबाव का दर्द सहना पड़ सकता है। आप इससे अपना बचाव तभी कर सकते हैं, जब आप लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करेंगे। आप हर रोज व्यायाम करें, वाक पर जाएं, रनिंग करें, साइकिलिंग करें, अच्छा और पोषण भरा आहार शामिल करें। जिससे आपका वजन नहीं बढ़ेगा और ना ही नसों में दबाव होगा।

तो ये कुछ ऐसे उपाय हैं, जिनके आजमाकर आप नसों पर पड़ने वाले दबाव से अपना बचाव कर सकते हैं या अगर आप इस परेशानी जूझ भी रहे हैं तो भी ये टिप्स बहुत आराम देंगे। इससे आपको शतप्रतिशत राहत मिलेगी।

Read More Articles on Home Remedies in Hindi

Disclaimer