बच्‍चों के विकास के लिए जरूरी हैं ये 6 पोषक तत्‍व, जानें कैसे बनाएं संतुलित डाइट चार्ट

बच्चे के स्‍वस्‍थ विकास के लिए जरूरी है कि आप उसकी आहार योजना और आदतों में स्‍वस्‍थ व संतुलित भोजन को जोड़ने की कोशिश करें। बच्‍चे के सही और गलत खानपान दोनों आदतों के पीछे माता-पिता काफी हद तक जिम्‍मेदार होते हैं। आइए जानते

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jul 05, 2019Updated at: Jul 05, 2019
बच्‍चों के विकास के लिए जरूरी हैं ये 6 पोषक तत्‍व, जानें कैसे बनाएं संतुलित डाइट चार्ट

बच्चे के स्‍वस्‍थ विकास के लिए जरूरी है कि आप उसकी आहार योजना और आदतों में स्‍वस्‍थ व संतुलित भोजन को जोड़ने की कोशिश करें। बच्‍चे के सही और गलत खानपान दोनों आदतों के पीछे माता-पिता काफी हद तक जिम्‍मेदार होते हैं। क्‍योंकि बच्‍चे की अधिकतर खानपान से जुड़ी आदतें अपने घर से जुड़ी होती हैं, उसे जैसी आदत डलवायी जाए, वह उसी के साथ आगे बढ़ता है। इसलिए आप अपने बच्चों को विभिन्न प्रकार के खाद्य समूहों से युक्त एक स्वस्थ, संतुलित भोजन के लिए उसे प्रोत्साहित करें और सुनिश्चित करें कि उन्हें अच्छे स्वास्थ्य के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्व मिलें। लेकिन इसके लिए आपका ये जानना जरूरी है कि आपके बच्चे के विकास के लिए कौन से पोषक तत्व और खाद्य पदार्थ सबसे अच्छे और महत्‍वपूर्ण हैं।

ब्रिटिश न्यूट्रिशन फाउंडेशन का मानना है कि 5 साल की उम्र से बच्चों के आहार में स्टार्चयुक्त कार्बोहाइड्रेट, फल और सब्जियां, और कुछ प्रोटीन और डेयरी खाद्य पदार्थ शामिल होने चाहिए। नीचे कुछ सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व हैं जो हर बच्चे को दैनिक आहार तके शामिल किए जाने चाहिए।

प्रोटीन

प्रोटीन आपके बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बेहद जरूरी है। शरीर के उचित विकास, रखरखाव और मरम्मत के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है। इसके लिए आप बच्‍चे की डाइट में रेड मीट, मछली, अंडे, दूध, डेयरी उत्पाद, दालें, बीन्स और सोया उत्पादों को शामिल कर सकते विकल्प।

कार्बोहाइड्रेट

बच्‍चे के विकास के लिए जितना जरूरी प्रोटीन है उतना ही उसके संपूर्ण व संतुलित विकास के लिए कार्बोहाइड्रेट (स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ) भी महत्‍वपूर्ण है। यह आपके बढ़ते बच्चे के लिए ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है। इसके लिए आप अपने बच्‍चे को आलू, चावल, ओट्स, ब्रेड जैसे कई स्टार्च वाले कार्ब्स से भरपूर खाना खिलाएं। साबुत अनाज उच्‍च फाइबर से भी समृद्ध होते हैं।

इसे भी पढें: पैकेटबंद और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस बच्चों के दिमाग के लिए हो सकते हैं खतरनाक, जानें क्यों?

वसा

स्वस्थ रहने के लिए आपके बच्चे को आहार में फैट यानि वसा की आवश्यकता भी होती है। हालांकि, यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि आप बच्‍चे को अच्‍छी वसा और सही मात्रा में दें। इसके लिए आप बच्‍चे को वसायुक्‍त खाद्य पदार्थों जैसे- मांस, मछली, डेयरी उत्पाद, घी, मक्खन, नट्स, आदि का सेवन करवा सकते हैं। कोशिश करें कि बच्‍चे का सैचुरेटेड फैट के बजाय अनसैचुरेटेड फैट ही दें। क्‍योंकि सैचुरेटेड फैट होने से आपके बच्चे को आगे चलकर हृदय रोग जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्‍याओं का खतरा हो सकता है।

कैल्शियम

शरीर को कैल्शियम की सबसे ज्‍यादा जरूरत होती है। बच्‍चे ही नहीं बल्कि बुजुर्गों को भी स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए, कैल्शियम की आवश्‍यकता होती है। इसलिए बच्‍चे के हथ्‍ड्डयों मांसपेशियों और दांतों को स्‍वस्‍थ बनाए रखने के लिए आप अपने बच्चे की डाइट में कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें। कैल्शियम के अच्‍छे स्‍त्रोत दूध, दही, पनीर, टोफू, सोया बीन्स, पालक और ब्रोकोली जैसी हरी पत्तेदार सब्जियाँ आदि हैं, जिनमें कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है।

आयरन 

एक बच्चे को स्वस्थ रक्त के साथ-साथ शरीर के चारों ओर ऑक्सीजन के परिवहन के लिए आयरन की आवश्यकता होती है। आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों में साबुत अनाज, दालें, बीन्स, रेड मीट, नट्स और सूखे फल, डार्क ग्रीन सब्जियां जैसे पालक शामिल है।

इसे भी पढें: बच्चों में किडनी रोग के ये 5 लक्षण पहचानें, जानें माता-पिता इन रोगों से बचाव के लिए क्या करें?

विटामिन्‍स

बच्‍चे के स्‍वस्‍थ विकास और संपूर्ण स्‍वास्‍थ्‍य के लिए कुछ जरूरी विटामिन उसके आहार में होना बहुत महत्‍वपूर्ण है। जैसे कि विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन डी। विटामिन ए से भरपूर खाद्य पदार्थों में दूध, दही, अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियाँ, गाजर, शकरकंद, लाल मिर्च और पालक शामिल हैं। इसके अलावा, विटामिन सी में खट्टे फल, जामुन, टमाटर, ब्रोकोली, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, और मिर्च विटानि सी के अच्‍छे स्‍त्रोत हैं। जबकि सूरज की रौशनी विटामिन डी का मुख्य प्राकृतिेक स्रोत है। इसके लिए आप अपने बच्चे में अंडे, मछली, सोया दूध को बच्‍चे की डाइट में शामिल कर सकते हैं। 

Read More Article On Children's Health In Hindi 

Disclaimer