ब्लड शुगर घटाती हैं ये 6 तरह की रोटियां, जानें डायबिटीज मरीजों के लिए इनके फायदे और रेसिपी

डायबिटीज रोगियों के लिए गेंहूं के आटे से कहीं ज्यादा फायदेमंद होती हैं इन 6 आटों से बनी रोटियां, जानें इनकी रेसिपी।

Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: May 06, 2021Updated at: May 06, 2021
ब्लड शुगर घटाती हैं ये 6 तरह की रोटियां, जानें डायबिटीज मरीजों के लिए इनके फायदे और रेसिपी

डायबिटीज (Diabetes) और मोटापा (Obesity) दुनिया की दो ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे आज के समय में अमूमन लोग ग्रसित हैं। डायबिटीज और मोटापे का खान पान से सीधा संबंध है। असंतुलित जीवनशैली (Imbalanced Lifestyle) और गलत खान पान के कारण आपको यह बीमारियां होती हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी रोटियों के बारे में बताएंगे, जिनसे आपकी डायबिटीज की समस्या दूर हो जाएगी। शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम हो जाने और ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाने से डायबिटीज की समस्या होती है। चिकित्सकों द्वारा डायबिटीज में संतुलित खान पान और परहेज करने की सलाह दी जाती है। ऐसे में डायबिटीज के रोगियों के लिए सही आटे की रोटी खाना भी एक चुनौती भरा कार्य हो जाता है। डायबिटीज के रोगियों को खासतौर पर गेहूं के आटे से बनी रोटियां खाने से बचना चाहिए। आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि शरीर में ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए कौन सी रोटियां खाना फायदेमंद होती है। 

oatsroti

1. ओट्स की रोटी (Oats Chapati)

वजन कम करने के लिए दुनियाभर में माने जाना वाला ओट्स डायबिटीज के मरीजों के लिए किसी रामबाण से कम नहीं है। ओट्स से बनी रोटी खाने से आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल संतुलित रहता है। इसका सेवन आपके टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) के खतरे को भी कम करता है। ओट्स में ग्लाइकोसेमिक कम मात्रा में होता है। वहीं इसमें पाए जाने वाला फाइबर आपके ब्लड शुगर को रेगुलेट करने में मदद करता है। ओट्स में पाए जाने वाला बीटा ग्लूकॉन (Beta Glucon) भी आपके डायबिटीज बढ़ने के खतरे को कम करता है। यही नहीं ओट्स की रोटी का सेवन आपको दिल से जुड़ी बीमारियों से भी बचाती है। 

इसे भी पढ़े - डायबिटीज मरीजों के लिए कोरोना की वैक्सीन कितनी कारगर है? शुगर रोगी हैं तो इन बातों का रखें विशेष ख्याल

बनाने की विधि (How to Make)

  • रोटी बनाने के अनुसार ओट्स और आटा लें। 
  • ओट्स की रोटी बनाने के लिए गेहूं का आटा लें। इसमें अपने अनुसार मिर्च आदि डाल सकते हैं। 
  • अब ओट्स को मिक्सी में बारीक पीस लें। 
  • अब इसे निकालकर गेहूं के आटे के साथ इसका मिश्रण करें। 
  • अब आंटे को गूंथ लें और सामान्य रोटी की तरह तवे पर सेंक लें। 

soyaroti

2. सोया रोटी (Soya Chapati)

सोया पर हुए एक शोध में यह पाया गया कि सोया में आइसोफ्लेवोन्स की मात्रा पाई जाती है, जो डायबिटीज नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाता है। इसका सेवन करने से आपका ब्लड शुगर लेवल घटता है और यह शरीर में ग्लूकोज टॉलरेन्स को भी बढ़ाता है। सिर्फ डायबिटीज ही नहीं इसका सेवन आपके कोलेस्ट्रोल लेवल बढ़ने से रोकता है और कार्डियोवैस्कुलर डिजीज का भी खतरा कम करता है। माना जाता है कि सोया की रोटी का रोजाना सेवन आपकी डायबिटीज को पूर्णता नियंत्रित रखता है। 

बनाने कि विधि (How to Make)

  • एक कप गेहूं का आटा लें। इसके साथ ही 2 से 3 टेबल स्पून सोया का आटा लें। 
  • इसमें आप स्वादानुसार नमक, मिर्च आदि डाल सकते हैं। 
  • गेहूं के आटे के साथ सोया के आटे को गूथ लें और थोड़ी फूलने के ले छोड़ दें। 
  • अब इसे भी गेहूं की रोटी की तरह ही सेक लें। 

bajraroti

3. बाजरे की रोटी (Millet Chapati)

डायबिटीज से बचाव के लिए और ब्लड शुगर कम करने के ले तो बाजरे की रोटी को वरदान माना जाता है। बाजरे मे भरपूर मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो रक्त शर्करा को बढ़ने से रोकता है। कच्चे बाजरे में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम मात्रा में पाया जाता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल बढ़ने की संभावना काफी कम हो जाती है। इसलिए डायबिटीज के रोगियों को खासतौर पर बाजरे से बनी रोटी का सेवन करना चाहिए। 

बनाने की विधि (How to make)

  • इसके लिए आपको बाजरे का आटा और गेहूं का आटा लेना होगा। 
  • अब दोनों आटे को अच्छे से गूंथ लें। 
  • ध्यान रहे आटे को मुलायम गूथना है, जिससे रोटी टूटे नहीं। 
  • अब इसे धीम आंच पर सेंक लें। 

ragiroti

4. रागी के आटे की रोटी (Ragi Chapati)

रागी के आटे से बनी रोटी डायबिटीज के मरीजों के ले बहुत फायदेमंद होती है। इसमें पॉलीफेनॉल्स के साथ ही डायटरी फाइबर की प्रचुरता पाई जाती है, जो आपके ब्ल़ड शुगर लेवल को बिलकुल नहीं बढ़ने देती है। यही नहीं इसमें मिनिरल्स और एमीनो एसिड की भी अधिक मात्रा पाई जाती है, जो ब्लड शुगर कंट्रोल करने में सहायक माना जाता है। मधुमेह से ग्रसित लोगों को खासतौर पर इसकी रोटी का सेवन करना चाहिए। 

बनाने की विधि (How to make)

  • एक कप रागी के आटे के साथ जरूरत अनुसार पानी लें। 
  • इसे गूंथ के सही आकार दें। ध्यान रहे कि हल्के हाथों से गूथें, जिससे रोटी टूटे नहीं। 
  • रोटी को सेंकते समय उसे एक कपड़े की मदद से हल्के हाथों से दबाते रहें। 

5. ज्वार के आटे की रोटी (Jowar Chapati)

ज्वार का आटा भी डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी लाभदायक होता है। ज्वार में मैग्नीशियम, प्रोटीन और डायट्री फाइबर्स की मात्रा पाई जाती है। जो ब्लड शुगर लेवल को कम करने में असरदार होती है। ज्वार की रोटी को डायबिटीज फ्रेंडली (Diabetes Friendly) माना जाता है। पुराने समय से ही ज्वार की रोटी का सेवन होता आ रहा है। ज्वार की रोटी मे ग्लूटेन नहीं होता है। अक्सर चिकित्सकों द्वारा भी ज्वार की रोटी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। 

बनाने की विधि (How to make)

  • एक कप ज्वार का आटा लें उसके साथ एक टेबलस्पून घी लें। 
  • स्वादानुसार नमक लें। 
  • आटे को ज्यादा सख्त न करते हे इसे हल्के हाथों से गूथ ले। 
  • एक से दो मिनट तक गूंथने के बाद इसे हल्रकी आंच पर पकाएं। 
  • लीजिए आपकी डायबिटीज फ्रेंडली रोटी तैयार है। 

6. चने की रोटी (Gram Chapati)

चने की रोटी भी डायबिटीज के खतरे को और डायबिटीज के नियंत्रण में बहुत ही प्रभावी मानी जाती है। चने की रोटी ग्लूटेन फ्री होती है। वहीं ग्लूटेन वाले पदार्थों में ब्लड शुगर का स्तर बढ़ा देते हैं। लेकिन चने के आटे की रोटी ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी काफी कम होता है। इससे बनी रोटी का सेवन रोजाना करने से ब्लड शुगर लेवल में गिरावट आती है। इसे खाने से शरीर में गुड़ कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ती है। 

बनाने की विधि (How to make)

  • एक कप गेहूं का आटा लें अधिक लाभ के लिए उसमें कम से कम दो कप चने का आटा मिलाएं। 
  • आप चाहें तो इममें थोड़ी से बेसन की भी मात्रा डाल सकते है। 
  • चने का आटा दरदरा होता है इसलिए इसे जल्दबाजी में न बनाएं। 
  • अब गेहूं, चने के आटे और बेसन को अच्छे से गूथ लें। 
  • अब इसे धीमी आंच पर पका लें। 

गेहूं के आटे से बचें (Not Eat Wheat Flour)

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो गेहूं का आटा आपके लिए किसी मीठे जहर से कम नहीं है। क्या आप जानते हैं कि गेहूं के आटे में ग्लाइसेमिक इंडेक्स 100 के करीब होता है। जबकि बाकी आटों में यह बहुत कम मात्रा मे पाया जाता है। डायबिटीज के रोगियों को खासतौर पर इस गेहूं के आटे की रोटी नहीं खाने की सलाह दी जाती है। इससे बचने के लिए उनके पास एक नहीं बल्कि तमाम पौष्टिक विकल्प उपलब्ध हैं। इसलिए बल्ड शुगर लेवल को संतुलित रखना चाहते हैं तो रोजाना गेहूं के आटे की रोटी खाने से बचे। 

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं तो गेहूं के आटे के सेवन से बचें। इस लेख में दी गई सभी रोटिय़ां आपके लिए बेहद लाभकारी हैं। अपने ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लिए इनका सेवन जरूर करें। 

Read more Articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer