अगर पार्टनर आपके साथ करें ये 5 हरकतें तो हो जाएं सावधान, अलविदा कहने में न लगाएं देर

सामान्य उतार-चढ़ाव और एक गलत रिश्ते में होने के बीच का अंतर समझना हर किसी के लिए आसान नहीं होता। पर समझना जरूरी है कि कहीं आपका रिश्ता गलत तो नहीं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Nov 21, 2019 17:44 IST
अगर पार्टनर आपके साथ करें ये 5 हरकतें तो हो जाएं सावधान, अलविदा कहने में न लगाएं देर

यहां तक कि सबसे अच्छे रिश्तों को कई बार कठिन समय से गुजरना पड़ता है। कई बार लोग अपने जीवन में माता-पिता, भाइयों और जीवनसाथी के साथ कठिन समय से गुजरते हैं और इसी बीच कई रिश्ते खत्म भी हो जाते हैं। वहीं कई बार इन मुश्किलों से गुजर कर भी आपका रिश्ता वैसा का वैसा ही रहता है। जब कोई संबंध मौलिक रूप से मजबूत होता है, तो दो लोगों के लिए कोई भी संघर्ष करना मुश्किल नहीं रह जाता है। भले ही यह गड़बड़ जो भी हो, वास्तव में आपके भीतर का विश्वास ही रिश्ते को मजबूत बनाता है। लेकिन अगर यह रिश्ता खुरदुरा सा है तो? आपको लगता हो कि आपका साथी आपके लिए सही नहीं है पर आप पूरी तरह से उस रिश्ते को खत्म करने के लिए तैयार नहीं हैं, तब आप किसी फैसले पर कैसे पहुंचेंगे। तो आइए हम आपकी इसमें थोड़ी सी मदद कर देते हैं। अगर आपका पार्टनर सच में आपके लिए सही नहीं है तो आपको धीरे-धीरे मालूम पड़ने लगेगा और वक्त के साख आपको इसके संकेत भी मिलने लगेंगे। आइए हम आपको बताते हैं वे संकेत जब आपको लगने लगेगा कि ये इंसान आपके लिए सही नहीं है।

Inside_toxic relationship

सामान्य उतार-चढ़ाव और एक गलत रिश्ते में होने का अंतर कैसे समझें- 

गैसलाइटिंग (आपकी वास्तविकता पर सवाल उठाना)-

अगर किसी रिश्ते को लेकर लगातार लोग अनुमान लगा रहे हैं, तो समझिए उस रिश्ते में कुछ गड़बड़ है। गैसलाइटिंग, एक तरह का भावनात्मक शोषण का एक रूप है, जो आपको अपनी वास्तविकता पर सवाल उठाने के लिए मजबूर करता है। उदाहरण के लिए, आप अपने साथी से जो भी कहें वो आपकी बात न सुनें और मजाक उड़ा दें। ऐसे में आपको अपनी बातों पर, अपनी सोच पर सवाल उठाने का मन होता है। तो समझिए ये गलत हो रहा है। एक तरह से आपको अपने खुद के आंतरिक ज्ञान पर संदेह होग। इस तरह का रिश्ता, जहरीले रिश्तो में से एक हो सकता है। गैसलाइटर्स अक्सर हेरफेर में कुशल होते हैं, जिससे इसे पहचानना और बचना मुश्किल हो जाता है। और आप ऐसे  गैसलाइटर्स साथियों के साथ एक लंबा वक्त गुजार देते हैं और समझ नहीं पाते कि ये रिश्ता गलत है। 

इसे भी पढ़ें : 'शक्की पार्टनर' के गुस्से और झगड़े से हैं परेशान, तो इन 5 तरीकों से करें उसे हैंडल

मैनिपुलेटर से रहें दूर-

गैसलाइटर्स और जोड़ तोड़ करने वाले लोग अक्सर आपको समय-समय पर अच्छी तरह से समझा लेंगे और आप उनकी बातों पर आसानी से भरोसा कर सकते हैं। आपका साथी अक्सर आपकी उपेक्षा करता है, जिससे आप रिश्ते और यहां तक कि अपने आत्म-मूल्य पर सवाल उठा सकते हैं; और फिर जब आप रिश्ते को छोड़ना चाहते हैं, तो वे अचानक आपको सकारात्मक ध्यान देते हैं, और यह अच्छा लगता है। आप अपने आप को बता सकते हैं कि चीजें अब अलग होने जा रही हैं, और उनके पिछले व्यवहार के लिए बहाने बनाते हैं - लेकिन फिर वे अभिनय एक दिन खत्म हो जाता है। ये एक एक शक्तिशाली तरीका है और चालाक तरीका है।

सामाजिक अलगाव-

ऐसे लोगों से सावधान रहें, जो आपको सामाजिक रूप से अलग करने की कोशिश करते हैं - अपने परिवार की आलोचना करते हुए, अपने दोस्तों से दूरी बनाने की कोशिश करते हैं, यहाँ तक कि आपको अतीत से अलग करने की कोशिश भी करते हैं जिसमें वे शामिल नहीं हैं। बाहरी दुनिया के साथ अपने संपर्क को सीमित करना एक ऐसा तरीका है, जिससे वे आपको और आपके अनुभव को नियंत्रित कर सकते हैं और अपनी वास्तविकता को परिभाषित कर सकते हैं। यह मन पर नियंत्रण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, इस तरह आप अंदर ही अंदर दुखी हो जाएंगे और अपने आप को लोगों से दूर रखने के बारे में सोचेंगे। अगर कोई व्यक्ति आपके जीवन में आपको अकेला बनाकर खुद के नियंत्रण में ला पहा है, तो वास्तव में वो आपको लिए एक गतल इंसान है।

आपका और आपके पैसों का इस्तेमाल करे-

ये आपको पहले अजीब नहीं लग सकता है पर इसका अंत बहुत खराब है। जो, लोग हमेशा आपका इस्तेमाल करते हो और किसी न किसी चीज में पैसों को ले आते हों, ऐसे रिश्तों सो दूरी बनाना जरूरी होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि शायद वो इंसान आपके साथ आपके सुख-सुविधाओं के लिए हो। आपका पूरी तरह से इंस्तेमाल कर रहा हो और आपको पता भी न हो। प्यार में ऐसा अक्सर हो जाता है। अक्सर जिसे हम अपनी जिंदगी के लिए सही समझते हैं, वो आपके रिश्ते के लिए और आपके लिए पूरी तरह से गलत होता है। ऐसे लोगों पर पहले दिन से नजर रखें और जिस दिन आपको लगे ऐसा हो रहा और उसे अलविदा कह दें।

इसे भी पढ़ें : धोखेबाज गर्लफ्रेंड की निशानी है उसकी ये 5 आदतें, कहीं आप तो नहीं हैं इसके शिकार

भावनात्मक शोषण-

एक कठिन अवधि और विषाक्त संबंध के बीच एक बड़ा अंतर भावनात्मक दुरुपयोग की उपस्थिति है। जो लोग एक-दूसरे से प्यार करते हैं, वे तर्क की बात करते हुए आपसे ऐसी बातें कह सकते हैं जो दुखद हैं - यहां तक कि क्रूर भी हैं - लेकिन ये सही नहीं हैं। वे इसे क्रोध का रूप देते हैं और बार-बार आपको मानसिक रूप से परेशान करते हैं, तो ऐसे लोगों से दूर रहें। लंबे समय तक ऐसा करना एक तरह से आपका भावनात्मक शोषण है। इन तमाम चीजों को ध्यान में रखते हुए ही किसी रिश्ते में रहें या उसे अलविदा कह दें।

Read more articles on Cheating in Hindi

Disclaimer