शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का संकेत हैं ये 5 लक्षण, हार्ट अटैक का बढ़ता है खतरा

शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आप जानते हैं कि हमारा दिल हर समय धड़कता है और शरीर में मौजूद खून को पंप करता है, ताकि वो सभी अंगों तक पहुंच सके। खून को अंगों तक ले जाने के लिए हमारे शरीर में धमनियां (आर्टरीज या

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 14, 2019
शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का संकेत हैं ये 5 लक्षण, हार्ट अटैक का बढ़ता है खतरा

शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। आप जानते हैं कि हमारा दिल हर समय धड़कता है और शरीर में मौजूद खून को पंप करता है, ताकि वो सभी अंगों तक पहुंच सके। खून को अंगों तक ले जाने के लिए हमारे शरीर में धमनियां (आर्टरीज या रक्तवाहिकाएं) हैं। इन्हीं धमनियों में बहकर खून और ऑक्सीजन हमारे अंगों तक पहुंचते हैं। कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर इन धमनियों में एक तरह का पदार्थ जमा होने लगता है, जिसे प्लाक कहते हैं। धमनियों में प्लाक के जमने से खून बहने का रास्ता संकरा होता जाता है। ऐसे में जब पूरी तरह ब्लॉक हो जाने के कारण आपके हृदय तक खून और ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाते हैं, तो हार्ट अटैक या दिल की दूसरी बीमारियां हो जाती हैं।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के संकतों को पहचानें, ताकि बच सके जान

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण किसी भी उम्र में आपको परेशानी हो सकती है। मगर डॉक्टरों का मानना है कि 20 साल की उम्र तक कम से कम 1 बार कोलेस्ट्रॉल की जांच जरूर करवा लेनी चाहिए। इसके बाद हर साल ये जांच जरूरी है। जब आपके शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है, तो आपका शरीर कुछ संकेत देता है। इन संकेतों को समझकर आपको तुरंत ब्लड टेस्ट करवाना चाहिए और कोलेस्ट्रॉल की समस्या से छुटकारा पाना चाहिए।

बढ़ने लगा है आपका वजन

अगर आपको ऐसा लगता है कि आप बिना किसी खास वजह के अचानक से मोटे होने लगे हैं, तो ये बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल का भी संकेत हो सकता है। इसके अलावा अगर आप पेट में भारीपन महसूस करते हैं या आपको सामान्य से ज्यादा पसीना आता है और गर्मी लगती है, तो आपको अपना कोलेस्ट्रॉल चेक करवाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- हार्ट अटैक का मुख्य कारण है धमनियों में जमा प्लाक, इन 5 आहारों से करें सफाई

सीढ़ियां चढ़ने या पैदल चलने में फूलती है सांस

अगर थोड़े से काम या मेहनत के बाद आपकी सांस फूलने लगती है, तो ये बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल का संकेत हो सकता है। सांस फूलने या थकावट होने के कई कारण हो सकते हैं, मगर अगर ऐसा हो रहा है, तो आपको अपना कोलेस्ट्रॉल जरूर चेक करवाना चाहिए। कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण आप ज्यादा काम किए बिना ही थकावट महसूस करने लगते हैं। आमतौर पर मोटे लोगों को ये समस्या अधिक होती है।

जल्दी-जल्दी होती है सिर दर्द की समस्या

अगर आप अक्सर सिरदर्द से परेशान रहती हैं या आपको कभी-कभी सिर बहुत हल्का लगता है, तो सावधान हो जाएं, क्योंकि ये बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के लक्षण हो सकते हैं। दरअसल कोलेस्ट्रॉल के कारण सिर की सभी नसों में प्रॉपर ब्लड सप्लाई नहीं हो पाती है, तो ऐसी समस्या आती है। इसी कारण सिर में दर्द और चक्कर आने या संवेदना खोने जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

इसे भी पढ़ें:- सर्दियों में हृदय गति का बढ़ना हो सकता है बुरा संकेत, आज ही बदलें ये 5 आदतें

हाथ-पैरों में महसूस हो सिहरन

कोलेस्ट्रॉल शरीर में रक्त के प्रवाह में बाधा बनता है इसलिए कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर अक्सर शरीर के अंगों तक ऑक्सीजनयुक्त खून नहीं पहुंच पाता है, जिससे उस अंग में झुनझुनी या सिहरन जैसा महसूस होने लगता है। अक्सर हाथ-पैर को दबाकर लेटने या बैठने से भी नसों में रक्त का प्रवाह जब कम हो जाता है, तब भी आप ऐसी झुनझुनी या सिहरन महसूस कर सकते हैं मगर यदि ये बिना कारण हो, तो समझें आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है। अपना कोलेस्ट्रॉल लेवल तुरंत चेक करवाएं।

सीने में दर्द और बेचैनी

कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से मुख्य रूप से दिल की बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए अगर आपको सीने में दर्द महसूस हो, बेचैनी हो या दिल बहुत जोर-जोर से धड़कने लगे, तो ये कोलेस्ट्रॉल के बढ़े होने के संकेत हो सकते हैं। इसे नजरअंदाज करना आपके लिए जानलेवा साबित हो सकता है इसलिए ऐसी स्थिति में तुरंत चिकित्सक से जांच करवाएं और अपना कोलेस्ट्रॉल मैनेज करें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Heart Health in Hindi

Disclaimer