सलाद के नाम पर थाली में न भर लें टमाटर! शरीर को होंगे ऐसे 5 नुकसान जिन्हें सुनकर खड़ें हो जाएंगे आपके कान

किसी भी चीज को जरूरत से ज्यादा खाया जाए तो ये हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है, जानें टमाटर खाने के नुकसान।       

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: May 15, 2020
 सलाद के नाम पर थाली में न भर लें टमाटर! शरीर को होंगे ऐसे 5 नुकसान जिन्हें सुनकर खड़ें हो जाएंगे आपके कान

हर भारतीय रसोईघर में आम रूप से पाया जाने वाला टमाटर हर सब्जी के स्वाद को बढ़ाने में योगदान देता है। इनका उपयोग लगभग सभी भोजन में किया जाता है। लाल रंग का ये वेजी, वास्तव में एक प्रकार का फल है, जो न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है और विभिन्न व्यंजनों में इसका इस्तेमाल किया जाता है। व्यंजनों में टमाटर को शामिल करने से न केवल उनका स्वाद बेहतर होता है बल्कि ये हमारे शरीर के लिए भी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ये हमारे स्वास्थ्य को बेहतर बनाती है। टमाटर व्यापक रूप से त्वचा और अन्य बीमारियों के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। टमाटर में अल्फा-लिपोइक एसिड, लाइकोपीन, कोलीन, बीटा-कैरोटीन और ल्यूटिन  जैसे लाभकारी एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो हमारे शरीर से कई बीमारियों को दूर रखने में मदद करते हैं।    

tomato

पोषक तत्वों से भरा ये सुपरफूड बेहतर त्वचा पाने में मदद करता है, वजन कम करने में मदद करता है और हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है। सिर्फ इतना ही नहीं कुछ रिपोर्टों के अनुसार, टमाटर कैंसर से रक्षा कर सकता है, ब्लड प्रेशर को बनाए रख सकता है, आंखों की रोशनी में सुधार कर सकता है और मधुमेह की स्थिति में ब्लड शुगर को कम कर सकता है। हालांकि, ऐसा कहा जाता है कि किसी भी चीज का अधिक सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। इसलिए  हमें टमाटर का भी सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए क्योंकि ज्यादा सेवन हमारे लिए खतरनाक हो सकता है।

आवश्यकता से अधिक टमाटर खाने के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं, तो आइए जानते हैं टमाटर से होने वाले साइड-इफेक्ट 

एसिड रिफलक्स  

टमाटर प्रकृति में अम्लीय होता है। इसलिए अधिक मात्रा में टमाटर खाने के बाद, आप अधिक गैस्ट्रिक एसिड के कारण सीने में जलन या एसिड  रिफलक्स का अनुभव कर सकते हैं। अगर आप पाचन समस्या से परेशान हैं या फिर गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग के लक्षण से पीड़ित हैं तो आपको बहुत कम मात्रा में टमाटर का सेवन करना चाहिए। पर आसानी से जाना चाहिए।          

इसे भी पढ़ेंः हरे या लाल टमाटर ही नहीं ये 5 प्रकार के टमाटर भी आपकी सेहत के लिए हैं फायदेमंद, जानें इनकी न्यूट्रिशन वैल्यू

गुर्दे की समस्या                                                                                                                                                 

अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग के अनुसार, जो व्यक्ति क्रोनिक किडनी रोग से पीड़ित होते हैं उन्हें पोटेशियम का सेवन सीमित करना चाहिए और टमाटर में पोटेशियम की भरपूर मात्रा होती है। इसके अलावा, इनमें ऑक्सालेट नाम के एंटी-ऑक्सीडेंट का उच्च स्तर होता है, जिसका अधिक मात्रा में सेवन किडनी रोग का कारण बन सकता है।

tomatosideeffects

जोड़ों का दर्द

टमाटर के अत्यधिक सेवन से जोड़ों में सूजन और दर्द हो सकता है क्योंकि ये एक क्षारीय पदार्थ से लैस होता है, जिसे सोलनिन कहा जाता है। सोलनिन ऊतकों में कैल्शियम के निर्माण के लिए जिम्मेदार होता है और यह बाद में सूजन का कारण बनता है।        

इसे भी पढ़ेंः रोज इस तरह पिेएं टमाटर का हेल्दी जूस, मिलेंगे ये 5 फायदे

लाइकोपेनोडर्मिया

लाइकोपेनोडर्मिया त्वचा से जुड़ी एक स्थिति है। यह तब होता है जब लाइकोपीन की अधिक मात्रा त्वचा की मलिनकिरण की ओर ले जाती है। लाइकोपीन आपके शरीर के लिए अच्छा है लेकिन जब प्रति दिन 75 मिलीग्राम से अधिक मात्रा का सेवन किया जाता है, तो ये लाइकोपेनोडर्मिया की समस्या पैदा हो जाती है।

एलर्जी

हिस्टामाइन नाम के यौगिक से त्वचा पर चकत्ते या एलर्जी हो सकती है। यदि आपको टमाटर से एलर्जी है, तो आपको ज्यादा टमाटर खाने से मुंह, जीभ और चेहरे की सूजन, छींक और गले का संक्रमण भी हो सकता है। टमाटर से एलर्जिक कॉन्टेक्ट डर्मिटिटिस की समस्या भी हो सकती है। इस रोग में आपकी त्वचा पर गंभीर रूप से खुजली हो जाती है और छूने से सूजन भी हो जाती है।                                                                                              

Read More Articles On miscellaneous In Hindi

Disclaimer