बच्चों के बेहतर शारीरिक विकास में मदद करते हैं ये 4 गेम्स, लंबाई और सेहत दोनों होते हैं बेहतर

बच्चों के लिए खेलना सिर्फ एक खेल नहीं है, बल्कि इसके विभिन्न चरण बच्चे के ब्रेन को विकसित करने में मदद करता है। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Dec 23, 2019Updated at: Dec 23, 2019
बच्चों के बेहतर शारीरिक विकास में मदद करते हैं ये 4 गेम्स, लंबाई और सेहत दोनों होते हैं बेहतर

बच्चे जब बड़े हो रहे होते हैं तो उनके ब्रेन में उसी हिसाब से विकास हो रहा होता है। बच्चा जब 3 वर्ष  की आयु का होता है, तो उसके मस्तिष्क कई तरह के बदलाव आते हैं और वो चीजों को बेहतर तरीके से समझने लगता है। बच्चे को स्कूल भजने से पहले मां-बाप उन्हें प्ले स्कूल भेजते हैं, ताकि वो भाषा और शब्दों को चित्रों के माध्यम से समझने लगते हैं। इसके बाद उनके दिमाग के अलग फेज शुरू होने लगता है। इससे बच्चे का ब्रेन  क्रिएटिव होने लगता है और उसके समझने की गति भी बढ़ने लगती है। क्रिएटिव प्ले बच्चे के विकास का एक अनिवार्य हिस्सा है। ऐसे में आप उन्हें बचपन से ऐसे ही ऐसे खेलों में भागीदारी देने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।  ऐसे में आप उन्हें भूमिका निभाने वाले खेल, कल्पनाशील नाटक करते हैं या नए तरीके से वस्तुओं का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं। इससे उनके मोटर नर्व और मेमोरी आदि के विकास में भी मदद मिल सकती है। यहां चार प्रकार के खेल हैं, जो आपके बच्चे के विकास के लिए आवश्यक हैं।आइए जानते हैं इनके बारे में।

Inside_bacchonkekhel.jpg

काल्पनिक खेल

बच्चे अपने स्कूल के शुरुआती वर्षों में कल्पना से भरे खेलने में संलग्न होने लगते हैं। बच्चे स्थितियों या लोगों की कल्पना करते हैं या किसी विशेष स्थिति में खुद की कल्पना करते हैं और उन परिदृश्यों को दिखाते हैं। इस तरह का खेल बच्चों को भाषा और भावनाओं के साथ खेलने के लिए प्रेरित करता है। ऐसे खेलों से उनके सोचने की शक्ति अच्छी होती है और साथ ही उनके बाकी क्रियात्मक और सृजनात्मक कौशल का भी विकास होता है। इस तरह बच्चे बड़े होने के साथ पढ़ने के अलावा कुछ अन्य कौशलों में भी बेहतर होने लगते हैं।

इसे भी पढ़ें : बच्चों के साथ रोड ट्रिप पर जाएं तो उन्हें कभी न खिलाएं ये 5 आहार, हो सकती है तबीयत खराब

नाटक

यह एक बुनियादी प्रकार का खेल है, जहां बच्चा सिर्फ अपने हाथों और पैरों के साथ यादृच्छिक मूवमेंट करता है बल्कि साहित्य से भी कुछ गुणों को भी सीखता है। माता-पिता बच्चे के बहुत सारे बनावट और रंगों पर ध्यान आकर्षित करके असंगठित नाटक के इस रूप को प्रोत्साहित कर सकते हैं। लेकिन चौंकाने वाली आवाज़ या बहुत उज्ज्वल रोशनी से बच्चे को बचा कर रखें। टॉडलर्स आमतौर पर इस तरह के खेल में संलग्न होते हैं जहां वे खिलौने और अन्य वस्तुओं को उठाते हैं और उनका निरीक्षण करते हैं। आपका बच्चा अन्य बच्चों या वयस्कों के साथ उलझे बिना एक कोने में चुपचाप बैठ जाएगा। इसे स्वतंत्र जीवन जीने और सामाजिक संपर्क विकसित करने की दिशा में बच्चे का पहला कदम माना जाता है।

दर्शकों वाले खेल 

यह एक ऐसी स्थिति को संदर्भित करता है, जहां एक बच्चा, लगभग दो से तीन साल का होता है और अन्य बच्चों को देखता है और उनसे खेल सीखता है। बिना खुद खेले वे खेलों में दर्शक बन कर बहुत सी चीजों को देख कर सीखता है। जो बच्चे दर्शक की भूमिका निभाते हैं वे अवलोकन द्वारा सीखते हैं। वे सुनकर ही भाषा कौशल में कुशल हो जाते हैं। वहीं समानांतर खेल में एक-दूसरे के साथ सीमित बातचीत के साथ-साथ खेलने वाले बच्चे शामिल होते हैं। हालांकि, ये बच्चे कभी-कभी एक-दूसरे का निरीक्षण करते हैं और लड़ते हैं पर इससे बच्चों को दोस्त बनाने का मौका मिल जाता है।

 इसे भी पढ़ें : भाई-बहन में हमेशा रहती है तकरार? इन 4 तरीकों से सिखाएं बच्चों को अपने भाई-बहन का रखना ख्याल

सहयोगी खेल

बच्चे लगभग तीन-चार साल की उम्र में खेलने के इस रूप में उलझने लगते हैं, जहाँ वे खिलौनों के अलावा दूसरे बच्चों में दिलचस्पी लेने लगते हैं। कुछ बिंदु पर, वे दूसरे बच्चे के साथ बातचीत करना शुरू करते हैं, जिसके साथ वे खेल रहे हैं, जो उनके सामाजिक कौशल को बेहतर बनाने में मदद करता है। ऐसे में बच्चे का मानसिक, शारीरिक और सामाजिक विकास तीनों तरह का विकास हो जाता है। ऐसे में बच्चे को अपनी बात दूसरों के सामन रखने आ जाती है और साथ में ही वो दूसरों को भी समझने लगता है। इस तरह उसका सामाजिक औरा तैयार होने लगता है और वो एक बेहतर सामाजिक इंसान बनने लगताी है।

Read more articles on Tips For Parents in Hindi

Disclaimer