सर्दियों में जमकर खाएं ये 6 साग, शरीर को होंगे कई लाभ

सर्दियों में आपको कई वैरायटी के साग खाने के लिए मिल जाएंगे। आइए जानते हैं इनके नाम और सेहत को होने वाले लाभ

सम्‍पादकीय विभाग
स्वस्थ आहारWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Oct 31, 2020
सर्दियों में जमकर खाएं ये 6 साग, शरीर को होंगे कई लाभ

सर्दियों में आपको सब्जियों की काफी ज्यादा वैरायटी खाने को मिल जाती है। इस मौसम में गर्मियों की तुलना में तरह-तरह के पकवान खाने में अच्छा लगता है। लेकिन हमें सर्दियों में अपने खानपान का विशेष ख्याल रखना होता है, इसका कारण यह है कि इस मौसम में बीमार होने का खतरा ज्यादा रहता है। खासकर सर्दी-जुकाम और बुखार जैसी समस्याएं इस सीजन में ज्यादा होती हैं। सर्दियों में आप पोषक तत्वों से भरपूर सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। इन सब्जियों में साग सबसे ज्यादा बेहतरीन होता है। आज हम आपको साग की कुछ ऐसी वैरायटियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो सेहत के लिए गुणकारी साबित हो सकते हैं। आइए जानते हैं साग की वैरायटी और उसने फायदे-

मेथी का साग

मेथी के पराठे स्वाद में काफी अच्छे होते हैं। यह आपको बाजार में काफी आसानी से मिल जाएगा। सेहत की बात करें, तो यह हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद हो सकता है। इसमें विटामिन सी, फाइबर, प्रोटीन, आयरन, नियासिन जैसे पोषक तत्वों की प्रचुरता होती है। इसके अलावा मैग्नीशियम, जिंक, कॉपर और फोलिड एसिड जैसे तत्व इसमें मौजूद होते हैं। ये सभी तत्व हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी हैं। डायबिटीज के रोगियें के लिए मेथी दाना और मेथी का साग बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा पेट से संबंधी समस्याओं जैसे- कुपच, गैस और दस्त के लिए भी यह बहुत ही अच्छा होता है।

इसे भी पढ़ें - इस समस्या से ग्रसित लोगों को नहीं खाना चाहिए बैंगन! वरना हो सकते हैं ये नुकसान

चौलाई का साग

चौलाई का साग, हरे पत्तेदार सब्जियों में सबसे प्रमुख साग माना जाता है। सेहत की दृष्टि से भी यह साग हमारे लिए काफी फायदेमंद है। अगर आप नियमित रूप से चौलाई के साग का सेवन करते हैं, तो आपके शरीर में विटामिंस और मिनरल्स की कमी नहीं होगी। इसमें विटामिन सी, विटामिन ए, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन जैसे तत्व भरपूर रूप से होते हैं।  कप और पित्त की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए यह साग काफी अच्छा माना जाता है। यह कप और पित्त की समस्याओं को नाश करने के लिए बहुत ही उत्तम साग है। 

सरसों का साग

सरसों का साग और मक्के की रोटी पंजाब का प्रसिद्ध खाना है। जो स्वाद में काफी अच्छा होता है। सेहत की दृष्टि से भी सरसों का साग हमारे लिए काफी फायदेमंद है। इस साग में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर रूप से होता है, जो शरीर को विषैले पदार्थों से बचाता है, साथ ही इम्यूनिटी बूस्ट करने में भी आपकी मदद करता है। इसमें विटामिन, ए, विटामिन बी12, विटामिन सी, विटामिन डी, कैलोरी, फैट,  मैग्नीशियम, फाइबर और आयरन जैसे तत्व भरपूर रूप से होते हैं। इस साग में फाइबर की अधिकता होती है, इसलिए पाचन की दृष्टि से भी यह हमारे लिए अच्छा माना जाता है।

चने का साग

चने आपने कई रूप में खाए होंगे, लेकिन क्या कभी आपने चने का साग खाया है? चने का साग स्वाद में काफी अच्छा होता है। सर्दियों में चने का साग खाने से आपके सेहत को कई लाभ पहुंच सकते हैं। इसमें कई पोषक तत्व जैसे- प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, विटामिन ए, कैल्शियम और फाइबर जैसे कई अन्य तत्व पाए जाते हैं। कब्ज, पीलिया और डायबिटीज के मरीजों के लिए यह साग काफी अच्छा माना  जाता है।

इसे भी पढ़ें - सर्दियों में फिट रहने के हैं अनेक मौके, बस अपनाने होंगे ये जरूरी नियम

पालक का साग

शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी होने पर अधिकतर डॉक्टर्स पालक खाने की सलाह देते हैं। इसमें सिर्फ आयरन की प्रचुरता ही नहीं, बल्कि प्रोटीन, कैलोरी, फाइबर और कार्बोहाइड्रेट जैसे तत्व भी मौजूद होते हैं। इसके साथ ही इसमें अन्य कई तत्वों की भी मौजूदगी होती है, जो हमारे सेहत के लिए अच्छे मानें जाते हैं। हालांकि, अधिक पालक खाने से आपको, पेट में गैस, दर्द और सूजन की समस्या हो सकती है, इसलिए संतुलित मात्रा में पालक का सेवन करें। 

बथुआ का साग

यूरीक एसिड की समस्या से ग्रसित लोगों के लिए बथुआ का सेवन फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा कई समस्याओं के लिए भी यह फायदेमंद है। इसमें विटामिन ए, फॉस्फोरस, कैल्शियम और पोटैशियम जैसे तत्व भरपूर रूप से होते हैं। गुर्दे की पथरी से परेशान लोगों के लिए भी बथुआ काफी फायदेमंद हो सकता है।  

साग खाने से पहले इन बातों का रखें ख्याल

  • केमिलयुक्त साग का सेवन ना करें, इससे आपके लिवर और किडनी को नुकसान पहुंच सकता है।
  • मार्केट से साग लाने के बाद उसे अच्छे से साफ करें।
  • साग को साफ करने के बाद गुनगुने पानी में कुछ समय के लिए छोड़ दें, इससे साग में मौजूद केमिकल्स हट सकते हैं।
Read More Article On Healthy Diet In Hindi
 
Disclaimer