Expert

रोजाना पीते हैं पैकेट बंद फ्रूट जूस? जान लें सेहत के ल‍िए इसके नुकसान

Fruit Juice Side Effects: बाजार में म‍िलने वाले पैकेट बंद फ्रूट जूस का सेवन करने से सेहत ब‍िगड़ सकती है। जानें इसके नुकसान।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Feb 09, 2023 08:00 IST
रोजाना पीते हैं पैकेट बंद फ्रूट जूस? जान लें सेहत के ल‍िए इसके नुकसान

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

Packaged Fruit Juices Disadvantages: आजकल पैकेट वाले जूस का चलन बढ़ गया है। यात्रा के दौरान भी लोग लोग पैकेट वाले जूस का सेवन करना पसंद करते हैं। पैकेट वाले जूस में आर्टि‍फ‍िश‍ियल कलर म‍िलाया जाता है। इससे डायब‍िटीज की समस्‍या बढ़ सकती है। वहीं साबुत फलों की बात की जाए, तो इनका सेवन करने से गट और डाइजेस्‍ट‍िव हेल्‍थ को बेहतर बनाने में मदद म‍िलती है। फलों में व‍िटाम‍िन ए, व‍िटाम‍िन बी, व‍िटाम‍िन सी, व‍िटाम‍िन ई, सोड‍ियम, पोटैश‍ियम, मैग्नीशियम, कैल्शियम, क्लोरीन, जिंक, सेलेन‍ियम जैसे पोषक तत्‍व पाए जाते हैं। फल में न्‍यूट्र‍िएंट एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो रस बनाने के बाद कम हो जाते हैं। पेट के ल‍िए फलों का सेवन जरूरी है क्‍योंक‍ि उसमें फाइबर की मात्रा ज्‍यादा होती है। आगे लेख में आपको बताएंगे पैकेट जूस पीने के नुकसान। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में रहने वाली न्‍यूट्र‍िशन‍िस्‍ट पायल अस्‍थाना से बात की।    

fruit juices side effects

पैकेज्ड जूस पीने के नुकसान 

बाजार में म‍िलने वाले पैकेज्‍ड जूस का ज्‍यादा सेवन करने से गैस की समस्‍या हो सकती है। पैकेट वाले जूस में प्र‍िजर्वेट‍िव्‍स होते हैं। इससे शरीर में फैट तो बढ़ता ही है साथ ही नर्वस स‍िस्‍टम पर भी बुरा असर पड़ता है। क्‍व‍िक एनर्जी के ल‍िए लोग जूस का सेवन करना पसंद करते हैं। लेक‍िन जूस में फाइबर की मात्रा कम हो जाती है क्‍योंक‍ि उसमें फल के रेशे मौजूद नहीं होते।     

बाजार वाले जूस में पोषक तत्‍व नहीं होते 

बाहर बाजार में  ढेलों पर म‍िलने वाले जूस का सेवन नहीं करना चाह‍िए। बाहर जूस पीनी से हाइजीन से जुड़ी समस्‍या हो सकती है। अगर जूस को ताजा न प‍िया जाए, तो उसके बुरे प्रभाव शरीर पर पड़ सकते हैं। वहीं बाहर म‍िलने वाले जूस में फ्लेवर या पानी भी म‍िलाया जाता है ज‍िससे उसके पोषक तत्‍व कम हो सकते हैं। अगर जूस को म‍िक्‍स करके प‍िएंगे तो सेहत ब‍िगड़ सकती है। सेब, संतरे और अंगूर जैसे फलों का सेवन करने से हार्ट की प्रॉब्‍लम हो सकती है। एक द‍िन में 100 म‍िली से ज्‍यादा मात्रा का सेवन करने से बचना चाह‍िए।  

इसे भी पढ़ें- खट्टे फलों में छुपा है अच्‍छी सेहत का राज, जानें क्‍यों करना चाह‍िए इनका सेवन

फलों का जूस ज्‍यादा मीठा होता है 

पैकेट वाले फलों का जूस ज्‍यादा मीठा होता है। फलों के रस में व‍िटाम‍िन, म‍िनरल्‍स और व‍िटाम‍िन सी की सीम‍ित मात्रा होती है। इसमें शुगर ज्‍यादा होती है। अगर आप केवल फ्रूट जूस का सेवन करते हैं, तो कैलोरीज बढ़ सकती है। बाजार में म‍िलने वाले पैकेज्‍ड जूस में तो एक्‍सट्रा चीनी म‍िलाई जाती है इसल‍िए हर दिन फ्रूट जूस का सेवन करने से बचना चाह‍िए। पैकेज्‍ड फ्रूट जूस का ज्‍यादा सेवन करने से वजन बढ़ सकता है। 

बाजार में म‍िलने वाले पैकेट जूस का सेवन करने से बचना चाह‍िए। ताजे जूस के बजाय साबुत फलों का सेवन ज्‍यादा सेहतमंद माना जाता है। 

Disclaimer