कोलेजन और बायोटीन में क्या है अंतर? जानें स्किन और बालों के लिए दोनों में से कौन है अधिक फायदेमंद

कोलेजन और बायोटिन स्किन और बालों को सुरक्षित रखने में असरदार हो सकते हैं। आइए जानते हैं इन दोनों के बीच क्या अंतर है?

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jul 18, 2022Updated at: Jul 18, 2022
कोलेजन और बायोटीन में क्या है अंतर? जानें स्किन और बालों के लिए दोनों में से कौन है अधिक फायदेमंद

स्किन और बालों की खूबसूरती को बढ़ाने की जब भी बात आती है, तो कोलेजन और बायोटिन का जिक्र जरूर किया जाता है। कई लोग स्किन को बेदाग और निखरी बनाने के लिए कोलेजन ट्रीटमेंट लेते हैं। वहीं, कुछ लोग बायोटिन ट्रीटमेंट लेते हैं। लेकिन क्या आप इन दोनों के बीच अंतर को समझते हैं? क्या आप जानते हैं कि कोलेजन और बायोटिन किन चीजों में पाया जाता है? अगर नहीं, तो इस लेख में आपको इस विषय के बारे में जानकारी मिलेगी। आइए जानते हैं कोलेजन और बायोटिन में अंतर क्या होता है? 

कोलेजन और बायोटिन में अंतर?

कोलेजन क्या है? - What is Collagen 

कोलेजन एक तरह का रेशेदार प्रोटीन होता है। यह स्किन, बालों और नाखूनों को मजबूत बनाने में आपकी मदद करता है। 

शरीर में कौलैजन की पूर्ति के लिए प्रोटीन (Protein) युक्त आहार खाने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा जिंक, कॉपर, विटामिन सी और अमीनो एसिड युक्त आहार लेने की भी सलाह दी जा सकती है। इसके लिए अंडे, मीट, चिकन जैसे आहार का सेवन करें।

इसे भी पढ़ें - रात में न करें स्किन केयर से जुड़ी ये गलतियां, खूबसूरती हो सकती है खराब

बायोटिन क्या है? - What is Biotin 

विटामिन बी7 को बायोटिन कहा जाता है। इसमें विटामिन H और को-एंजाइम आर मौजूद होता है। इसकी मदद से आपके बाल, स्किन और नाखून स्वस्थ रहते हैं। हमारा शरीर बायोटिन का निर्माण नहीं करता है। ऐसे में इसकी पूर्ति के लिए बायोटिन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना जरूरी होता है। 

अंडे की जर्दी, मछली, दूध, अंडे, ड्राई फ्रूट्स, सूरजमुखी के बीज, साबुत अनाज जैसे आहार बायोटीन से भरपूर होते हैं। इन आहार के सेवन से आप बायोटिन की पूर्ति कर सकते हैं। 

कोलेजन और बायोटिन में अंतर क्या है? - Difference between Collagen and Biotin 

कोलेजन रेशेदार प्रोटीन होता है, जो स्किन के बाह्य मैट्रिक्स बनाने में मददगार हो सकता है। इसकी मदद से स्किन की संरचना और आकार में सुधार किया जा सकता है। शरीर में कोलेजन की कमी के कारण स्किन काफी पतली होने लगती है, जिसकी वजह से झुर्रियां, फाइन-लाइंस जैसी परेशानियां हो सकती हैं। 

शरीर में बायोटिन की कमी के कारण चक्कर आना, मांसपेशियों में थकान, कमजोरी, पैरों ( pain in legs ) में बार-बार झुनझुनी होना जैसे लक्षण भी नजर आते हैं। 

वहीं, कोलेजेन की कमी के कारण झाइयां, चेहरे पर झुर्रियां, झड़ते बालों की परेशानी और जोड़ों में दर्द हो सकता है। 

स्किन और बालों के लिए कौन है अधिक फायदेमंद?

स्किन और बालों के लिए कोलेजन और बायोटिन दोनों ही फायदेमंद  और जरूरी होते हैं। यदि किसी व्यक्ति के शरीर में बायोटिन की कमी हो जाए, तो स्किन संबंधी परेशानी बढ़ सकती है। वहीं, कोलेजन की कमी से भी स्किन को परेशानी होने की संभावना होती है। ऐसे में दोनों ही स्किन के लिए बेहतर हो सकता है।

स्किन, बाल और नाखूनों को सुरक्षित रखने के लिए कोलेजन और बायोटिन काफी हेल्दी माना जाता है। अगर आपके शरीर में इसकी कमी हो, तो सप्लीमेंट्स के द्वारा इसकी पूर्ति की जा सकती है। हालांकि, ध्यान रखें कि सप्लीमेंट्स लेने से पहले एक्सपर्ट्स से सलाह जरूर लें।

 
Disclaimer