प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से बचाएगा गुड़, जानें कैसे करें प्रयोग

दिल्ली एनसीआर की हवा में प्रदूषण एक बार फिर से खतरे के निशान को पार गया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि शोध में पता चला है कि गुड़ आपको प्रदूषण से होने वाली समस्याओं से बचा सकता है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Nov 02, 2018Updated at: Nov 02, 2018
प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से बचाएगा गुड़, जानें कैसे करें प्रयोग

दिल्ली एनसीआर की हवा में प्रदूषण एक बार फिर से खतरे के निशान को पार गया है। प्रदूषण के कारण जहां लोगों में अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, प्लमोनरी डिजीज आदि का खतरा बढ़ रहा है, वहीं बच्चों में निमोनिया का खतरा भी बढ़ रहा है। हवा में प्रदूषण का स्तर अभी और बढ़ेगा ऐसे में एक्सपर्ट्स के मुताबिक घर के अंदर रहना ही इससे बचने का एकमात्र विकल्प है। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि शोध में पता चला है कि गुड़ आपको प्रदूषण से होने वाली समस्याओं से बचा सकता है।

प्रदूषण के प्रभावों को कम करेगा गुड़

टीओआई में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इंडस्ट्रियल टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च सेंटर द्वारा हाल में हुए एक शोध में पाया गया कि धूल और धुंएं में काम करने वाले जो वर्कर्स रोजाना गुड़ का सेवन करते थे, उनमें प्रदूषण से होने वाली बीमारियों की संभावना काफी कम पाई गई। इसका कारण यह है कि गुड़ प्राकृतिक रूप से शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है और शरीर की गंदगी को साफ करता है। ऐसे में रोजाना गुड़ के सेवन से आप प्रदूषित हवा से शरीर पर होने वाले प्रभावों से काफी हद तक बचे रह सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- अदरक का इस तरह करें इस्तेमाल, हर तरह का दर्द होगा दूर

अस्थमा रोगियों के लिए फायदेमंद

गुड़ बहुत पुराने समय से भारतीय खान-पान का हिस्सा रहा है। गांवों में आज भी लोग खाना खाने के बाद एक छोटा टुकड़ा गुड़ खाते हैं, क्योंकि ये पाचन में मदद करता है और शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रखता है। गुड़ अस्थमा और सांस की दूसरी बीमारियों से ग्रस्त रोगियों के लिए फायदेमंद है क्योंकि इसमें एंटी-एलर्जिक गुण होते हैं।

सांस की तकलीफ होने पर गुड़ का प्रयोग

प्रदूषण के कारण लोगों को सबसे ज्यादा तकलीफ सांस लेने में हो रही है। जहरीली हवा के कारण कई बार छोटे बच्चों, बुजुर्गों और कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को दम घुटने का एहसास होता है। ऐसे में आप गुड़ के प्रयोग से राहत पा सकते हैं। इसके लिए एक चम्मच मक्खन में थोड़ा सा गुड़ और 5 चम्मच हल्दी मिलाकर रख लें और दिन में 3-4 बार इसका सेवन करें। ये फार्मुला आपके शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थों को बाहर निकालेगा और बॉडी को टॉक्सिन फ्री बनाएगा। सांस संबंधी बीमारियों में भी गुड़ का सेवन फायदेमंद है। पांच ग्राम गुड़ को इतनी ही मात्रा के सरसों तेल में मिलाकर खाने से सांस से जुड़ी समस्याओं में आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें:- डायबिटीज और ब्लड शुगर को कंट्रोल करते हैं ये 5 मसाले, रोज करें प्रयोग

गुड़ में मौजूद पोषक तत्व

गुड़ में सुक्रोज 59.7 प्रतिशत, ग्लूकोज 21.8 प्रतिशत, खनिज तरल 26प्रतिशत तथा जल अंश 8.86 प्रतिशत मौजूद होते हैं। इसके अलावा गुड़ में कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा और ताम्र तत्व भी अच्छी मात्रा में मिलते हैं। इसलिए चाहे हर मौसम में आप गुड़ खाना न पसन्द करें लेकिन ठंड में गुड़ जरूर खाएं।

आयरन की कमी दूर करता है गुड़

गुड़ गन्ने से तैयार एक शुद्ध, अपरिष्कृत पूरी चीनी है। यह खनिज और विटामिन है जो मूल रूप से गन्ने के रस में ही मौजूद हैं। गुड़ को चीनी का शुद्धतम रूप माना जाता है। गुड़ आयरन का एक प्रमुख स्रोत है और रक्ताल्पता (एनीमिया) के शिकार व्यक्ति को चीनी के स्थान पर इसके सेवन की सलाह दी जाती है। एक चम्मच गुड़ में 3.2 मि.ग्रा. आयरन होता है। इसीलिए एनिमिया से ग्रस्त लोगों को रोज 100 ग्राम गुड़ जरूर खाना चाहिए।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Alternate Therapy in Hindi

Disclaimer