Type 2 Diabetes: टाइप 2 डायबिटीज का शिकार क्यों होते हैं मोटे लोग? जानें डायबिटीज को रोकने के 7 तरीके

Diabetes in Obese People: मोटे लोग टाइप 2 डायबिटीज का शिकार ज्यादा होते हैं। 40 साल से ज्यादा उम्र वाले दुनिया 60% से ज्यादा लोग डायबिटीज की चपेट में हैं। जानें मोटापे और डायबिटीज के बीच संबंध और कैसे रोकें टाइप 2 डायबिटीज का खतरा।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 14, 2019
Type 2 Diabetes: टाइप 2 डायबिटीज का शिकार क्यों होते हैं मोटे लोग? जानें डायबिटीज को रोकने के 7 तरीके

Diabetes Causes: आमतौर पर लोग यही मानते हैं कि डायबिटीज  तब होता है, जब व्यक्ति के शरीर में इंसुलिन हार्मोन घटने लगता है और ब्लड शुगर (Insulin) बढ़ने लगता है। मगर हाल में हुई एक रिसर्च बताती है कि मोटापा (Obesity) और लिवर की बीमारियां भी आपको टाइप 2 डायबिटीज का शिकार बना सकते हैं। डायबिटीज धीरे-धीरे दुनिया की सबसे बड़ी बीमारी बनने वाली है। 40 साल से ज्यादा उम्र वाले दुनिया 60% से ज्यादा लोग डायबिटीज की चपेट में हैं। डायबिटीज मेटाबॉलिज्म से संबंधित बीमारी है, जिसमें व्यक्ति के शरीर में इंसुलिन हार्मोन कम बनने लगता है और परिणाम स्वरूप मरीज के शरीर में ब्लड शुगर बढ़ने लगता है। मगर हाल में यूनिवर्सिटी ऑफ जेनेवा में हुए अध्ययन में बताया गया है कि सिर्फ इंसुलिन के असंतुलन से ही नहीं, बल्कि कई अन्य कारणों से भी डायबिटीज हो सकता है।

लिवर के रोग बन सकते हैं डायबिटीज का कारण (Liver Functions and Diabetes)

शरीर में ग्लूकोज को रेगुलेट करने के लिए 2 हार्मोन प्रमुख रूप से काम करते हैं, इंसुलिन और ग्लूकागॉन। इंसुलिन का काम है ब्लड में ग्लूकोज को कम करना और ग्लूकागॉन का काम है ब्लड में ग्लूकोज को बढ़ाना। इसमें लिवर का बड़ा योगदान होता है। लिवर ही हमारे शरीर का वो अंग है, जो हमारे द्वारा खाए गए भोजन को तोड़कर इसके तत्वों को अलग-अलग करता है। लिवर आपको भोजन को तोड़कर इससे पोषक तत्वों और ग्लूकोज को अलग करता है और शरीर के अंगों और सेल्स को भेजता है।

इसे भी पढ़ें:- हेल्दी लगने वाले ये 15 आहार बढ़ाते हैं डायबिटीज का खतरा, बढ़ा देंगे ब्लड शुगर

रिसर्च के अनुसार लिवर में एक खास योग्यता होती है कि ये बिना किसी हार्मनल सिग्नल के ग्लूकोज का निर्माण कर सकता है। ऐसे में जो लोग फैटी लिवर का शिकार होते हैं, उनके लिवर का फंक्शन प्रभावित होता है और कई बार ग्लूकोज का ज्यादा निर्माण (Overproduction) हो जाने से व्यक्ति टाइप 2 डायबिटीज का शिकार हो जाता है।

मोटापे से कैसे बढ़ता है टाइप 2 डायबिटीज का खतरा (Obesity and Type 2 Diabetes)

मोटापा डायबिटीज के खतरे को बढ़ाता है। अब तक यह माना जाता था कि मोटापे के कारण डायबिटीज का खतरा बढ़ता है क्योंकि मोटे लोगों में इंसुलिन हार्मोन बनना कम हो जाता है। मगर मोटे लोगों को डायबिटीज का खतरा दो तरफ से होता है। पहला तो यह कि इनका शरीर कम मात्रा में इंसुलिन बनाता है और दूसरा यह है कि इनका लिवर ज्यादा ग्लूकोज बनाने लगता है। दरअसल मोटे लोगों के शरीर में फैट ज्यादा जमा होता है। ये फैट जब लिवर के आसपास जमना शुरू हो जाए, तो फैटी लिवर नाम की बीमारी हो जाती है। फैटी लिवर के कारण लिवर का रूप और आकार बदलने लगता है, जिससे लिवर के फंक्शन प्रभावित होते हैं। फैटी लिवर होने पर व्यक्ति का लिवर ज्यादा मात्रा में ग्लूकोज बनाने लगता है, जिससे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा ऐसे लोगों में बढ़ जाता है। ये रिसर्च स्विटजरलैंड में की गई। इस रिसर्च में 400,000 (4 लाख) लोगों को शामिल किया गया, जो टाइप 2 डायबिटीज का शिकार थे।

इसे भी पढ़ें:- डायबिटीज में फायदेमंद होता है योगर्ट खाना, ब्लड शुगर घटाने के लिए इन 4 तरीकों से खाएं

कैसे करें टाइप 2 डायबिटीज से बचाव (How to Prevent Type 2 Diabetes)

डायबिटीज से बचना है, तो आपको अपनी आदतों में कुछ छोटे-छोटे बदलाव करने पड़ेंगे। आजकल डायबिटीज के मरीजों की संख्या इसी लिए बढ़ रही है क्योंकि लोग गलत आदतें अपनाते हैं और गलत तरीके से जीवन जीते हैं। डायबिटीज से बचना है, तो इन बातों का ध्यान रखें।

  • अपना वजन न बढ़ने दें। मोटापा डायबिटीज का एक प्रमुख कारण है।
  • सुबह का नाश्ता कभी न छोड़ें। थोड़ा ही सही, मगर सुबह जागने के 4 घंटे के भीतर कुछ न कुछ जरूर खा लें।
  • अपने खानपान में रंगीन सब्जियां, फल, दूध, मेवे, नट्स आदि को शामिल करें।
  • बाजार में मिलने वाले फास्ट फूड्स जैसे- पोटैटो फ्राइज, बर्गर, पिज्जा, डोनट्स, चाउमीन आदि का सेवन बिल्कुल कम करें या न करें।
  • सॉफ्ट ड्रिंक्स जैसे- कोला, सोडा और हार्ड ड्रिंक्स जैसे- बियर, शराब आदि का सेवन बिल्कुल न करें। ये डायबिटीज का शिकार बनाती हैं।
  • रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सरसाइज या वॉक जरूर करें। 24 घंटे में आप 30 मिनट अपनी सेहत के लिए निकाल सकते हैं और आपको जरूर निकालना चाहिए।
  • रात का खाना सोने से 2-3 घंटे पहले ही खा लें। खाने के बाद तुरंत सोने से मेटाबॉलिज्म खराब होता है।

Read more articles on Diabetes in Hindi

 

Disclaimer