मुंह में ज्यादा लार बनने का कारण हो सकता है 'वाटर ब्रैश', जानें लक्षण और उपचार

कई लोगों के मुंह में आवश्यक्ता से अधिक लार बनता है, जिसके कारण लार उनके मुंह से टपकता रहता है या उन्हें बार-बार इसे थूकना पड़ता है। आमतौर पर ज्यादा लार निकलने की समस्या बच्चों को होती है मगर कई बार बड़े भी इस स्थिति का शिकार हो सकते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Aug 27, 2018
मुंह में ज्यादा लार बनने का कारण हो सकता है 'वाटर ब्रैश', जानें लक्षण और उपचार

कई लोगों के मुंह में आवश्यक्ता से अधिक लार बनता है, जिसके कारण लार उनके मुंह से टपकता रहता है या उन्हें बार-बार इसे थूकना पड़ता है। सामान्य तौर पर ज्यादा तीखा खाने या खट्टी चीजों को खाते समय ऐसा होना स्वाभाविक है मगर अगर ऐसा बिना किसी कारण हो रहा है, तो आप 'वाटर ब्रैश' का शिकार हो सकते हैं। वाटर ब्रैश की स्थिति में जरूरत से ज्यादा लार निकलता है और कई बार मुंह में खट्टापन महसूस होता है। आमतौर पर ज्यादा लार निकलने की समस्या बच्चों को होती है मगर कई बार बड़े भी इस स्थिति का शिकार हो सकते हैं।

ज्यादा लार बनना

जरूरत से ज्यादा लार बनना कोई रोग नहीं है मगर ये स्थिति कई बार आपमें झल्लाहट पैदा कर सकती है क्योंकि आपको इस स्थिति में आपको थोड़ी-थोड़ी देर में थूकना पड़ता है। कई बार लोगों को सुबह ब्रश करने के बाद ज्यादा लार बनना शुरू हो जाता है। कई बार ज्यादा लार बनने का कारण एसिड रिफ्लक्स होता है। एसिड रिफ्लक्स के कारण आपके मुंह में खट्टापन बना रहता है, कई बार पानी का स्वाद कड़वा लगता है और गले में खराश हो जाती है।

इसे भी पढ़ें:- क्यों होता है अचानक पेट में दर्द? जानें वैज्ञानिक कारण और इलाज

प्रेगनेंसी में भी बनती है ज्यादा लार

कई बार प्रेगनेंसी में भी ज्यादा लार की समस्या हो जाती है। ये कोई बड़ी समस्या नहीं मानी जाती है और अक्सर ऐसा कुछ खास हार्मोन्स के घटने-बढ़ने के कारण होता है। हालांकि अगर अचानक से बहुत ज्यादा लार बनने लगे, तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

रोग भी हो सकते हैं ज्यादा लार का कारण

कई तरह के रोग जैसे मुंह का छाला, मुंह का इंफेक्शन, लिवर की परेशानियां, आंतों की परेशानी, रेबीज, सेरोटोनिन सिंड्रोम आदि के कारण भी मुंह में ज्यादा लार बनने की समस्या हो सकती है। मुंह के छाले या इंफेक्शन की समस्या होने पर आप एंटीबैक्टीरियल चीजें जैसे- लहसुन, अदरक, सौंफ, मुलेठी, हल्दी, शहद आदि के खाने से इसमें आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें:- शरीर के लिए खतरनाक है मस्तिष्क बुखार, इन 5 तरीकों से करें बचाव

ज्यादा लार बने तो लौंग का प्रयोग

लौंग को चबाकर खाने से ये मुंह के ग्रंथियों की संवेदनशीलता को कम करता है। इसके अलावा लौंग में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो मुंह में मौजूद बैक्टीरिया को खत्म करते हैं। इसलिए दिन में तीन से पांच बार दो लौंग चबाने से अतिरिक्त लार कम हो सकती है। लौंग को मुंह की तमाम समस्याओं के साथ-साथ माउथ फ्रेशनर के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है।

दालचीनी की चाय है इलाज

दालचीनी की चाय पीकर भी अतिरिक्त लार की समस्या से छुटकारा पा जा सकता है। ये चाय बनाने के लिए आप दालचीनी के 4-5 टुकड़ों को कूट लें। अब एक पानी गर्म पानी में ये दालचीनी पाउडर डाल दें और 10 मिनट के लिए छोड़ दें। 10 मिनट बाद इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर गुनगुना ही पिएं। मुंह से लार निकलने की समस्या तुरंत ठीक हो जाएगी।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer