पेरेंट्स की ये 5 बुरी आदतें बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य को करती हैं प्रभावित, जानें कैसे दें बच्‍चों को सही परवरिश

बच्‍चे अपने अभिभावक से ही अच्‍छी और बुरी चीजें सीखते और समझते हैं। पेरेंट्स कुछ बुरी आदतें ऐसी हैं, जिसका प्रभाव उनके बच्‍चों पर पड़ता है। इससे बच्‍चों का शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: May 02, 2019
पेरेंट्स की ये 5 बुरी आदतें बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य को करती हैं प्रभावित, जानें कैसे दें बच्‍चों को सही परवरिश

बच्‍चों को अच्‍छी या बुरी सीख हमेशा घर से मिलती है। अगर पेरेंट्स में अच्‍छी आदतें होंगी तो बच्‍चे भी उसे फॉलो करते हैं, अगर यही आदतें बुरी हों तो बच्‍चों में भी बुरी आदतें पनपने में देर नहीं लगती है। कुल मिलाकर, बच्‍चे अपने अभिभावक से ही अच्‍छी और बुरी चीजें सीखते और समझते हैं। पेरेंट्स कुछ बुरी आदतें ऐसी हैं, जिसका प्रभाव उनके बच्‍चों पर पड़ता है। इससे बच्‍चों का शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य प्रभावित होता है। यहां हम आपको पेरेंट्स 5 ऐसी बुरी आदतों के बारे में बता रहे हैं, जिसका असर बच्‍चों पर भी पड़ता है। 

 

गतिहीन जीवनशैली 

आजकल के पेरेंट्स में सबसे खराब उनकी जीवनशैली को देखी जा सकती है। एक गतिहीन जीवनशैली शरीर बीमारियों से भर देता है। सुबह देर से उठना, देर रात तक जागना और एक्‍सरसाइज का आभाव व्‍यक्ति में आलस्‍य, तनाव, अवसाद से ग्रसित रहते हैं, जिसका असर बच्‍चों पर भी पड़ता है। बच्‍चे वही सीखते हैं जो घर के बड़े करते हैं।  

अस्‍वस्‍थ खानपान 

अगर आप अच्‍छे आहार लेंगे तभी आप बच्‍चों को अच्‍छे आहार के सेवन की सीख दे पाएंगे। अगर आप फल सब्जियों के बजाए जंक फूड पर निर्भर रहेंगे तो निश्चित तौर पर आपके बच्‍चों का भी आकर्षण पिज्‍जा, बर्गर और कोल्‍ड ड्रिंक जैसे अस्‍वस्‍थ आहार की ओर बढ़ेगा। ऐसे खाद्य पर्दार्थों का ज्‍यादा सेवन बच्‍चों के विकास में बाधक हैं। इससे मोटापा भी बढ़ता है। 

टीवी देखते हुए भोजन करना 

कुछ पेरेंट्स टीवी देखते हुए भोजन करते हैं, साथ में उनके बच्‍चे भी होते हैं। ऐसे में आप अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ तो करते ही हैं साथ बच्‍चों के स्‍वास्‍थ का भी मजाक बना रहे होते हैं। इसलिए ध्‍यान ये रखें कि टीवी देखते समय न तो खुद भोजन करें और न ही बच्‍चों को करने दें। यह उन बुरी आदतों में से एक हैं जो बच्‍चों पर बुरा असर डालती है। 

इसे भी पढ़ें: बढ़ते बच्‍चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जरूरी हैं 5 सुपरफूड, जानें क्‍या हैं ये

स्‍टडी के लिए टाइम न देना 

कामकाज के साथ पढ़ना-लिखना भी जरूरी होता है, पढ़ने लिखने का मतलब ये नहीं है कि आप किसी कॉलेज में एडमिशन लें। स्‍टडी इसलिए जरूरी है क्‍योंकि इससे आपका मानसिक विकास तो होगा ही साथ आपके बच्‍चों में भी स्‍टडी करने की अच्‍छी आदत विकसित होगी। किताबें पढ़ना एक अच्‍छी आदत है।  

इसे भी पढ़ें: 5 बातें जो केवल पेरेंट्स ही बच्‍चों को सिखा सकते हैं

छोटी-छोटी मगर अच्‍छी बातें 

आप खुद में कुछ अच्‍छी आदतों को विकसित कर बच्‍चों में उन आदतों को डाल सकते हैं जैसे- खुद को साफ-सुथरा रखना, कपड़े ढंग से पहनना, घर में और अपने आसपास सफाई रखना, बड़ों का सम्‍मान करना, अच्‍छी जीवनशैली अपनाना आदि। ये सभी आदतें पहले खुद में विकसित करें और फिर बच्‍चों में भी डालें। 

Read More Articles On Parenting In Hindi

Disclaimer