सर्दियों में आता है पसीना तो न करें नजरअंदाज, डॉक्टर से जानें इसका कारण और घरेलू इलाज

ठंड के मौसम में पसीना आना किसी बीमारी का संकेत हो सकता है। डॉक्टर से जानें क्यों खतरनाक है इसे नजरअंदाज करना और समस्या के लिए कुछ घरेलू इलाज।

सम्‍पादकीय विभाग
Written by: सम्‍पादकीय विभागUpdated at: Dec 23, 2020 14:38 IST
सर्दियों में आता है पसीना तो न करें नजरअंदाज, डॉक्टर से जानें इसका कारण और घरेलू इलाज

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

तपती गर्मी में पसीना आना एक आम बात है पर क्‍या हो अगर कड़ाके की ठंड में आपको पसीना आने लग जाये? क्‍या आपके साथ भी ऐसा कभी हुआ है? सुनने में ये बात भले ही अजीब लगे पर ये भी कि‍सी बीमारी का लक्षण हो सकती है। जी हां। वैसे तो पसीना आना हमारे शरीर के ल‍िये जरूरी है। शरीर का तापमान बनाये रखने के ल‍िये पसीना आना ही चाह‍िये पर हद से ज्‍यादा पसीना वो भी भरी ठंड में, ये एक खराब लक्षण हो सकता है। सर्द‍ियों में पसीना आना कोई आम बात नहीं इसल‍िए हमने बात की लखनऊ के केयर इंस्टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फिजिशियन डॉ. सीमा यादव से ज‍िन्‍होंने हमें बताया क्‍या है ठंड में पसीना आने का कारण और इलाज।

ज्‍यादा पसीना आने से हमारे शरीर के तापमान में भी बदलाव होता है। हमारे शरीर का तापमान 98 से 98.8 ड‍िग्री फारेनहाइट में नॉर्मल माना जाता है पर 100 या उससे ज्‍यादा तापमान हो तो सतर्क रहें। हर इंसान का शरीर दूसरे से अलग होता है। उनके काम करने का तरीका, द‍िनचर्या, कि‍सी बात पर रि‍एक्‍ट करने का अंदाज। ये सारी चीजें हमें दूसरों से अलग बनाती हैं ज‍िसके बदले में हमारा शरीर भी अलग प्रत‍िक्रि‍या देता है। ऐसे में लोगों के शरीर का तापमान एक-दूसरे से अलग हो सकता है। ये भी हो सकता है क‍ि इसी आधार पर आपको ज्‍यादा पसीना आये पर ठंड के द‍िनों में ऐसे लक्षण को नजरअंदाज न करें।

sweating in winters

सर्द‍ियों में क्‍यों आता है पसीना? (reason for excessive sweating)

डॉ. सीमा ने बताया क‍ि ज्‍यादा पसीना आने से हमारे शरीर के एस्‍ट्रोजन लेवल पर असर पड़ता है। ज‍िसका मतलब इससे इससे द‍िमाग में हलचल होती है। कई बार मन उदास या टेंशन लेने से भी ऐसा हो जाता है। सर्दियों में हम पकौड़े या गरम मसालेदार खाना ज्‍यादा पसंद करते हैं, उससे भी पसीना ज्‍यादा आने लगता है। पर वो केवल कुछ समय के लि‍ये होता है अगर कई द‍िनों तक आपको ये परेशानी हो रही है तो डॉक्‍टर को द‍िखायें। क‍िसी तरह के इंफेक्‍शन, फ्लू या महिलाओं में मेनोपॉज के समय भी ऐसी परेशानी होती है। कई बार ज्‍यादा पसीना आना इस ओर भी संकेत करता है क‍ि शरीर में मैग्न‍ीश‍ियम, कैल्‍श‍ियम और अन्य म‍िनरल की कमी हो रही है। अगर आपको थॉयराइड है तो शरीर में टीएसएच लेवल (TSH level) बढ़ने की वजह से पसीना आता है। ज्‍यादा बेचैनी,घबराहट, चौंकना,डर या ब्‍लड प्रेशर लो होने का अहसास हो तो तुरंत मदद लें।  

इसे भी पढ़ें: बिना वजह अत्यधिक पसीना आना है 'हाइपरहाइड्रोसिस', जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव

इन बीमारियों से आता है ठंड में ज्‍यादा पसीना (diseases causing sweat)

  • ठंड में ज्‍यादा पसीना आने का कारण हार्मोनल असंतुलन (Hormonal Imbalance) भी हो सकता है। लड़क‍ियों में अन‍ियम‍ित पीरियड के दौरान भी ऐसा होता है।
  • शुगर लेवल घटने या बढ़ने के दौरान आपको पसीना भ‍िगा सकता है।
  • बुखार या वायरल में भी ज्‍यादा पसीना आता है।
  • क‍िसी बात से गहरे सदमे में हैं तो ज्‍यादा पसीना आना पहला लक्षण माना जाता है। इसे मेड‍िकल टर्म में मेंटल शॉक कहा जाता है।
  • गर्भवती मह‍िलाओं को भी शरीर में होने वाले बदलाव से ज्‍यादा पसीना आ सकता है।
  • अगर आप कि‍सी फोब‍िया की गि‍रफ्त में हैं तो ज्‍यादा पसीना आना लाजमी है।
  • क‍िसी गंभीर चोट से उठने वाला दर्द भी आपके शरीर से ज्‍यादा पसीना न‍िकाल सकता है।   

ज्‍यादा पसीना का मतलब न‍िमोन‍िया तो नहीं (pneumonia)

ठंड के द‍िनों में ज्‍यादा पसीना आने का कारण न‍िमोन‍िया भी हो सकता है। ऐसे में आपके शरीर का तापमान तेजी से बढ़ेगा और शरीर से पसीना बहने लगेगा। पसीना आने के साथ न‍िमोन‍िया के केस में भूख कम हो जाती है। न‍िमोन‍िया के मरीज को सांस लेने में बहुत परेशानी होना भी एक लक्षण माना जाता है। इस दौरान छाती में तेज दर्द उठ सकता है। पसीना टपकने के साथ लगातार सूखी खांसी भी हो सकती है। ज्‍यादा पसीना आना ये बताता है क‍ि आपका शरीर बीमारी से लड़ने में सक्षम नहीं है। ऐसे में तुरंत च‍िक‍ित्‍सा मदद लें।  

excessive sweting causes

पसीने को इस कंडीशन में न करें नजरअंदाज  

अगर आप एक्‍सरसाइज करके उठे हैं तो सर्दि‍यों में भी आपको पसीना आयेगा पर यूं ही बैठे-बैठे आपको पसीने के साथ बेचैनी,अंदर से न‍िचोड़ जैसा अहसास, सांस लेने में तकलीफ, गर्दन, जबड़े या पेट और पीठ में तेज दर्द (symptoms of sweating) हो डॉक्‍टर के पास पहुंचे। पसीने के साथ अचानक से चक्‍कर आना भी खतरनाक है।

अचानक से आये पसीना तो क्‍या करें

अगर यूं ही बैठे-बैठे आपको अचानक से पसीना आने लगे तो नॉर्मल पानी में कपड़े को डुबाकर स्‍पंज करें। इससे आपके शरीर का तापमान तुरंत कम होने लगेगा। कई बार परेशानी या कई चीजों में एक साथ द‍ि‍माग चलने के वजह से भी ऐसा होता है तो सीधे बैठकर गहरी सांस लें इससे आपको तुरंत फायदा होगा।

ये आहार दि‍लायें ज्यादा पसीना निकलने से छुटकारा  

1. अश्‍वगंधा (Ashwagandha)

अश्‍वगंधा का सेवन एक अच्‍छा ऑप्‍शन हो सकता है। अश्‍वगंधा एंटी-ऑक्‍सीडेंट और एंटी बैक्‍टेर‍ियल गुणों से भरपूर होता है। अगर आपको सर्दि‍यों में पसीना आ रहा है तो इसका एक कारण आपके शरीर में एस्‍ट्रोजन का घटता स्‍तर भी हो सकता है। अश्‍वगंधा के सेवन से ये समस्‍या दूर होती है। सिर दर्द और टेंशन कम करने के ल‍िये ये बेस्‍ट है।   

2. व‍िटाम‍िन ई (vitamin e)

ड्राईफ्रूट्स, खासकर बादाम और कई वेजि‍टेबल ऑयल्स में भरपूर व‍िटाम‍िन ई होता है। इससे आपको सर्दि‍यों में पसीने की समस्‍या से न‍िजात म‍िलेगा।     

3. सेब का स‍िरका (apple cider vinegar)

सेब का स‍िरका कई बीमार‍ियों में फायदेमंद माना जाता है। इसमें एंटी-ऑक्‍सीडेंट प्रॉपर्टीज होती हैं। अगर आपको हार्मोनल परेशानी है तो सेब का सि‍रका पीकर देखें। सुबह स‍िरका पीना अच्‍छा माना जाता है।   

4. टी बैग (tea bag)

आपको ठंड में पसीना आता है तो ये तरीका भी इस्‍तेमाल करके देखें। टी बैग को पानी में न‍िचोड़कर उसे अपने तलवों के नीचे दबाकर रखें। इससे पसीने का समस्‍या दूर भाग जायेगी।   

5. टमाटर (tomato)

जल्‍द उपाय का असर देखना चाहते हैं तो तो सुबह नाश्‍ते के साथ एक ग‍िलास टमाटर के जूस को पीयें। ऐसा करने से कुछ ही द‍िनों में ज्‍यादा पसीना आना बंद हो जायेगा।      

6. अलसी (flax seed)

अलसी के बीज में फाइबर और ओमेगा फैटी एस‍िड की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। इससे आपको अध‍िक पसीना आने की समस्‍या से छुटकारा म‍िलेगा। अगर क‍िसी तरह का इंफेक्‍शन है तो अलसी खाने से वो ठीक हो जायेगा और ज्‍यादा पसीना आना बंद हो जायेगा। सुबह खाली पेट अलसी के 7-8 बीज चबाकर खा सकते हैं।

7. पानी (water)

पानी हमारे शरीर के ल‍िये सबसे जरूरी चीज है। हम सर्दि‍यों में पानी पीना कम कर देते हैं। इससे भी कई तरह की बीमारी हो जाती है। अगर आपकी बॉडी हाइड्रेट रहेगी तो बीमार‍ियां नहीं होंगी। द‍िन में कम से कम 8 ग‍िलास पानी पियें। इसके साथ ही आप नार‍ियल का पानी, ग्रीन टी, जूस भी पी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: होर्मोनल असंतुलन से भी आता है हाथों में पसीना, जानें हाथों में पसीना आने के कारण और बचाव के लिए घरेलू उपाय

ज्‍यादा पसीना और पोषण का संबंध (balanced diet)

  • - अगर आपको लगता है क‍ि डाइट और खान-पान का असर आपके शरीर में ज्‍यादा आने वाले पसीने को प्रभाव‍ित नहीं करता तो आप गलत हैं। अगर आपको सर्दि‍यों में ज्‍यादा पसीना आने की समस्‍या हो रही है तो सबसे पहले जंक फूड से दूरी बना लें।
  • - जंक फूड में पाए जाना वाला बैड ऑयल आपके शरीर में मौजूद स्‍वेट ग्लैंड को प्रभाव‍ित करता है। तो ज्‍यादा पसीना आने की कंडीशन में कुछ समय के ल‍िये टेस्‍टी और हैवी फूड से क‍िनारा कर लें।
  • -सर्दि‍यों में आपके ल‍िये फल, हरी सब्‍ज‍ि‍यां, साबुत रोटी और ग्रीन टी फायदेमंद है। अगर स्‍टफ्ड पराठे के शौकीन है तो उसमें तेल की मात्रा कम कर दें या पकौड़े बनाते समय उसका एक्‍सेज ऑइल ट‍िशु पेपर की मदद से न‍िकाल दें।                 
  • -तलने वाली चीजों को तेल में डीप फ्रॉई करने के बजाय एयर फ्रॉयर में बनायें तो तेल का इस्‍तेमाल कम होगा।      

तो ये हैं सर्दि‍यों में ज्‍यादा पसीना आने के कुछ कारण और उपाय। शरीर को सही आहार देने के साथ व्‍यायाम पर ध्‍यान दें। इससे शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन अच्‍छा होगा और आपको ज्‍यादा पसीना नहीं आयेगा।

Written by Yashaswi Mathur

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer