हड्डियों के कैंसर की‍ स्थितियां

बोन कैंसर हड्डियों में कैंसर के सेल्‍स के फैलने के कारण होता है। इसके कई स्‍टेजेज होते हैं, जानिए हड्डियों के कैंसर की स्थितियों के बारें।

Nachiketa Sharma
कैंसरWritten by: Nachiketa SharmaPublished at: Jul 01, 2013
हड्डियों के कैंसर की‍ स्थितियां

बोन कैंसर की स्थितियां यानी स्‍टेजेज को चिकित्‍सक कैंसर के फैलने की अवस्‍था के आधार पर निर्धारित करते हैं। स्‍टेजेज को निर्धारित करने से पहले यह देखा जाता है कि बोन कैंसर कितना और कहां तक फैल गया है। हड्डियों के कैंसर के हर स्‍टेज पर इसकी चिकित्‍सा अलग तरीके से की जाती है।

हड्डियों का जोड़कैंसर की कोशिकायें कई प्रकार की हाती हैं, जो शरीर के किसी भी हिस्‍से में हो सकती हैं। एक बार कैंसर होने पर इसकी कोशिकायें लगातार बढ़ती जाती हैं। धीरे-धीरे कैंसर की कोशिकाएं शरीर के अन्य ऊतकों और अंगों में फैल जाती हैं।

कैंसर की कोशिकाएं जब हड्डियों में फैल जाती हैं तब बोन कैंसर होता है। हड्डियों का कैंसर ज्यादातर पैरों और हाथों की हड्डियों में होता है। लेकिन यह शरीर के किसी भी अंग में फैल सकता है। बोन कैंसर होने पर हड्डियों में दर्द होता है और थकान होने लगती है। आइए हम आपको बोन कैंसर की स्थितियों के बारे में जानकारी देते हैं।

 

[इसे भी पढ़ें : बोन कैंसर का निदान]

 

बोन कैंसर की स्थितियां -
कैंसर के स्‍टेज को निर्धारित करने के लिए अमेरिका की एक संस्‍था कार्यरत है, इस संस्‍था का नाम अमेरकिन ज्‍वॉइंट कमिशन ऑन कैंसर (AJCC) है। यह संस्‍था बोन कैंसर की स्थितियों को निर्धारित करने के लिए 4 प्रकार के कारकों को जोड़ती है। ये कारक - टी, एन, एम और जी हैं। टी को ट्यूमर से जोड़ा जाता है, लिम्‍फ नोड्स के प्रसार के लिए एन, अन्‍य अंगों में फैलने के लिए एम और जी ट्यूमर के ग्रेड के लिए होता है। ट्यूमर का ग्रेड निर्धारित करने के लिए माइक्रोस्‍कोप के जरिए इसके फैलाव को देखा जाता है। लो ग्रेड ट्यूमर की तुलना में हाई ग्रेड ट्यूमर तेजी से फैलता है। इस संस्‍था ने बोन कैंसर को चार स्‍टेज में बांटा है।

 

स्‍टेज 1 -
यह बोन कैंसर की शुरुआती अवस्‍था है और इस स्‍टेज में कैंसर का प्रसार ज्‍यादा नही हुआ है। स्‍टेज 1 को दो हिस्‍सों में बांटा है - स्‍टेज 1ए और स्‍टेज 1बी। स्‍टेज1ए में कैंसर शुरूआती अवस्‍था में होता है और यह ज्‍यादा फैला नही होता। यह जिस जगह होता है वहां हल्‍की सूजन हो सकती है। जबकि स्‍टेज 1बी बोन वॉल तक फैल जाता है, इस स्थिति में बोन कैंसर जिस स्‍थान से शुरू हुआ है उसके आगे तक फैल गया है। 

 

[इसे भी पढ़ें : हड्डियों के कैंसर से कैसे बचें]

 

स्‍टेज 2 -
इसे भी दो का मतलब बोन कैंसर हाई स्‍टेज में है, इसे भी दो भागों - स्‍टेज 2ए और स्‍टेज 2बी में बांटा गया है। स्‍टेज 2ए के अनुसार कैंसर का फैलावा ज्‍यादा हो गया है लेकिन अब भी इस स्थिति में वह हड्डियों के अंदर ही रहता है। इस स्थिति तक कैंसर के ट्यूमर हड्डियों या शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में फैले नही होते हैं। जबकि स्‍टेज 2बी में कैंसर जिस स्‍थान से शुरू होता है उसके आस-पास की हड्डियों के अलावा आसपास के अन्‍य ऊतकों तक फैल जाता है।

 

स्‍टेज 3 -
बोन कैंसर का यह स्‍टेज खतरनाक और घातक हो सकता है। इस स्थिति में बोन कैंसर जहां से शुरू होता है उसके अलावा शरीर के अन्‍य हड्डियों और ऊतकों तक फैल चुका होता है। इस स्थिति में फेफड़े भी इसके चपेट में आ जाते हैं। इसके अलावा यह शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में भी फैल जाता है।

 

स्‍टेज 4 -
बोन कैंसर की इस अवस्‍था में कैंसर के ट्यूमर फेफड़ों, लिंफ नोड्स और शरीर के लगभग हर हिस्‍से में फैल चुके होते हैं। यह फेफड़ों पर पूरी तरह हावी हो जाते हैं और इस स्थिति में मरीज की स्थिति काफी चिंताजनक हो जाती है।

 

बोन कैंसर, धूम्रपान, विटामिन डी, रेडियेशन, आनुवांशिक, फ्रैक्‍चर आदि के कारण होता है। बोन कैंसर होने के बाद हड्डियों की स्‍वस्‍थ कोशिकायें समाप्‍त होने लगती हैं जिससे हड्डी बहुत पतली और कमजोर हो जाती है।

 

 

Read More Articles on Bone Cancer in Hindi

Disclaimer