कब्‍ज में फायदेमंद होता है भीगा हुआ अंजीर, पेट दर्द और बवासीर की समस्या में भी मिलता है आराम

भीगे हुए अंजीर आपके पेट से जुड़ी कई समस्याओं में फायदेमंद होते हैं क्योंकि इनमें फाइबर की मात्रा अच्छी होती है। जानें कैसे करें इसका सेवन।

सम्‍पादकीय विभाग
घरेलू नुस्‍खWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Sep 06, 2018
कब्‍ज में फायदेमंद होता है भीगा हुआ अंजीर, पेट दर्द और बवासीर की समस्या में भी मिलता है आराम

अंजीर मल्‍बेरी फैमिली का एक लोकप्रिय मौसमी फल है। अंजीर के पेड़ों को विशेष रूप से भूमध्य सागर के आसपास एशिया के कुछ हिस्सों में उगाया जाता था। इस रसीले फल की लोकप्रियता सदियों से बढ़ रही है लेकिन इसकी खेती अब दुनिया के कई हिस्‍सों में की जाने लगी है। अंजीर बैंगनी और हरे रंग आदि कई अलग-अलग रंगों में पाए जाते हैं।

अंजीर में मीठा और रसदार गुदा के अलावा कुरकुरे बीज से भरा होता है। भारत में, आपको ज्यादातर सूखे रूप में मीठा और रसदार फल मिल जाएगा, लेकिन बहुत से लोग इसे ताजे फल के तौर पर उपभोग करना पसंद करते हैं। ताजे अंजीर, सूखे अंजीर की तुलना में कम कैलोरी और शुगर होते हैं। जो डायबिटीज के रोगियों के लिए काफी फायदेमंद और सुरक्षित होते हैं।

वहीं दूसरी तरफ, सूखे अंजीर में कैल्शियम की मात्रा अधिक पाई जाती है। एक सूखे अंजीर में 13 मिलीग्राम कैल्शियम मौजूद होता है। इसके अलावा अंजीर में विटामिन ए, बी और मिनरल्‍स (फास्‍फोरस, लौह, पोटेशियम) का बहुत अच्‍छा स्‍त्रोत है। एक अन्य कारक जो पोषण विशेषज्ञों के बीच अंजीर को पसंदीदा बनाता है, वह है इसकी उच्च फाइबर सामग्री। फाइबर से समृद्ध खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं, और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखते हैं।

ऐसे खाद्य पदार्थों को खाने से आपके पेट को संतुष्टि मिलती है, जिससे आपको ज्‍यादा भूख नहीं लगती है और वजन घटाने में मदद मिलती है। अच्छे पाचन स्वास्थ्य को बनाए रखने में फाइबर भी बहुत महत्वपूर्ण है। शायद यही कारण है कि भिगोने वाले अंजीर खाने से कब्ज का इलाज करने के लिए भारत के सबसे भरोसेमंद घरेलू उपचारों में से एक रहा है।

constipation 

कब्‍ज को कैसे करें कंट्रोल

कब्ज को ऐसी स्थिति के रूप में परिभाषित किया जाता है जब किसी व्‍यक्ति आंतों को खाली करने या साफ़ करने में कठिनाई होती है, अगर इसे सीधे तौर पर कहें तो टॉयलेट करने में परेशानी होना कब्‍ज होने के संकेत हैं। एक अध्ययन के मुताबिक, लगभग 22 प्रतिशत भारतीय कब्ज से परेशान रहते हैं। यह एक बड़ी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या होने के बावजूद इसकी चर्चा न के बराबर होती है। अगर इसका इलाज नहीं किया जाता है तब पुरानी कब्ज से गुदा फिशर, खुजली, दर्द और यहां तक कि रक्तस्राव भी हो सकता है। दूसरी तरफ हल्के कब्ज को कुछ हद तक घरेलू उपचारों से सही किया जा सकता है। रात में पानी में भिगोकर 2-3 सूखे अंजीर को सुबह खाने से कब्‍ज में लाभ मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: रीढ़ की हड्डियों को मजबूत और कब्‍ज दूर करता है मंडूकासन, जानें 5 अन्‍य फायदे

अंजीर फाइबर का एक असाधारण स्रोत हैं। एक स्वस्थ पाचन तंत्र को बनाए रखने के लिए फाइबर समृद्ध खाद्य पदार्थों का सेवन करना महत्वपूर्ण है, जो बदले में कब्ज की संभावनाओं को कम करने में प्रभावी साबित हो सकता है। फाइबर शरीर के मल को एक जगह इकट्ठा करता है, इसे नरम करता है और कब्ज से छुटकारा पाने में मदद करता है। अंजीर आपके आहार में सबसे अच्छे प्राकृतिक लक्सेटिव्स में से एक है जिसे आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। सूखे और पके हुए अंजीर दोनों घुलनशील फाइबर का असाधारण स्रोत हैं, जो कब्ज के साथ इर्रेबल बाउल सिंड्रोम जैसे अन्य पाचन संबंधी समस्‍याओं से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं।

 

भीगे अंजीर कैसे कब्‍ज में हैं मददगार

विशेषज्ञों की मानें तो, सूखे अंजीर को खाने में कोई नुकसान नहीं है। अंजीर फाइबर का एक पावरहाउस होता है। आमतौर पर फाइबर दो प्रकार के होते हैं। घुलनशील फाइबर और अघुलनशील फाइबर। जब आप पानी में अंजीर डालते हैं, तो घुलनशील फाइबर टूट जाता है और इसे पचाना आसान हो जाता है। 

ऐसे करें अंजीर का सेवन 

2-3 सूखे अंजीर को पानी में भिगो दें और उन्हें रात भर छोड़ दें। सुबह में उनका उपभोग करें। अगर आप बेहतर रिजल्‍ट चाहते हैं तो इसके लिए हर सुबह एक महीने के लिए रोजाना इसे खाएं। दीर्घकालिक कब्ज प्रबंधन के लिए, यह जरूरी है कि हम पर्याप्त फाइबर समृद्ध खाद्य पदार्थों जैसे कि होलग्रेन अनाज, सब्जियां, फल और सलाद के साथ स्वस्थ आहार का उपभोग करें। अल्‍कोहल, तले-भुने भोजन, फास्‍टफूड आदि आहारों से परहेज करें।

Read More Articles On Alternative Therapy In Hindi 

Disclaimer