कब्ज रहती है तो इन 2 तरीकों से रोज खाएं चिरौंजी, दूर होगी आपकी समस्या

कब्ज के कारण सुबह घंटों टॉयलेट में बैठे रहना पड़ता है, तो इन 2 तरीकों से चिरौंजी खाने से दूर हो जाएगी आपकी कब्ज की समस्या।

 

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Dec 02, 2020 09:48 IST
कब्ज रहती है तो इन 2 तरीकों से रोज खाएं चिरौंजी, दूर होगी आपकी समस्या

क्या आप भी सुबह टॉयलेट जाते हैं, तो घंटों बैठे रहते हैं? क्या टॉयलेट में घंटों बैठे रहने के बाद भी आपका पेट साफ नहीं होता है? क्या आपको टॉयलेट करते समय बहुत ताकत लगानी पड़ती है? अगर सवालों के जवाब "हां" हैं, तो समझ लें कि आप कब्ज के रोगी हैं। कब्ज पेट की आम समस्या मानी जाती है। सामान्यतः लोग महीने में 3-4 बार कब्ज का शिकार होते ही हैं। ऐसा गलत खानपान के कारण हो सकता है। इसलिए इसे गंभीर नहीं कह सकते हैं। लेकिन कुछ लोगों को रोजाना ही कब्ज की समस्या रहती है, जिसके कारण उनका दैनिक जीवन प्रभावित होने लगता है। पेट साफ न होने से दिनभर उन्हें बेचैनी रहती है और खाना-पीना भी शरीर को ठीक से नहीं लगता है। लंबे समय तक नजरअंदाज करने से कब्ज पेट या आंत के इंफेक्शन, शारीरिक कमजोरी और अन्य कई गंभीर समस्याओं का कारण बन सकता है। कब्ज को दूर करने के लिए आप चिरौंजी की मदद ले सकते हैं। आइए आपको बताते हैं चिरौंजी कैसे है कब्ज में फायदेमंद और कैसे करें इसका सेवन।

stomach

कब्ज को दूर करन के लिए क्या करें?

कब्ज की समस्या आमतौर पर उन लोगों को ज्यादा होती है, जो लोग अपने खाने में फाइबर कम खाते हैं। फाइबर फलों, सब्जियों, मोटे अनाज, दालों आदि में पाया जाता है। ये दरअसल रेशे होते हैं, जो आंतों में जाकर आंत की दीवारों में जमा गंदगी को साफ करते हैं और मल को मुलायम बनाते हैं। इसलिए जो लोग अक्सर कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं, उन्हें अपने खाने में फाइबर की मात्रा ज्यादा रखनी चाहिए।
कब्ज उन लोगों को भी परेशान करता है, जो लोग खाने में रिफाइंड अनाजों का प्रयोग ज्यादा करते हैं, खासकर मैदा, रिफाइंड कॉर्न फ्लोर, रिफाइंड बेसन आदि। वैसे तो अनाज फाइबर का अच्छा स्रोत माने जाते हैं, लेकिन रिफाइनिंग के दौरान इन अनाजों के छिलकों को निकाल दिया जाता है। फाइबर अधिकांशतः छिलकों में ही होता है। इसलिए ये रिफाइंड अनाज आपकी आंतों में जाकर चिपक जाते हैं और कब्ज का कारण बनते हैं। कुल मिलाकर कब्ज होने का मुख्य कारण आपके खाने में फाइबर की कमी है।

इसे भी पढ़ेंः कब्ज और मोटापे का कारण है खराब मेटाबोलिज्म, जानें बढ़ती हुई उम्र के साथ मेटाबोलिज्म ठीक रखने के उपाय

stomach

कब्ज में कैसे फायदेमंद है चिरौंजी?

चिरौंजी बीज जैसा दिखने वाला फल है, जिसका इस्तेमाल मेवों में किया जाता है। चिरौंजी में फाइबर अच्छी मात्रा में होता है इसलिए अगर आप चिरौंजी का सेवन करते हैं, तो आपको कब्ज से छुटकारा मिल सकता है। चिरौंजी खाने के और भी ढेर सारे लाभ हैं, जैसे- ये डायरिया (पेचिश) की समस्या दूर करने में प्रभावी होता है। इसके अलावा त्वचा के रोग, खांसी, अस्थमा जैसी समस्याओं में भी चिरौंजी खाने से फायदा मिलता है। सबसे अच्छी बात है कि चिरौंजी में ढेर सारे पोषक तत्व होते हैं, जो आपको सेहतमंद रहने में मदद करते हैं। इसलिए बॉडी बिल्डिंग की चाहत रखने वाले लोगों के लिए भी चिरौंजी का सेवन फायदेमंद है।

इसे भी पढ़ेंः इन दो चीजों से करें अपच और कब्ज को दूर? आजमाएं पेट के लिए फायदेमंद नीना गुप्ता का ये जबरदस्त देसी नुस्खा

कब्ज की समस्या में कैसे का सकते हैं चिरौंजी?

अगर आप कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं, तो आप रात में सोने से एक-डेढ़ घंटे पहले चिरौंजी के 1 चम्मच दानों को 1 ग्लास गर्म दूध में भिगोकर रख दें। 15 मिनट तक भिगोकर रखने के बाद आप दूध पी लें और चिरौंजी खा लें। आप चाहें तो दूध को उबालते समय या पकाते समय भी उसमें चिरौंजी डाल सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो अपने रात के सलाद, सब्जी में डालकर भी चिरौंजी को खा सकते हैं।

कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इन बातों का भी रखें ध्यान

अगर आप कब्ज की समस्या से पूरी तरह छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आपको कुछ और बातों का भी ध्यान रखना चाहिए।

  • खाने में ताजे फल, कच्चे सलाद और हरी सब्जियों की मात्रा बढ़ा दें।
  • खाने में दाल और अनाज जरूर खाएं।
  • रोटी बनाने के लिए आटे के चोकर को निकालें नहीं, बल्कि चोकर सहित रोटी बनाकर खाएं।
  • दिनभर में 8-10 ग्लास पानी जरूर पिएं।
  • मैदे से बनी चीजों का खासकर प्रॉसेस्ड फूड्स का सेवन कम से कम करें।
  • रात का खाना सोने से 3 घंटे या कम से कम 2 घंटे पहले जरूर खा लें।
  • देर रात तक जगें नहीं और हर दिन कम से कम 7 से 9 घंटे की नींद जरूर पूरी करें।
  • अपने खाने में चाय, कॉफी का सेवन कम करें।
  • रात के खाने के बाद चाय, कॉफी का सेवन बिल्कुल न करें।
  • सुबह उठने के बाद फ्रेश होने से पहले 1 ग्लास गुनगुना पानी पिएं।

Read More Articles On Home Remedies in Hindi

Disclaimer