ज्यादा थकावट और बाल झड़ना है कीमोथेरेपी के साइ़ड इफेक्ट्स, इस तरह करें इससे अपना बचाव

कीमोथेरेपी कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के उपचार के समय प्रयोग किया जाता है, इसके साइड-इफेक्‍ट्स भी हो सकते हैं।

Vishal Singh
कैंसरWritten by: Vishal SinghPublished at: Mar 04, 2014Updated at: May 11, 2020
ज्यादा थकावट और बाल झड़ना है कीमोथेरेपी के साइ़ड इफेक्ट्स, इस तरह करें इससे अपना बचाव

कैंसर के इलाज के लिए कीमोथेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है। किसी भी पीड़ित को कैंसर के प्रकोप से दूर करने के लिए कीमोथेरेपी काफी कारगर थेरेपी के रूप में हमारे सामने है। पीड़ित के आखिरी स्टेज में कीमोथेरेपी का इस्तेमाल कैंसर को नियंत्रित करने के लिए किया जाने वाला एक बेहतर इलाज है। कीमोथेरेपी इलाज के दौरान दवाओं की मदद से कैंसर के सेल्स को खत्म करने का काम करती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कीमोथेरेपी के बाद मरीज को कुछ साइड इफेक्ट्स का सामना करना पड़ता है। जिसकी वजह से उन्हें थोड़ी परेशानी जरूर होती है। हम आज आपको इस लेख के जरिए बताते हैं कि कीमोथेरेपी के बाद क्या-क्या साइड इफेक्ट्स होते हैं और इससे बचने के क्या उपाय है। 

कीमोथेरेपी का प्रयोग कैंसर के उपचार के दौरान किया जाता है। ये वो दवाएं हैं जिनका प्रयोग कैंसर के सेल्स को खत्म करने के लिये किया जाता है। इन दवाओं के कारण ट्यूमर सिकुड़ जाते हैं और कैंसर फैलने भी नहीं पाता है। इन ड्रग्स को एण्टी कैंसर ड्रग्स या कीमोथेरेपिक एजेंट भी कहते हैं। बाजार में लगभग 80 एण्टी कैंसर ड्रग्स उपलब्‍ध हैं और अभी कई पर शोध जारी है। 

कीमोथेरेपी से होने वाले साइड इफेक्ट्स

थकान

कीमोथेरेपी कैंसर के इलाज की एक अहम थेरेपी है जो कैंसर को खत्म करने का काम करती है। इस थेरेपी के बाद कुछ परेशानी जरूर होती है, जिसके कारण मरीज थोड़ा ढीला जरूर हो सकता है। कीमोथेरेपी के बाद अक्सर मरीज पहले की अपेक्षा ज्यादा थकावट महसूस करता है और जल्दी थक जाता है। ऐसे में मरीज को ज्यादा आराम की जरूरत होती है और काम करने की कोई इच्छा नहीं होता। 

उल्टियां और जी मिचलाना

कीमोथेरेपी एक प्रकार से काफी भारी थेरेपी होती है, इस थेरेपी की दवाएं पूरे शरीर में घुलने के कारण कभी-कभी मरीज को जी मिचलाना और उल्टी जैसी समस्या होती है। 

इसे भी पढ़ें: गले में बनने वाली गांठ हो सकती है थाइरॉइड कैंसर का संकेत, इन लक्षणों की मदद से करें पहचान

लगातार बाल झड़ना

कीमोथेरेपी के इलाज के बाद दवाओं के इस्तेमाल के कारण बाल काफी पतले हो जाते हैं, जिसकी वजह से काफी ज्यादा और जल्दी बाल टूटने लगते हैं या झड़ने लगते हैं।  बता दें कि बाल झड़ने की समस्या अस्थाई होती और बाल दोबारा आ जाते हैं।

मुंह में घाव होना

कीमोथेरेपी के इलाज में मरीज को मुंह के अंदर घाव होने का खतरा होता है। शरीर में कई सेल्स नष्ट हो जाते हैं जिसके कारण मुंह लाल हो सकता है और मुंह में घाव हो पैदा हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: गले में सूजन और दर्द हो सकता है लिम्फोमा कैंसर का संकेत, जानें इसके लक्षण और कारण

बचाव

  • नियमित रूप से व्यायाम करते रहें, इससे आप कीमोथेरेपी के बाद होने वाले साइड इफेक्ट्स से अपना बचाव कर उसे एक हद तक नियंत्रित कर सकते हैं।
  • डॉक्टर अनुसार बताई गई डाइट का विशेष रूप से पाल करना चाहिए, कुछ भी ऐसा न खाएं जो आपकी सेहत को खराब करने का काम करें। 
  • तले-भुने, ज्यादा मसालेदार, ज्यादा नमक वाला खाने से दूरी बनाएं रखनी चाहिए। 
  • धूम्रपान और शराब का सेवन आपके लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए आपको कोशिश करनी चाहिए कि इन चीजों से दूरी बनाएं रखें। 

Read more articles on Cancer in Hindi

Disclaimer