घर में जलाएं 2 तेज पत्ते, हवा हो जाएगी शुद्ध और तनाव-चिंता से मिलेगा छुटकारा

प्रदूषित हवा को शुद्ध करने और तनाव को कम करने के लिए आप घर में 2 तेज पत्तों को जला सकते हैं। आयुर्वेदाचार्य डॉ. हरि कृष्ण से जानें तेज पत्ते का धुंआ स्वास्थ्य के लिए क्यों फायदेमंद है, इससे जुड़ी सावधानियां और इस्तेमाल का सही तरीका।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Nov 01, 2019Updated at: Nov 01, 2019
घर में जलाएं 2 तेज पत्ते, हवा हो जाएगी शुद्ध और तनाव-चिंता से मिलेगा छुटकारा

तेज पत्ते के बिना भारतीय गरम मसाले को अधूरा माना जा सकता है। तेज पत्तों का इस्तेमाल भोजन में स्वाद और सुगंध बढ़ाने के लिए किया जाता है। इन तेज पत्तों में ढेर सारे एंटीऑक्सीडेंट्स और मिनरल्स पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। यही कारण है तेज पत्तों को आयुर्वेद में औषधि माना गया है। इनका इस्तेमाल ढेर सारी आयुर्वेदिक दवाओं में किया जाता है। मगर क्या आप जानते हैं कि खाने के अलावा आप इन तेज पत्तों का इस्तेमाल घर की हवा को शुद्ध करने और तनाव से छुटकारा पाने में भी कर सकते हैं। जी हां, आइए हम आपको बताते हैं तेज पत्तों का ऐसा इस्तेमाल, जिसके बारे में आपने अब तक शायद नहीं सुना होगा।

तेज पत्तों को जलाएं और देखें धुंए का कमाल

'तत्व आयुर्वेद क्लीनिक' के वरिष्ठ आयुर्वेदाचार्य डॉ. हरि कृष्ण बताते हैं कि सूखे तेज पत्तों को जलाने के बाद जो धुंआ उठता है, वो सेहत के लिए फायदेमंद होता है। घर में रोजाना 1-2 तेज पत्ते जलाने से घर की हवा शुद्ध रहती है और आपका मूड अच्छा रहता है। तेज पत्तों में यूजेनॉल (eugenol) और मायक्रीन (mycrene) नाम के दो कंपाउंड पाए जाते हैं, जिनमें एंटीइंफ्लेमेट्री गुण होते हैं। इसलिेए तेज पत्तों को जलाने के बाद इसकी खुश्बू से मस्तिष्क की तंत्रिकाएं (नर्व्स) रिलैक्स हो जाती हैं, जिससे तनाव से छुटकारा मिलता है। जुकाम और एलर्जी के मरीजों के लिए तेज पत्ते का हल्का धुंआ बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि ये नाक और गले की भीतरी सूजन को दूर कर देता है, जिससे बंद गला और नाक खुल जाते हैं।

तनाव से छुटकारा पाने का आसान उपाय

कमरे में तेज पत्ते को जलाकर रखने से आप तनाव और चिंता से छुटकारा पा सकते हैं। तेज पत्तों में लिनालूल (linalool) नाम का एक खास तत्व होता है, जो तनाव को कम करने के लिए जाना जाता है। इसके लिए आप तेज पत्तों को जलाएं और इसके धुंए को कमरे में भरने दें। इस धुंए में 10 मिनट तक गहरी सांसें लें और आप पाएंगे कि आपको मस्तिष्क पहले से हल्का लग रहा है। हालांकि डॉ. हरि कृष्ण ये कहते हैं कि तेजपत्ते को जलाकर सीधे इसके धुंए को नाक के पास लाकर नहीं सूंघना चाहिए, बल्कि आसपास वातावरण में फैलने और थोड़ी हल्के धुंए को सूंघें, जिससे खुश्बू भी आए और धुंआ नाक में न चढ़ जाए।

नैचुरल और सबसे बेहतर एयर फ्रेशनर है तेज पत्ता

अगर आप घर को महकाने के लिए बाजार से मंहगे एयर फ्रेशनर्स लाते हैं, तो इससे बेहतर है कि आप तेज पत्ता जलाकर घर की बदबू दूर करें। दरअसल बाजार में मिलने वाले एयर फ्रेशनर्स में कई तरह के केमिकल्स और आर्टिफिशियल फ्रैग्रेंस का इस्तेमाल किया जाता है, जो आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक होते हैं। इसका असर छोटे बच्चों पर बहुत बुरा होता है। जबकि कमरे को भीनी प्राकृतिक खुश्बू से भरने के लिए आप 2-3 तेज पत्ते को जलाकर कमरे में रख सकते हैं।

हवा को शुद्ध करता है तेज पत्ता

आजकल प्रदूषण एक बड़ी समस्या है, जिसके कारण कई तरह की बीमारियां बढ़ रही हैं। कई इलाकों में तो प्रदूषण इतना खतरनाक हो गया है कि इसके कारण लोगों की मौत भी हो रही है। ऐसे में अगर आप घर के अंदर की हवा को शुद्ध करना चाहते हैं, तो घर में 2-3 तेज पत्तों को जलाएं। तेज पत्ते के जलाने से उठने वाला धुंआ और खुश्बू आपके घर की अंदरूनी हवा को शुद्ध कर देगा। इसके अलावा तेज पत्तों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स आपको मानसिक शांति पहुंचाएंगे।

क्या है तेज पत्तों को घर में जलाने का सही तरीका

  • सबसे पहले किसी ऐश-ट्रे में 2-3 सूखे तेज पत्तों को रखें।
  • इसके बाद इन्हें जलाएं और कमरे के खिड़की दरवाजों को बंद करके स्वयं बाहर निकल जाएं।
  • धुंए को कमरे में फैलने दें और 5-7 बार आप कमरे में प्रवेश करें और गहरी सांस लें।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer