Preschool Tips : पहली बार भेज रहे हैं बच्चे को स्कूल, तो ध्यान रखें ये 4 बातें

अगर आपके भी छोटे बच्‍चे के माता-पिता हैं और आपने अपने बच्‍चे को अभी-अभी प्‍ले स्‍कूल या स्‍कूल भेजना शुरू किया है, तो आपकी भी जिम्‍मेदारी बनती है कि आप अपने बच्‍चे को कुछ जरूरी बातें जरूर सिखाएं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jun 21, 2019Updated at: Jun 21, 2019
Preschool Tips : पहली बार भेज रहे हैं बच्चे को स्कूल, तो ध्यान रखें ये 4 बातें

प्री स्‍कूल या प्‍ले स्‍कूल, जहां आजकल अधिकतर बच्‍चों को स्‍कूल भेजने से पहले भेजा जाता है। अब वह समय नहीं रहा जब कि बच्‍चे को सीधे नर्सरी के लिए स्‍कूल भेजा जाता था। आज के समय में बच्‍चों को स्‍कूल में एडमिशन करवाने से पहले उसे प्‍ले स्‍कूल या प्री स्‍कूल भेजा जाता है। जंहा बच्‍चे को स्‍कूल में रहने की आदत डलवाई जाती है। इसके अलावा माता-पिता दोनों का वर्किंग होने के कारण भी ज्‍यादातर अभिभावक अपने बच्‍चे को प्री स्‍कूल में भेजना पसंद करते हैं। इसके साथ ही अभिभवक चाहते हैं, कि बच्‍चा कम उम्र में ही ज्‍यादा से ज्‍यादा सीख सके। लेकिन यदि आप अपने बच्‍चे को प्‍ले स्‍कूल में डाल रहें, तो उससे पहले अपने बच्‍चे को कुछ बेसिक बातें जरूर सिखाएं। 

साफ-सफाई 

बच्‍चे का दिमाग खाली किताब के समान होता है, उसमें जो भी भरा जाए बच्‍चा वही सब सीखता है। आप अपने बच्‍चे को पहले से ही साफ-सफाई के प्रति सचेत रहने की बातें सिखाएं। इससे आपके बच्‍चा स्‍वस्‍थ और सबका लड़ला बना रहेगा। वैसे तो, प्‍ले स्‍कूल में बच्‍चों की सफाई पर भी ध्‍यान रख जाता है, लेकिन अगर आप अपने बच्‍चे को पहले से ही हाथ साफ रखना, नाक पोंछना, मुंह में हाथ न रखना व लंच बॉक्‍स खोलना और खाने जैसी आदत सिखाएंगे, तो यह उसके लिए अच्‍छा होगा। 

पर्सनल हाइजीन से जुड़ी बातें

सबसे जरूरी बात आप अपने बच्‍चे को पर्सनल हाइजीन से जुड़ी बातें जरूर सिखाएं। क्‍योंकि प्‍ले स्‍कूल में बच्‍चे के पास हर समय आप नहीं होंगे कि बार-बार बच्‍चे की नैप्‍पी चैक करें। इसलिए आप बच्‍चे को सिखाएं कि वह टॉयलेट आने पर बताए, टॉयलेट सीट पर बैठना सिखाएं, शौच करने का सही तरीका, शौच के बाद हाथ धोना और अपने हाथ व पैरों की सफाई रखना। क्‍योंकि इन सबके कारण संक्रमण का खतरा बढ़ सकता हे। अगर आप बच्‍चे को पहले से ही यह सब बातें कहानियों के जरिए सिखा देते हैं, तो वह कभी नहीं भूलता और वह उसकी आदत बन जाती है। 

परिचय देना व गुड व बैड टच के बारे में बताएं

आप अपने बच्‍चे को उसका पूरा परिचय देना जरूर सिखाएं। यानि कि उसका नाम, उसके मम्‍मी-पापा का नाम, पता, हो सके तो फोन नम्‍बर जैसी बातें उसे जरूर बताएं। इसके अलावा आप अपने बच्‍चे को गुड व बैड टच के बारे में जरूर बताएं। आप सोच रहें होंगे कि इतनी छोटी उम्र में इसकी क्‍या जरूरत, लेकिन आज के जमाने में बच्‍चों के साथ कभी भी, कुछ भी गलत हो सकता है। इसलिए उन्‍हें अनजान व्‍यक्ति से कोई चीज लेने व बात न करना सिखाएं।   

इसे भी पढें: च्चों की इम्यूनिटी बढ़ानी है तो खिलाएं ये 4 चीजें, नहीं पड़ेंगे बीमार

बच्‍चे को संस्‍कारी बनाएं अभद्र नहीं

आप अपने बच्‍चे में अच्‍छी आदतें डालें, जिससे उसके अच्‍छे संस्‍कार झलकें न कि अभ्रदता। क्‍योंकि कई बार मां-बाप बच्‍चे की गलती पर हंस देते हैं और उसे टाल देतें हैं। जिसका परिणाम यह होता है कि बच्‍चे को वह सब गलत नहीं लगता और वह अभद्र होता जाता है। जैसे आप अपने बच्‍चे को बड़ों का आदर, आप करके बात करना सिखाएं, प्‍लीज, थैंक्‍यू और सॉरी जैसी बातें सिखाएं। इसके बच्‍चे को लोगों के साथ घुलना-मिलना भी सिखाएं, जिससे कि वह स्‍कूल में अकेलापन महसूस न करे और दोस्‍त बना ले। 

Read More Article On Parenting In Hindi 

Disclaimer