World Mental Health Day: मानसिक रोगों से दूर रहने के लिए रोजाना करें ये 3 प्राणायाम, तनाव और अवसाद से मिलेगी मुक्ति

Pranayama and Mental Health: प्राणायाम एक बेहतरीन तनाव निवारक है और यह चिंता और अवसाद को कम करने के लिए भी जाना जाता है। जब आप अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो प्राणायाम चिंता को दूर करने में मदद करता है और शारीरिक तनाव को भी कम करता है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Oct 09, 2019Updated at: Oct 09, 2019
World Mental Health Day: मानसिक रोगों से दूर रहने के लिए रोजाना करें ये 3 प्राणायाम, तनाव और अवसाद से मिलेगी मुक्ति

Pranayama For Mental Health: योग और प्राणायाम के कई स्वास्थ्य लाभ हैं; कब्ज को दूर करने से लेकर तंत्रिका संबंधी विकारों के उपचार तक। आप शायद जानते होंगे कि योग आपके मन को शांत करने में मदद कर सकता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्राणायाम आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी बेहतर बना सकता है। इस लेख को पढ़ें और जानें कि प्राणायाम आपकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को कैसे बढ़ावा दे सकता है और चिंता और तनाव को दूर करने में आपकी कैसे मदद कर सकता है। 

विशेषज्ञों के मुताबिक, प्राणायाम का अभ्यास बेहतर मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए है। यह स्वीकार्य, सुलभ होने के साथ आत्मनिर्भरता को प्रोत्साहित करता है। प्राणायाम एक व्यक्तिगत स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाला अभ्यास है जो एकल रूप से या समूहों में किया जा सकता है। प्राणायाम को कार्यस्थलों, स्कूलों और अन्य समूहिक जगहों पर इसे बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

Om Chanting

Image- Trionds

योग और प्राणायाम मानसिक बीमारी को पूरी तरह से ठीक करने का कोई सिद्ध उपचार नहीं है, लेकिन जो लोग नियमित रूप से इसे करते हैं, उन लोगों के लिए आंतरिक शांति की अधिक समझ को बढ़ावा देता है और मानसिक रोगों के लक्षणों को कम करता है। आज विश्‍व मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य दिवस के मौके पर हम आपको 3 ऐसे प्राणायामों के बारे में बता रहे हैं जो आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने में मदद करेंगे, साथ ही यह आपका मानसिक तनाव, चिंता, अवसाद को कम कर शांति प्रदान करेंगे। 

न्‍यूरोलॉजिकल प्रॉब्‍लम के लिए प्राणायाम कैसे उपयोगी है इसके बारे में विस्‍तार से बता रहे हैं- योग गुरू अमित सिंह। 

ॐ का उच्‍चारण- Om Chanting

ॐ (ओम) शब्‍द तीन अक्षरों से बना है। यह मस्तिष्‍क के साथ शरीर के सभी अंगों के लिए प्रभावी माना जाता है। इसे पद्मासन, सुखासन और वज्रासन करने के साथ ॐ का जाप कर सकते हैं। इससे दिमाग के ऊपर भंवरे की तरह कंपन्‍न होने लगता है, ऑक्‍सीजन लेवल ठीक होने लगता है और स्‍मरण शक्ति का विकास होता है। ऐसा आप 3,5 या 7 बार करें। इस संख्‍या को बढ़ा सकते हैं! (एक्‍सरसाइज से मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य में होते हैं ये 5 सुधार, जानें क्‍या हैं ये)

pranayama

भ्रामरी प्राणायाम- Bhramari Pranayama

ये प्राणायाम मस्तिष्‍क के विकास के लिए है। योग गुरू अमित सिंह के मुताबिक, अब तक कई बच्‍चों की याददाश्‍त भ्रामरी प्राणायाम के माध्‍यम से बेहतर किया गया है। अपने अंगूठों से कान को बंद करते हुए बाकी उंगलियों से आंखें बंद करें। इसके बाद गहरी सांस लीजिए और सांस छोड़ते हुए भंवरे की गूंज की ध्‍वनि कीजिए। इस क्रिया को लगातार कर सकते हैं, इसे 10, 15 या 20 बार कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मेंटल हेल्‍थ को बेहतर के लिए जीवनशैली में करें ये 5 बदलाव, मानसिक रोगों से मिलेगा छुटकारा

म् का उच्‍चारण 

इस प्राणायाम को करने के लिए सबसे पहले आंखों को बंद करेंगे और सांस अंदर लेंगे और सांस छोड़ने के साथ म् का उच्‍चारण करेंगे। इसके बाद पूरे शरीर को आराम देंगे। इसे भी आप नियमित रूप से कर सकते हैं। इन प्राणायामों के बारे में विस्‍तार से जानने के लिए वीडियो को देखें। (प्राणायाम के पीछे छिपे हैं ये वैज्ञानिक रहस्‍य)

Read More Articles On Yoga In Hindi

Disclaimer