गर्मियों में खाइये ये 9 चीजें, तेजी से बर्न होगी कैलोरी और घटेगा वजन

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 30, 2018
Quick Bites

  • यदि आहार स्‍वस्‍थ और पौष्टिक हों तो वजन घटा सकते हैं।
  • लंच और डिनर में सलाद शामिल करने से नहीं बढ़ात वजन।
  • बींस, नाशपाती, सोया, सूप वजन घटाने में करते हैं मदद।

खाने से वजन बढता है, ये तो दुनिया जानती है, लेकिन कुछ ऐसे भोजन भी हैं जिनके सेवन से आपका वजन कम होता है। वजन पर नियंत्रण रखना स्वास्थ्य के लिहाज से बेहद आवश्यक है और क्विक वेट लॉस आजकल एक ट्रेंड-सा बन गया है। हालांकि इसके कई तरीके हैं लेकिन विभिन्न रिसर्चो की मानें तो सही किस्म का भोजन वजन कम करने में सबसे ज्यादा सहायक होता है। कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें अपनी डाइट में शामिल करने से वजन को नियंत्रित रखा जा सकता है। ऐसे ही कुछ भोज्य पदार्थो का यहां जिक्र किया जा रहा है।

सैलेड

क्या आपको लंच या डिनर के दौरान खुद को स्टफ कर लेने की आदत है? यदि हां, तो अपनी मील की शुरुआत सैलेड से करें। ध्यान रखें कि यह सैलेड क्रीमी ड्रेसिंग के बगैर होना चाहिए। पेन स्टेट यूनिवर्सिटी में 42 स्त्रियों पर हुए एक अध्ययन में देखा गया कि जिन्होंने मील के पहले एक बडी प्लेट लो कैलरी सैलेड खाया, वे बाद में लगभग 12 प्रतिशत कम पास्ता ही खा सकीं। अध्ययनकर्ताओं के अनुसार इसकी वजह रहा सैलेड। अमेरिकन डायटिक एसोसिएशन के एक जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट की मानें तो सैलेड में विटामिन सी और ई के अलावा फॉलिक एसिड, लाइकोपीन और कैरोटेनॉयड्स आदि पोषक तत्व मौजूद हैं जो प्रतिरोधक क्षमता को बढाते हैं।
ग्रीन टी- ग्रीन टी उन सभी लोगों के लिए बेहतरीन पेय है जो वजन कम करने की इच्छा रखते हैं। ग्रीन टी में कैटेशिंस नाम के एंटीऑक्सिडेंट्स मौजूद होते हैं जो फैट बर्न करने और मेटाबॉलिज्म को बढाने में मदद करते हैं। विभिन्न शोधों से पता चला है कि ग्रीन टी बॉडी मास इंडेक्स को घटाने और हानिकारक एलडीएल कॉलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद करती है।

दालचीनी

भोजन के बाद मीठा मोटापे का बडा कारण होता है। माइक्रोवेव किए हुए ओटमील या होल-ग्रेन टोस्ट पर दालचीनी पाउडर छिडक कर खाएं, आपको इस क्रेविंग से भी छुटकारा मिलेगा और अनचाही कैलरीज से भी। यूएस डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार थोडी-सी दालचीनी खाकर भोजन के बाद मीठे की क्रेविंग से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है। दालचीनी सेहत के लिहाज से भी बहुत अच्छी है। एक-चौथाई छोटा चम्मच दालचीनी का पाउडर का रोजाना सेवन टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में ब्लड शुगर और कॉलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक होता है।

इसे भी पढ़ें:- बढ़ा हुआ पेट 15 दिन में कम करना है, तो ऐसे करें नारियल के तेल का प्रयोग

बींस

बींस को वेट लॉस के लिहाज से सबसे अच्छा माना जाता है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की एक रिसर्च के अनुसार बींस में ऐसे तत्व होते हैं जो कॉलेसिस्टॉकिनिन नाम के डाइजेस्टिव हार्मोन को लगभग दो गुना बढाने में मदद करते हैं। कुछ अध्ययनों के अनुसार बींस ब्लड शुगर के स्तर को मेंटेन करने में मदद करता है ताकि अगर आपको लंबे समय तक भूखा रहना पडे तो आपके लिए नुकसानदेह न हो। बींस को हाई फाइबर डाइट माना जाता है जो कॉलेस्ट्राल को कम करने में भी मदद करता है।

अंडे

अंडे प्रोटीन का खजाना होते हैं। सुबह नाश्ते में अंडे खाना सेहत के लिहाज से बहुत अच्छा होता है। एक रिसर्च में पाया गया कि वे स्त्रियां जो नाश्ते में स्क्रैम्बल्ड एग्ज के साथ दो स्लाइस टोस्ट और कम कैलरी वाला फ्रूट स्प्रेड लेती हैं, उन्हें आम नाश्ता खाने वाली स्त्रियों के मुकाबले कम भूख लगती है। कम भूख लगने से जाहिर है इंसान कम कैलरी कंज्यूम करेगा।

नाशपाती

नाशपाती फाइबर का खजाना होती है। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के अनुसार लगभग छह ग्राम की एक नाशपाती आपकी भूख को संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त होती है। संस्था के अनुसार भूख मिटाने के लिए सेब नाशपाती के बाद सबसे अच्छा स्रोत है। दोनों ही फलों में पेक्टिन फाइबर होता है जो ब्लड शुगर के स्तर को कम करता है। असमय भूख लगने पर हाई कैलरी स्नैक्स लेने के बजाय नाशपाती खाएं, आपके शरीर में गैरजरूरी कैलरी पहुंचने से बचेगी।

इसे भी पढ़ें:- पेट के निचले हिस्से की चर्बी को जल्दी करना है दूर, तो अपनाएं ये उपाय

सूप

एक कप चिकन सूप और एक नॉर्मल साइज चिकन पीस से लगभग एक जैसी ही भूख मिटती है। शोधकर्ताओं की मानें तो चिकन सूप भूख कम करने में सहायक होता है।

लीन बीफ

अगर आप अपने शरीर के एक्स्ट्रा पाउंड्स को कम करने की चाह रखते हैं तो लीन बीफ को अपने डिनर में शामिल कर लीजिए। अगर आप रोजाना 1700 कैलरी की डाइट लेते हैं तो 9-10 आउंस लीन बीफ आपकी डाइट का एक अहम हिस्सा बन सकती है। बीफ खाने वालों को भूख भी कम लगती है, इसलिए भी इसे वेट लॉस फूड की कैटगरी में शामिल किया जाता है।

ऑलिव ऑयल

बढती उम्र में फैट कम करना मुश्किल होता है। ऐसे में ऑलिव ऑयल आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। ऑलिव ऑयल मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स से बना होता है जो कैलरी बर्न करने में सहायक होता है। ऑलिव ऑयल को सॉते करने या सैलेड ड्रेसिंग के तौर पर बखूबी प्रयोग किया जा सकता है। ऑस्ट्रेलिया में 57 से 73 वर्ष की स्त्रियों पर किया गया, एक अध्ययन यह साबित करता है कि ऑलिव ऑयल मेटाबॉलिज्म बढाने में मदद करता है। इस अध्ययन में शामिल स्त्रियों को नाश्ते में स्किम्ड मिल्क और ओटमील में ऑलिव ऑयल डालकर दिया गया था

विनेगर

विनेगर के सेवन से लंबे समय तक भूख नहीं लगती। एक स्वीडिश अध्ययन के अनुसार प्लेन ब्रेड खाने वालों के मुकाबले ब्रेड स्लाइस को विनेगर में डुबो कर खाने वालों को भूख कम लगती है। विनेगर में मौजूद एसिटिक एसिड से पाचन में समय लगाता है, जिससे भूख देर से लगती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Weight Management in Hindi

 

Loading...
Is it Helpful Article?YES37 Votes 51415 Views 3 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK