मामूली नहीं है नवजात की छींकने की आदत, कारण जानकर आज ही शुरू करें इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 10, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

ds

प्रदूषण, रासायनिक धुएं, धूल, पराग, मोल्ड स्पॉर, दूसरों की खाँसी से रोगाणु – हवा में हमारी सांश के साथ बहुत सारी गंदगी शामिल होती है। नाक एक फिल्टर के रूप में कार्य करती है। कुछ भी जो नाक स्वीकार नही करता नाक से रक्त के प्रवाह में वृद्धि होने के कारण यह नाक के उत्तकों की सूजन का कारण बनाता है। जो उन्हें बलगम का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है और छींक व्यक्ति का कारण बनता सूजन के कारण रक्त प्रवाह बढ़ता है. बलगम बाहर साँस दोष फ्लश करने का प्रयास करता है.
माता पिता को स्वाभाविक रूप से चिंतित रहते है जब अपने नवजात शिशु के नाक में बलगम होता है और वह अक्सर छींक रहता है, लेकिन यह जरूरी नही है कि यह बीमारी का संकेत हो बल्कि एक लक्षण है जो अन्य कारणों की वजह से हो सकता है।


शिशुओं में नाक का भरा होना और छींकने के लिए आम कारणों मे से निम्नलिखित कुछ  शामिल हैं:

  • शुष्क(ठंडी) हवाः नवजात शिशुओं की थोड़ी नाक बहती रहती है जो नाक के पूरी तरह से सूखने के प्राकृतिक स्राव के कारण होता है, विशेष रूप से सर्दियों के महीनों में। यह सांस लेने में आवाज, नाक का बहना और छींकने के लिए कारण हो सकते हैं। ऐसे मामलों में नमी की वृद्धि के लिए वाष्पित्र (वेपोराइसर) इंस्टॉल करना मददगार हो सकता है।
  • परेशानी: हवा, धूल, सिगरेट का धुआँ और दूध, जो शिशु के नाक में तेजी से जाता रहता है जिस समय वह घुटनो के बल चलता है। ये कारण स्पष्ट नाक निर्वहन में परेशानी उत्तपन्न करते है। ऐसी स्थितियों में नवजात शिशु में अक्सर छींकने की समस्या का सामना करना पड़ता है।
  • जुकाम और इन्फ्लुएंजाः नाक का बहना, छींकने, और ऊपरी श्वास लेने में संक्रमण अक्सर पाया जाता है जब अपरिपक्व प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ नवजात बच्चा सर्दी के संपर्क में आता है। वे एक वायरस के हमले और एक संक्रमित व्यक्ति के हाथ से बच्चे की नाक में जाने के कारण होता है। एक नवजात शिशु को हाथों में संभालने से पहले हाथ धोने की सलाह दी जाती है। बिना जांचे छोडना अन्य बैक्टीरियल संक्रमण का कारण बन सकता है।
  • एलर्जी: नाक का भरा होना और छींकने बुख़ार के कारण नवजात शिशुओं में हो सकता है, जिसे मौसमी एलर्जी के रूप में जाना जाता है। यह पदार्थों को हवा में मौजूद पदार्थों से एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण होता है, जैसे कि पराग जो नाक में जाकर, साइनस, थ्रोट और आँखों के साथ साथ, पशु बाल, कीड़े के काटने और घर धूल के कारण होता है। इन एलर्जी के स्रोतों से बचना सबसे अच्छा उपाय है लेकिन यह हमेशा संभव नहीं है, जिस मामलो में बच्चो को एंटी-हिस्टेमीनेस दिया जाता है।
  • बढ़े ऐडिनॉइड या कंठशूलः टॉन्सल और कंठशूल साँस लेने के मार्ग में ग्रंथियों के ऊतको हैं और शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का एक हिस्सा है। कभी कभी रोगाणु उन्हें संक्रमित कर उनके गले और सूजन का कारण बनते है। शिशु नाक के माध्यम से साँस नहीं ले पाते, और नाक की बजाय मुंह के माध्यम से साँस लेते है, जो संक्रमण से लड़ने में कारगर होने से नाक प्रतिरक्षण कार्यप्रणाली को रोकता है। यह सर्जरी के द्वारा केवल एंटीडोट है।  
  • बाहरी वस्तुएः नाक में कुछ चीजे होती है जिसका वहां होने का कोई अर्थ नही। शिशुओं और नन्हे बच्चे हमेशा उत्सुक होते है और प्रयोग करने के लिए उत्सुक रहते है। उनमें से कई मोती, पॉपकोर्न, खिलौने सेम और अन्य चीजे अपनी नाक में देते है और खुद को तकलीफ में डालते है। ऐसी घटनाओं से बचने का सबसे अच्छा तरीका उऩके पास रहकर उन पर नज़र रखना और ऐसी वस्तुओं को उनकी पहुँच से दूर रखना है। 
  • नाक स्प्रे: सर्दी खांसी का स्प्रे छह वर्ष से कम आयु के बच्चों को देने की सलाह नहीं जाती हैं। डीकन्जेस्टन्ट लत लगने वाली दवा है हैं और एक नवजात शिशु के नाक और साइनस के नाजुक ऊतकों को नुकसान पहुंचाता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles on Newborn Baby Care in Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES13 Votes 18322 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर