चिड़चिड़े बच्चों की इन 5 स्ट्रेस प्वॉइंट पर करें मसाज, तुरंत मिलेगा आराम

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 29, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सिरदर्द, साइनस असुविधा आदि का अनुभव कर रहा है।
  • पैर की एड़ी मालिश करने से कूल्हे का दर्द दूर होता है।
  • तलवों की धीरे-धीरे मालिश करने से साइनस से आराम मिलता है।

सिर्फ बड़े ही नहीं बल्कि कई बार छोटे बच्चे यानि कि शिशु की चिड़ेचिड़े हो जाते हैं। अगर आप माता-पिता है और आपने कभी रिफ्लेक्सोलॉजी के बारे में नहीं सुना है, तो आज इस बारे में जरूर जान लें क्योंकि ये जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। रिफ्लेक्सोलॉजी सिद्धांत का मानना है कि पैर और हाथों पर पाए गए प्रतिबिंब बिंदु विशिष्ट अंगों, मांसपेशियों, हड्डियों और शरीर प्रणालियों से मेल खाते हैं और इन्हें दबाने से तुरंत आराम मिलता है।  बड़ों की तरह छोटे बच्चे भी कभी कभी चिड़चिड़ा और असहज महसूस करते हैं। ऐसे में यदि उनके शरीर के स्ट्रेट रिलीफ प्वॉइंट्स की मसाज की जाए तो उन्हें तुरंत आराम मिलता है।

रिफ्लेक्सोलॉजी तब अधिक काम आती है जब मां अपने बच्चे के पैरों को रगड़ती है, जब वे क्रैकी, रोते या असहज होते हैं। ऐसा करने से उन्हें काफी आराम मिलता है। वास्तव में, रिफ्लेक्सोलॉजी एक ऐसे बच्चे को शांत करने में मदद करने में सक्षम है जो पेट में दर्द, सिरदर्द, साइनस असुविधा आदि का अनुभव कर रहा है। एक बच्चे के पैर पर अलग-अलग बिंदुओं को समझना है जो इन दर्दों में से प्रत्येक को प्रभावित करता है। एक बार जब आप उन्हें समझ लेंगे, तो आप अपने बच्चे को शांत करने में पूरी तरह से सक्षम हो जाएंगे। आज हम आपको बच्चों के इन्हीं प्वॉइंट्स के बारे में बता रहे हैं।

इसे भी पढ़ें : जानिए शिशुओं के लिए कितना फायदेमंद है दाल का पानी

साइनस का दर्द

साइनस दर्द किसी के लिए आरामदायक नहीं है। अगर आप बच्चा इस समस्या को झेल रहा है तो आप अपने बच्चे के तलवों की धीरे-धीरे मालिश करें। ऐसा करने से बच्चे को साइनस दर्द से धीरे धीरे आराम मिलने लगेगा। ध्यान रहे कि बच्चे बहुत नाजुक होते हैं इसलिए इन्हें हल्का हल्का ही दबाएं। जिससे बच्चे को दर्द न हो। नहीं तो फायदे की जगह नुकसान हो जाएगा।

बच्चों के दांत निकलना

जो मां है वह समझ सकती है कि जब बच्चे के दांत निकलते हैं तो उस वक्त मां और बच्चा दोनों किस दर्द से गुजरते हैं। इस स्थिति में यदि आपे धीरे-धीरे बच्चे के पैर की उंगलियों की नोक को मालिश करेंगे तो आपका बच्चा काफी आरामदायक महसूस करेगा। इस प्वॉइंट को दबाने से बच्चों को बहुत आराम मिलता है।

बच्चों का पेट दर्द

पेट दर्द हर किसी के लिए बहुत असहनीय पीड़ा होती है। जब एक बच्चे को पेट दर्द होता है, तो वह बहुत असहज महसूस करता है। आपको नहीं पता कि दर्द को कम करने के लिए क्या करना है। खैर, रिफ्लेक्सोलॉजी जवाब है। आपको बस एक परिपत्र गति में बच्चे के पैर की उंगलियों के केंद्र को मालिश करना शुरू करना है। केंद्रीय पैर की अंगुली क्षेत्र 'सौर प्लेक्सस' से बंधी है जो पेट और हमारे फेफड़ों के बीच नसों को आराम पहुंचाती है।

इसे भी पढ़ें : क्या अंगूठा चूसने से खराब हो जाते हैं शिशु के दांत?

कूल्हों में दर्द 

अगर आपके बच्चे को अपने कूल्हों में बहुत दर्द हो रहा है, तो उनके पैर की एड़ी मालिश करने से उन्हें दर्द से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। यह प्रेशर प्वॉइंट न सिर्फ बच्चे को कूल्हे में दर्द से छुटकारा दिलाएगा बल्कि उन्हें पेट दर्द और कब्ज की समस्या से भी छुटकारा दिलाएगा।

सूजन का उपाय

स्वस्थ जीवनशैली नोट करती है कि तलवों और बच्चे के पैर के बीच मालिश करने से पेट दर्द हो सकता है। लेकिन विभिन्न दर्दों की आवश्यकता होती है कि आप पेट के विभिन्न क्षेत्रों में काम करें। यदि आपका बच्चा सूजन का अनुभव कर रहा है, तो ऊंची एड़ी के जूते और पैर के बीच मालिश करें। दोबारा, यह बहुत धीरे से करें क्योंकि बच्चे का पैर बहुत संवेदनशील है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप
 
Read More Articles on Parenting in Hindi
Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES190 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर