डार्क रोस्ट कॉफी ज्यादा फायदेमंद है लाइट रोस्ट कॉफी? जानें कैसी कॉफी पीनी चाहिए आपको

कॉफी पीने वालों को ये बात जरूर जाननी चाहिए कि उनकी सेहत के लिए कौन से कॉफी बीन्स ज्यादा फायदेमंद हैं, डार्क रोस्ट या लाइट रोस्ट कॉफी।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 15, 2020Updated at: Feb 15, 2020
डार्क रोस्ट कॉफी ज्यादा फायदेमंद है लाइट रोस्ट कॉफी? जानें कैसी कॉफी पीनी चाहिए आपको

यह तो आप जानते ही हैं कि कॉफी एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है, इसलिए रेगुलर मॉर्निंग ड्रिंक के रूप में पूरी दुनिया में पी जाती है। तमाम रिसर्च बताती हैं कॉफी पीने से दिमाग तेज होता है, दिल की बीमारियां दूर रहती हैं और उम्र लंबी होती है। लेकिन क्या आपने ध्यान दिया है कि मार्केट में मिलने वाले कुछ कॉफी बीन्स हल्के रोस्ट किए हुए होते हैं (लाइट रोस्टेड कॉफी बीन्स) और कुछ कॉफी बीन्स को ज्यादा रोस्ट कर दिया जाता है (डार्क रोस्टेड कॉफी बीन्स)। अब आप शायद ये सोचकर कंफ्यूज हो जाएं कि कौन से कॉफी बीन्स आपकी सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद हैं? तो हम दूर कर रहें हैं आपका ये कंफ्यूजन आपको बता रहे हैं कि कौन सी कॉफी पीना आपके लिए ज्यादा हेल्दी है।

कॉफी में होता खास एंटीऑक्सीडेंट

हाल में ही Journal of Medicinal Food में कोरिया में हुई एक रिसर्च को छापा गया, जो इस बात पर आधारित थी कि कॉफी को रोस्ट करने का उसके स्वास्थ्य गुणों पर क्या प्रभाव पड़ता है। कॉफी में एक खास एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जिसे क्लोरोजेनिक एसिड (chlorogenic acid) कहते हैं। इसी एंटीऑक्सीडेंट के कारण कॉफी इतनी ज्यादा हेल्दी मानी जाती है। शोधकर्ताओं ने शोध के दौरान यही पता लगाना चाहा था कि जब हम कॉफी को रोस्ट करते हैं, तो उसमें मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड की मात्रा पर क्या फर्क पड़ता है। इसके लिए वैज्ञानिकों ने कई अलग-अलग लेवल पर रोस्ट की गई कॉफी बीन्स के अर्क को इंसानों के सेल्स के साथ टेस्ट करके देखा कि ये इन्फ्लेमेशन को रोकने में कितनी मददगार होती हैं।

इसे भी पढ़ें: ग्रीन कॉफी पिएं और तेजी से घटाएं वजन, शरीर को मिलेंगे ये 5 फायदे

कैसी कॉफी पीना है ज्यादा हेल्दी?

वैज्ञानिकों ने पाया कि अगर कॉफी को लाइट रोस्ट किया गया है यानी कम देर तक आंच पर भूना गया है, तो ये ह्यूमन सेल की ज्यादा बेहतर तरीके से रक्षा करने में सक्षम होता है। लाइट रोस्ट कॉफी, डार्क रोस्ट कॉफी के मुकाबले ज्यादा बेहतर तरीके से सेल डैमेज यानी ऑक्सिडेशन को रोक सकती है और शरीर को इन्फ्लेमेशन से बचा सकती है। इसके अलावा लैब टेस्ट में लाइट रोस्ट कॉफी में ज्यादा मात्रा में क्लोरोजेनिक एसिड पाया गया। हालांकि रोस्ट करने से कॉफी के कैफीन लेवल पर कोई प्रभाव नहीं देखा गया।

कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट के फायदे

इसका मतलब यह है कि अगर आप लाइट रोस्ट कॉफी पीते हैं, तो ये आपके लिए ज्यादा हेल्दी है क्योंकि इसमें कैफीन की मात्रा डार्क रोस्ट कॉफी के बराबर ही होती है, जबकि एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा ज्यादा होती है और ये शरीर की रक्षा भी ज्यादा बेहतर तरीक से कर सकती है। एंटीऑक्सीडेंट्स उन तत्वों को कहते हैं, जो हमारे शरीर में ऑक्सिडेशन की क्रिया को रोकते हैं और सेल्स को डैमेज होने से बचाते हैं। अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स वाली चीजें खाने-पीने से आपका शरीर कई क्रॉनिक बीमारियों से बचा रहता है और इन्फ्लेमेशन कम होता है। इन बीमारियों में दिल की बीमारियां, डायबिटीज के साथ गंभीर न्यूरोलॉजिकल बीमारियां जैसे- अल्जाइमर और कैंसर आदि भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: बिना चाय-कॉफी के नैचुरल तरीकों से एनर्जी बूस्ट करेंगे ये 5 उपाय, चिंता-तनाव से मिलेगा तुरंत छुटकारा

एक दिन में कितनी कॉफी पिएं

कुछ रिसर्च बताती हैं कि एक हेल्दी वयस्क के लिए एक दिन में 400 mg कैफीन का सेवन सुरक्षित माना जा सकता है। इसके अनुसार देखें तो आप एक दिन में लगभग 3-4 कप तक कॉफी का सेवन कर सकते हैं। मगर यदि आप किसी बीमारी से पीड़ित हैं या दवाओं का सेवन कर रहे हैं, तो आपको कितनी कॉफी पीनी चाहिए, इसकी जानकारी आप अपने डॉक्टर से पूछ सकते हैं।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer