लहसुन खाने से नहीं आता हार्ट अटैक, दूर होता है घुटनों का दर्द, जानें इसके अन्‍य फायदे

विशेषज्ञों के अनुसार, लहसुन में उच्च सल्फर सामग्री एंटीबायोटिक गुण देता है, जो विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर पाचन तंत्र को साफ रखने में मदद करती है। यह सामान्य सर्दी जुकाम के खिलाफ लड़ता है और धमनियों की रूकाव

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jan 03, 2019
लहसुन खाने से नहीं आता हार्ट अटैक, दूर होता है घुटनों का दर्द, जानें इसके अन्‍य फायदे

लहसुन स्वास्थ्य लाभों से भरपूर हैं। लहसुन प्याज परिवार का एक हिस्सा है और इस जड़ी बूटी के कंद में आमतौर पर 10-20 छोटे खंड होते हैं जिन्हें 'लौंग' कहा जाता है। प्रत्येक छोटी लौंग स्वाद के साथ-साथ औषधीय गुणों से भरा होता है। हर 100 ग्राम लहसुन में आपको लगभग 150 कैलोरी, 33 ग्राम कार्ब्स, 6.36 ग्राम प्रोटीन मिलता है। लहसुन भी विटामिन बी 1, बी 2, बी 3, बी 6, फोलेट, विटामिन सी, कैल्शियम, लोहा, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम और जस्ता के साथ समृद्ध होता है।

विशेषज्ञों के अनुसार, लहसुन में उच्च सल्फर सामग्री एंटीबायोटिक गुण देता है, जो विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर पाचन तंत्र को साफ रखने में मदद करती है। यह सामान्य सर्दी जुकाम के खिलाफ लड़ता है और धमनियों की रूकावअ को साफ करके हृदय रोगों को रोकता है। यह त्वचा को निखारता है, चमक लाता है, क्‍यों कि यह पाचन सुधारने में सक्षम है।

 

सर्दी में लहसुन के फायदे 

सर्दी से सुरक्षा 

लहसुन की तासीर गर्म होने के कारण यह ठण्‍ड को दूर करने का कुदरती उपाय है। कई शोध इस बात को साबित कर चुके हैं कि ठंड के दिनों में लहसुन के सेवन से सर्दी नहीं लगती। सर्दियों के मौसम में गाजर, अदरक और लहसुन का जूस बनाकर पीने से शरीर को एंटीबायोटिक्स मिलते हैं और ठंड कम लगती है। सर्दी-जुकाम में लहसुन रामबाण है, इसे दूध में उबालकर पिलाने से बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

दिल को रखे दुरूस्‍त 

उच्‍च रक्‍तचाप को दूर करने में भी लहसुन काफी फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद एलिसिन नामक तत्‍व उच्‍च रक्तचाप को सामान्‍य करने में मदद करते है। उच्‍च रक्तचाप के मरीज अगर नियमित रूप से लहसुन का सेवन करते है तो इससे उनका रक्चाप नार्मल रहता है। 'जर्नल आफ न्यूट्रीशन' के अनुसार, रोजाना लहसुन के सेवन से कोलेस्ट्राल में 10 फीसदी की गिरावट आती है, जिससे हृदयरोगों की संभावना कम हो जाती है।

गर्भावस्‍था के लिए है बेस्‍ट 

गर्भावस्था के दौरान लहसुन का नियमित सेवन मां और शिशु, दोनों के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। यह गर्भ के भीतर शिशु के वजन को बढ़ाने में सहायक है। गर्भवती महिलाओं को लहसुन का सेवन नियमित तौर पर करना चाहिए। गर्भवती महिला को अगर उच्च रक्तचाप की शिकायत हो तो, उसे पूरी गर्भावस्था के दौरान किसी न किसी रूप में लहसुन का सेवन करना चाहिए। यह रक्तचाप को नियंत्रित रख कर शिशु को नुकसान से बचाता है। उससे भावी शिशु का वजन भी बढ़ता है और समय पूर्व प्रसव का खतरा भी कम होता है।

इसे भी पढ़ें: ब्लोटिंग और अपच में बहुत फायदेमंद है मेथी के दाने, जानें प्रयोग करने का सही तरीका

बालों को दे पोषण 

बालों की किसी भी तरह की समस्या चाहे वों  रूसी की हो या जूं कि या फिर बालों के झड़ने की, सभी के लिए लहसुन का जूस वरदान की तरह काम करता है। लहसुन में एलीसिन नाम का सल्फर कंपाउंड होता है जो बालों के झड़ने की समस्या को तो खत्म ही करता है, बाकि परेशानियों का भी इलाज माना जाता है। इसे दिन में दो बार कम बाल वाली जगह पर लगाकर सुखने तक रखना चाहिए। इससे न सिर्फ नए बाल उगते हैं बल्कि रुसी और जूं जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: किडनी खराब कर सकते हैं ज्यादा प्रोटीन वाले आहार, जानें कितना प्रोटीन लेना चाहिए रोज

अन्‍य फायदे 

  • फ्लू यानी इन्फलुएन्जा में सुबह उठकर गर्म पानी के साथ लहसुन और प्याज का रस पीने से फ्लू से निजात मिलता है।
  • लहसुन पूरी तरह से एंटीबायोटिक है। इसलिए फोड़े होने पर लहसुन को पीसकर उसकी पट्टी बांधने से फोड़े मिट जाते हैं।
  • टीबी और खांसी जैसी बीमारियों को दूर करने में लहसुन लाभकारी है। लहसुन के रस की बूंदों को रूई में भिगोकर सूंघने से सर्दी ठीक हो जाती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Diet & Nutrition In Hindi

Disclaimer