ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बैलेंस रखेगा गार्लिक-रागी बिस्किट, जानें बनाने का तरीका

अगर आप अपनी शाम की चाय के साथ कुछ खाने की आदत रखते हैं, तो आप गार्लिक-रागी बिस्किट जैसा कुछ हेल्दी चुन सकते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Feb 06, 2020
ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बैलेंस रखेगा गार्लिक-रागी बिस्किट, जानें बनाने का तरीका

शाम की चाट बहुत से लोगों के लिए रिफ्रेशमेंट होती है। दिन भर की थकान के लिए एक कप चाय के साथ अक्सर लोग कुछ हल्का-फुल्का खाना चाहते हैं। ऐसे में ज्यादातर लोग ऑयली फूड्स की ओर बढ़ जाते हैं। फ्राइट समोसे-पकोड़े या भजिया आदि खाना कई सोरे कैलोरी को एक बार में हूी गेन करने जैसा है। पर इसकी जगह अगर आप अपने वजन को लेकर जागरूक हैं, तो आपको इन सब चीजों को खाने से बचना चाहिए। वहीं अगर आप अपनी डाइट में कुछ बदलाव कर लें, तो वजन कम करना निश्चित रूप से एक मजेदार और आनंददायक मामला हो सकता है। तेल-टपकने वाले समोसे और ब्रेड पकोड़े के बजाय स्वस्थ कुकीज और बिस्किट बना सकते हैं। उदाहरण के लिए, अगर आप उन कुरकुरे रसों और भुजियों के साथ अपनी शाम की चाय की आदत रखते हैं, तो आप इसे घर में हूी बनाकर इस आदत को बदल सकते हैं। लहसुन-रागी बिस्किट आपके चाय के समय के नाश्ते के लिए भी एकदम सही विकल्प हो सकते हैं। वहीं इस बिस्किट को रागी की अच्छाई औरों से अलग बनाती है। आइए जानते हैं इस बनाने का तरीका।

Inside_COOKIES

गार्लिक-रागी बिस्किट बनाने के लिए सामग्री:

  • 60 ग्राम रागी का आटा
  • 70 ग्राम गेहूं का आटा
  • 1/2 चम्मच बेकिंग पाउडर
  • नमक और काली मिर्च स्वाद के लिए
  • आटा गूंधने के लिए पानी
  • 1 बड़ा चम्मच जैतून का तेल

टॉपिंग के लिए सामग्री:

  • 2 बड़े चम्मच जैतून का तेल
  • 1/2 टी स्पून मिर्च 
  • नमक स्वादअनुसार
  • 3 लहसुन लौंग, कुचला हुआ या पिसा हुआ
Inside_BISCUIT

इसे भी पढ़ें : Potato Keema Cutlet: चटपटा खाने का है मन तो चाट-टिक्‍की नहीं, घर पर बनाएं हेल्‍दी- टेस्‍टी पोटैटो कीमा कटलेट

तैयारी:

  • -रागी के आटे को एक पैन में भूरा होने तक भूनें।
  • -सूखी सामग्री को एक साथ मिलाएं- रागी का आटा, पूरे गेहूं का आटा, जड़ी बूटी, बेकिंग पाउडर, नमक और काली मिर्च।
  • -इसमें जैतून का तेल डालें और अच्छे से मिलाएं।
  • -आटा गूंधने के लिए पर्याप्त पानी डालें और इसे 20 मिनट के लिए आराम दें।
  • -इस बीच, ओवन को 180 C पर प्रीहीट करें।
  • -अब आटे का एक छोटा भाग लें और इसे पतली रोटी में रोल करें (लगभग 1/8 इंच मोटी)।
  • -आटा को बेकिंग के दौरान इसमें छेद करें और कुछ टुकड़ो में काट लें।
  • -आठ मिनट तक बेक करें, जब तक वे भूरे और कुरकुरा न हो जाएं। बेकिंग के समय का उपयोग ओवन के साथ भिन्न हो सकता है।
  • -एक बार जब वे काम कर लेते हैं, तो  बिस्किट कमरे के तापमान पर आने दें।
  • -इस बीच, एक छोटे कटोरे में, जैतून का तेल, मिर्च के गुच्छे, नमक और कुचला हुआ लहसुन को एक साथ मिलाएं।
  • -इस मिश्रण को बिस्किट पर ब्रश करें और फिर सर्व करें।
Inside_GARLICFORBISCUIT

इसे भी पढ़ें : प्रोटीन का भंडार हैं ये 8 ड्राई फ्रूट, जानें मुठ्ठीभर ड्राई फ्रूट से मिलने वाली कैलोरी और प्रोटीन की मात्रा

गार्लिक-रागी बिस्किट के फायदे

रागी को वजन कम करने में मदद करने के लिए जाना जाता है। इसमें उच्च आहार फाइबर, कैल्शियम और आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। मधुमेह रोगियों को अक्सर चावल और गेहूं के विकल्प के रूप में रागी का उपयोग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। स्वास्थ्य लाभ के अलावा, यह एक अच्छी भावना भी लाता है क्योंकि इसे खाने के बाद आप हल्का महसूस कर सकते हैं। वहीं लहसुन की खुराक प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को बढ़ावा देने के लिए जानी जाती है। दैनिक तौर लहसुन का सेवन करने से आप सर्दी जुकाम से बचे रह सकते हैं। इसलिए लहसुन-रागी बिस्किट अत्यधिक पौष्टिक होता है और साथ ही साथ इसमें बहुत कम कैलोरी होती है। इसके अन्य फायदों की बात करें, तो

  • -कॉमन सिकनेस, कॉमन कोल्ड सहित कई बीमारियों में भी आप इस खा सकते हैं।
  • -लहसुन में सक्रिय यौगिक रक्तचाप को कम कर सकते हैं। 
  • -लहसुन और रागी कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करता है, जो हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है।
  • -अतिरिक्त तेल और कैलोरी भार से रहित हैं इसलिए खाने के बाद हैवी नहीं लगेगा।
  • -रागी प्रोटीन और फाइबर से भरा होता है, दोनों ही वजन प्रबंधन के लिए काफी आवश्यक हैं।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer