क्या कैंसर के बाद भी हो सकते हैं बच्चे? जानें कैंसर रोगी कैसे बचा सकते हैं अपनी प्रजनन क्षमता

कैंसर के इलाज का बच्चे पैदा करने की क्षमता (प्रजनन क्षमता) पर बुरा असर पड़ता है। कैंसर का इलाज पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है। जानें कैंसर के इलाज के बाद भी आप किस तरह बच्चे पैदा कर सकते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jul 10, 2019
क्या कैंसर के बाद भी हो सकते हैं बच्चे? जानें कैंसर रोगी कैसे बचा सकते हैं अपनी प्रजनन क्षमता

कैंसर एक खतरनाक रोग है, जो किसी भी उम्र में हो सकता है। युवावस्था में कैंसर होने पर व्यक्ति स्वस्थ जीवन की उम्मीद खो देता है। आमतौर पर लोगों का मानना यही है कि कैंसर होने के बाद न तो वो स्वस्थ जीवन जी सकते हैं और न ही बच्चे पैदा कर सकते हैं। मगर ये बात पूरी तरह सही नहीं है। यदि कैंसर की शुरुआत होने पर ही इसका पता चल जाए, तो कैंसर का इलाज आसानी से किया जा सकता है और इलाज के बाद स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है और बच्चे भी पैदा किए जा सकते हैं। आइए आपको बताते हैं कि कैंसर का इलाज किस तरह आपकी प्रजनन क्षमता पर असर डालता है और क्या इलाज के बाद भी आप मां या बाप बन सकते हैं?

क्या कैंसर के इलाज के बाद घट जाती है प्रजजन क्षमता? (Cancer and Infertility)

आज दुनियाभर में 200 से ज्यादा तरह के कैंसर खोजे जा चुके हैं। मगर ज्यादातर कैंसर के मरीज ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, मुंह के कैंसर, टेस्टिकुलर कैंसर, फेफड़ों के कैंसर और स्किन कैंसर आदि के पाए जाते हैं। आप कैंसर के बाद बच्चे पैदा कर पाएंगे या नहीं, ये पूरी तरह इस बात पर निर्भर करता है कि आपके कैंसर का पता किस स्टेज में चला है और आपके कैंसर का इलाज किस तरह किया गया है।

दरअसल कैंसर के इलाज के दौरान जब कैंसर सेल्स (कोशिकाओं) को खत्म किया जाता है, तो कई स्वस्थ कोशिकाएं भी खत्म हो जाती हैं, जिससे कई बार व्यक्ति की प्रजनन क्षमता पर भी असर पड़ता है, खासकर महिलाओं की प्रजनन क्षमता कैंसर के इलाज के दौरान ज्यादा प्रभावित होती है, फिर चाहे कैंसर का इलाज कीमोथैरेपी, रेडिएशन थेरेपी या अन्य किसी तरह से किया जाए।

इसे भी पढ़ें:- ओवरियन कैंसर और सर्वाइकल कैंसर महिलाओं में होने वाले सबसे घातक रोग, जानें लक्षण

कीमोथेरेपी से प्रजजन क्षमता पर असर (Chemotherapy Cancer Treatment and Fertility)

कीमोथेरेपी कैंसर का इलाज का सबसे पॉपुलर और सस्ता तरीका है। कीमोथैरेपी के दौरान मरीज को कुछ ऐसी दवाएं दी जाती हैं, जो कैंसर कोशिकाओं के डीएनए (DNA) को खराब कर देती हैं, जिससे वो फैल न पाएं। मगर यही दवाएं कई बार प्रजनन अंगों पर बुरा असर दिखाती हैं और व्यक्ति की प्रजनन क्षमता खत्म कर सकती हैं।

रेडिएशन थेरेपी से प्रजनन क्षमता पर असर (Radiotherapy Cancer Treatment and Fertility)

अगर कैंसर व्यक्ति के पेट, पेल्विक या प्रजनन अंगों के आसपास है, तो रेडिएशन थेरेपी से स्पर्म (वीर्य) और अंडे दोनों को नुकसान पहुंचता है। रेडिएशन थेरेपी से इलाज करने पर महिलाओें का गर्भाशय डैमेज हो सकता है, जबकि पुरुषों का स्पर्म काउंट घट सकता है। कई बार ये क्षमताएं इलाज के बाद भी वापस नहीं आती हैं, इसलिए रोगी बच्चा नहीं पैदा कर पाता है।

सर्जरी से इलाज करने पर (Surgery and Fertility)

कैंसर के ट्यूमर का पता शुरुआती अवस्था में चलने पर सर्जरी के द्वारा इसका इलाज किया जाता है। मगर कई बार कैंसर प्रजनन अंगों के आसपास होता है, जिससे कैंसर से बचने के लिए डॉक्टर को प्रजनन अंगों को भी निकालना पड़ता है, ऐसे में फिर रोगी बच्चे नहीं पैदा कर सकता है।

इसे भी पढ़ें:- किडनी कैंसर से पहले शरीर में दिखते हैं ये 8 लक्षण, रहें सावधान

कैंसर के इलाज के बाद कैसे बचाएं प्रजनन क्षमता? (Preserving Fertility after Cancer Treatment)

अगर किसी पुरुष या महिला को युवावस्था में ही कैंसर हो गया है, तो कैंसर के इलाज से पहले वे अपने डॉक्टर से कुछ बातों की जानकारी ले कर बच्चे पैदा करने के तरीकों के बारे में जान सकते हैं। डॉक्टर से इन सवालों का जवाब पूछें-

  • कैंसर के इलाज के लिए जो ट्रीटमेंट होने जा रहा है, क्या वो मेरी प्रजनन क्षमता पर असर डालेगा?
  • क्या डॉक्टर किसी तरह से प्रजजन क्षमता को बचाने के लिए कोई प्रयास कर सकते हैं?
  • क्या कुछ सावधानियां बरतकर प्रजजन क्षमता को नष्ट होने से बचया जा सकता है?

पुरुषों के लिए कैंसर के इलाज के बाद बच्चे पैदा करना (Preserving Fertility after Cancer Treatment in Male)

अगर कैंसर प्रजनन अंग के आसपास है, तो प्रजनन क्षमता को बचाना मुश्किल होता है। कीमोथेरेपी का असर रोका नहीं जा सकता है, ऐसे ही सर्जरी के दौरान अगर प्रजनन अंग को निकालना है, तो इसे भी नहीं रोका जा सकता है। मगर रेडिएशन थेरेपी में एंटी रेडिएशन पर्त लगाकर प्रजजन क्षमता को नष्ट होने से बचाया जा सकता है।

इसके अलावा पुरुष चाहें तो अपने स्पर्म (वीर्य) को स्पर्म बैंक में जमा करके रख सकते हैं, जिससे बाद में उसके इस्तेमाल से बच्चे पैदा हो सकें।

महिलाओं के लिए कैंसर के इलाज के बाद बच्चे पैदा करना (Preserving Fertility after Cancer Treatment in Female)

महिलाएं चाहें तो अंडों को फ्रीज करवाकर रख सकती हैं या ओवरियन टिशूज को सुरक्षित रखकर बाद में गर्भवती हो सकती हैं, मगर ये बहुत ज्यादा मुश्किल होता है क्योंकि ज्यादातर अस्पतालों में इस तरह की सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। इसके अलावा कई बार डॉक्टर इन तरीकों के लिए इसलिए भी मना करते हैं क्योंकि इन कोशिकाओं और स्पर्म को दोबारा शरीर में डालने पर कैंसर सेल्स के फिर से पनपने का खतरा होता है।

हालांकि आपको इस बारे में आशा बिल्कुल नहीं खोनी चाहिए कि आप कैंसर के इलाज के बाद मां-बाप नहीं बन सकते, क्योंकि आपकी प्रजजन क्षमता इस बात पर निर्भर करती है कि आपको किस अंग में कैंसर है और इलाज के दौरान किन कोशिकाओं को नष्ट किया जाएगा। इसलिए अपने डॉक्टर से इस बारे में गहराई से पूछताछ करें और विकल्पों के बारे में पूछें।

Read more articles on Cancer in Hindi

Disclaimer